सीरिया: केमिकल हमले की जगह पहुंचा जांच दल

  • 22 अप्रैल 2018
केमिकल हमले की जगह इमेज कॉपीरइट EPA/YOUSSEF BADAWI

सीरिया में राजधानी दमिश्क के नज़दीक डूमा में कथित रासायनिक हमले की जगह पर आख़िरकार अंतरराष्ट्रीय रासायनिक हथियारों के विशेषज्ञ पहुंच गए हैं और उन्होंने जगह का जायज़ा लिया है.

ऑर्गनाइज़ेशन फ़ॉर द प्रोहिबिशन ऑफ़ केमिकल वीपन्स (ओपीसीडब्ल्यू) ने सीरिया के डूमा में जाकर वहां से नमूने और अन्य सबूत इकट्ठा किए हैं.

डूमा में फिलहाल सीरिया और रूस का नियंत्रण है और दोनों ने किसी तरह के रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल से इनकार किया है.

बताया जा रहा है कि 7 अप्रैल को हुए रासायनिक हमले में 40 से अधिक लोगों की मौत हो गई थी. इन कथित रासायनिक हमले को मुद्दा बनाते हुए कई बार संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में चर्चा और आरोपों का दौर चला जिसके बाद अमरीका, फ्रांस और ब्रिटेन ने सीरिया पर मिसाइलें दाग़ी.

सीरिया में वो तीन जगहें जहां गिराईं अमरीका ने मिसाइलें?

आख़िर कितने ख़तरनाक होते हैं रासायनिक हथियार

इमेज कॉपीरइट JOHN THYS/AFP/Getty Images

ओपीसीडब्ल्यू ने एक प्रेस रिलीज़ में कहा है कि उनकी टीम में हमले की जगह का निरीक्षण किया और इकट्ठा किए गए नमूने जांच के लिए द हेग के रिजस्विक में मौजूद अपने लैब में भेजे हैं.

ओपीसीडब्ल्यू ने कहा है कि हमले की जगह से जांचकर्ताओं ने कुछ अन्य सामान भी इकट्ठा किया है.

आईटीवी के एक संवाददाता ने ओपीसीडब्ल्यू की टीम के डूमा से वापिस दमिश्क जाने का वीडियो बनाया है.

सीरिया पर रूसी विदेश मंत्री ने दी गारंटी

सीरिया पर हमले से जुड़े ये 7 बड़े सवाल

बीते एक सप्ताह से दमिश्क में नौ सदस्यों की ओपीसीडब्ल्यू की जांच टीम डूमा में हमले की जगह पर जाने का इंतज़ार कर रही थी.

ये टीम बीते बुधवार को इलाके का दौरा करने वाली थी लेकिन मंगलवार को स्थिति का जायज़ा लेने गए संयुक्त राष्ट्र के एक दल पर हमला होने के बाद इस दौरे को टाल दिया गया था.

पश्चिमी देशों के अधिकारियों का कहना है कि उन्हें डर है कि रसायनिक हमले की जगह पर सबूतों के साथ छेड़छाड़ की गई हो सकती है.

सीरिया के मैदान-ए-जंग में आख़िर चल क्या रहा है

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption द हेग में ओपीसीडब्ल्यू के दफ्तर में बुलेट प्रूफ जैकेट और हेलमेट रखे गए हैं जिसे ऐसे दौरों के लिए इस्तेमाल किया जाता है

डूमा बीते कुछ वक्त से हमले के केंद्र में रहा है. हाल तक रूस के समर्थन में सीरियाई सेना ने दमिश्क के नज़दीक डूमा में विद्रोहियों को निकालने के लिए हमले किए गए थे. यहां अब भी इमारतों के मलबे के ढ़ेर लगे हुए हैं और इस कारण यहां जांच करने जाना भी ख़तरे से खाली नहीं है.

7 अप्रैल के बाद रूसी सेना के साथ हुए एक समझौते के तहत विद्रोहियों ने यहां से बाहर निकलने का फ़ैसला किया.

हालांकि इस बात का संदेह जताया जा रहा है कि यहां रासायनिक हथियारों के फोरेंसिक सबूतों को मिटाने की कोशिशें की जा सकती हैं, लेकिन कई विदेशी पत्रकार पहले से ही इस शहर का दौरा कर चुके हैं.

'प्रतिशोध की भावना के साथ शीत युद्ध की हुई वापसी'

'सीरिया को लेकर अमरीका के साथ युद्ध के हालात बन सकते हैं'

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
केमिकल हमले की जांच

रूसी विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर ओपीसीडब्ल्यू पर आरोप लगाया है कि वो कथित हमले की जगह में जांच दल भेजने में देरी कर रही है.

रूस ने मांग की है कि "अधिकतम निष्पक्षता के साथ मामले की जांच" और जितनी जल्दी हो सके अपनी "रिपोर्ट" देने की मांग की है.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
अमरीका, फ़्रांस और ब्रिटेन ने शनिवार सुबह सीरिया में अलग-अलग सरकारी ठिकानों पर बमबामी शुरू

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए