कोरिया: किम जोंग-उन की ये तस्वीर जो बन गई इतिहास

  • 27 अप्रैल 2018
इमेज कॉपीरइट Korea Summit Press Pool/Getty Images

उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन से मुलाक़ात करने के लिए दक्षिण कोरिया पहुंच गए हैं.

साल 1953 में कोरियाई युद्ध के बाद (जब कोरियाई प्रायद्वीप दो हिस्सों में बंट गया था) ये पहला मौक़ा है, जब किसी उत्तर कोरियाई नेता ने दक्षिण कोरियाई ज़मीन पर पैर रखा है.

दोनों नेताओं के बीच शिखर वार्ता पनमुनजोम में बने पीस हाउस में होगी जो दक्षिण कोरिया में पड़ने वाले असैन्य क्षेत्र में मौजूद है.

LIVE: ऐतिहासिक मुलाक़ात के लिए दक्षिण कोरिया पहुँचे किम जोंग उन

उत्तर कोरिया, दक्षिण कोरिया, कम जोंग उन, मून जे-इन इमेज कॉपीरइट Korea Summit Press Pool/Getty Images

पनमुनजोम में सैन्य सीमारेखा पार करने के बाद दोनों नेताओं ने कुछ वक्त के लिए उत्तर कोरिया की सीमा में कदम रखा और फिर दक्षिण कोरिया में बने पीस हाउस की तरफ बढ़ गए जहां दोनों के बीच बातचीत होनी है.

दुनिया की सबसे 'ख़तरनाक जगह', जहां दोनों कोरिया मिले

इन मुद्दों पर बात कर सकते हैं किम जोंग-उन और मून जे-इन

उत्तर कोरिया, दक्षिण कोरिया, कम जोंग उन, मून जे-इन इमेज कॉपीरइट EPA/KOREA SUMMIT PRESS POOL
उत्तर कोरिया, दक्षिण कोरिया, कम जोंग उन, मून जे-इन इमेज कॉपीरइट Reuters
उत्तर कोरिया, दक्षिण कोरिया, कम जोंग उन, मून जे-इन इमेज कॉपीरइट KOREAN BROADCASTING SYSTEM/AFP/Getty Images

कोरियाई सरकारी टेलीविज़न ने एक वीडियो जारी किया है जिसमें किम जोंग-उन सैन्य सीमारेखा पर करने के बाद बच्चों के साथ दिख रहे हैं.

उत्तर कोरिया, दक्षिण कोरिया, कम जोंग उन, मून जे-इन इमेज कॉपीरइट AFP PHOTO / CCTV

उत्तर कोरियाई नेता कार से सीमा तक पहुंचे जहां से वो अपने प्रतिनिधि मंडल के साथ पैदल पीस हाउस तक पहुंचे

उत्तर कोरिया, दक्षिण कोरिया, कम जोंग उन, मून जे-इन इमेज कॉपीरइट PA/KOREA SUMMIT PRESS POOL

समाचार एजेंसी एएफ़पी के मुताबिक़ मून जे-इन ने किम जोंग-उन से कहा, "मैं आपसे मिलकर खुश हूं."

दोनों नेताओं के बीच बातचीत में उत्तर कोरिया के विवादास्पद परमाणु कार्यक्रम को लेकर बातचीत होने की उम्मीद है.

उत्तर कोरिया, दक्षिण कोरिया, कम जोंग उन, मून जे-इन इमेज कॉपीरइट Reuters

इस वार्ता के लिए उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग-उन अपने साथ एक ख़ास प्रतिनिधिमंडल ले कर गए हैं. माना जा रहा है कि प्रतिनिधिमंडल में जो लोग शामिल हैं वो किम जोंग-उन के भरोसेमंद हैं.

इनके बारे में दक्षिण कोरिया का कहना है कि उन्होंने कभी उत्तर कोरिया के ऐसे वरिष्ठ प्रतिनिधिमंडल का अपने देश में स्वागत नहीं किया है.

उत्तर कोरिया, दक्षिण कोरिया, कम जोंग उन, मून जे-इन इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption दोनों नेता अपने प्रतिनिधिमंडल के साथ इस ऐतिहासिक पल की तस्वीर में क़ैद करते हुए
उत्तर कोरिया, दक्षिण कोरिया, कम जोंग उन, मून जे-इन इमेज कॉपीरइट Chung Sung-Jun/Getty Images

दक्षिण कोरिया में लाखों लोगों ने टेलीविज़न पर इस ऐतिहासिक क्षण को देखा. इस मुलाक़ात का सीधा प्रसारण टेलीविज़न पर लाइव किया जा रहा है.

उम्मीद जताई जा रही है कि इस बैठक में कोरियाई युद्ध के कारण अलग हुए 60,000 लोगों और उनके परिवारों पर भी चर्चा होगी. साथ ही उत्तर कोरिया में हिरासत में रखे गए विदेशियों की रिहाई के बारे में भी चर्चा हो सकती है.

उत्तर कोरिया, दक्षिण कोरिया, कम जोंग उन, मून जे-इन इमेज कॉपीरइट Reuters

इस मौक़े पर किम जोंग-उन और मून जे-इन ने चीड़ का पेड़ लगाया. इसके लिए दोनों देशों से लाई गई मिट्टी और पानी का इस्तेमाल किया गया.

उत्तर कोरिया, दक्षिण कोरिया, कम जोंग उन, मून जे-इन इमेज कॉपीरइट European Photopress Agency
उत्तर कोरिया, दक्षिण कोरिया, कम जोंग उन, मून जे-इन इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे