'कम कपड़ों में' दिखीं WWE महिला रेसलर, सऊदी अरब में हंगामा

wwe रेसलिंग इमेज कॉपीरइट AFP/GETTY
Image caption मिडल ईस्ट में काफ़ी लोकप्रिय है रेसलिंग

सऊदी अरब के खेल प्रशासन ने रेसलिंग के प्रसारण के दौरान 'कम कपड़ों वाली' महिला रेसलर के दिखने पर माफ़ी मांगी है.

जेद्दाह में वर्ल्ड रेसलिंग एंटरटेनमेंट (डब्ल्यूडब्ल्यूई) के 'ग्रेटेस्ट रॉयल रंबल' कार्यक्रम के दौरान यह घटना हुई.

इस कार्यक्रम में किसी भी महिला रेसलर को भाग नहीं लेने दिया गया मगर एक प्रमोशनल वीडियो में महिला रेसलर वाले हिस्से का प्रसारण हो गया.

यह प्रमोशनल वीडियो फ़ाइट के दौरान एरीना में लगी विशाल टीवी स्क्रीन पर नज़र आया. इसके तुरंत बाद सरकारी चैनल ने प्रसारण रोक दिया.

सऊदी अरब की सामान्य स्पोर्ट्स अथॉरिटी ने प्रसारित हुए इस दृश्य को 'अभद्र' बताते हुए खेद प्रकट किया है.

अरब मामलों के बीबीसी संपादक सबेस्टियन अशर का नज़रिया:

सऊदी अरब में रेसलिंग के इस तरह के कार्यक्रम के आयोजन के बारे में सोचना भी कभी मुश्किल था.

मगर पिछले एक-दो सालों में यह मनोरंजक गतिविधि सऊदी अरब में आई और इस साल पहली बार यहां इसका आयोजन हुआ.

मगर कई सऊदी चैनलों पर लाइव प्रसारित किए गए इस कार्यक्रम ने कई स्थानीय लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचा दी, जब स्क्रीन पर महिला रेसलर्स वाली प्रमोशनल फ़िल्म दिखाई गई.

सरकारी टीवी ने कवरेज को तुरंत ही बंद कर दिया था मगर बावजूद इसके सोशल मीडिया पर उसे कट्टरपंथी सऊदी लोगों की आलोचना झेलनी पड़ी.

कविता देवी: भारत की पहली महिला WWE पहलवान

WWE के लिए तैयार हो रही हैं भारत की लड़कियां

Image caption प्रतीकात्मक तस्वीर

WWE की आलोचना

इस कार्यक्रम को लेकर WWE को इस बात के लिए आलोचना का सामना करना पड़ा था कि उसने सऊदी पंरपरा के आगे झुकते हुए महिला पहलवानों को इस इवेंट से दूर रखा.

इस कार्यक्रम के दौरान रची गई सऊदी अरब और ईरान की लड़ाई को लेकर भी मिली-जुली प्रतिक्रिया देखने को मिली.

सऊदी रेसलर्स ने आसानी से अपने प्रतिद्वंद्वियों को हरा दिया मगर कुछ लोग इस बात से हैरान थे कि स्टेडियम के अंदर ईरान के झंडे लहराने दिए गए.

हालांकि अन्य लोगों ने यह भी माना कि इसके पीछे सऊदी अरब की तरफ़़ से खाड़ी साम्राज्य की ही सोची समझी चाल थी.

लोकप्रिय है रेसलिंग

इस कार्यक्रम को लेकर WWE को इस बात के लिए आलोचना का सामना करना पड़ा था कि उसने सऊदी पंरपरा के आगे झुकते हुए महिला पहलवानों को इस इवेंट से दूर रखा.

इस कार्यक्रम के दौरान 60 हज़ार सीटों वाला किंग अब्दुल्ला स्पोर्ट्स सिटी स्टेडियम पुरुषों, महिलाओं और बच्चों से भरा हुआ था. हालांकि महिलाएं तभी आ सकती थीं जब उनके साथ कोई पार्टनर हो.

इस फ़ाइट की फ़डिंग कथित तौर पर सऊदी जनरल स्पोर्ट्स अथॉरिटी ने की थी, जिसने WWE के साथ एक क़रार किया है.

रेसलिंग मध्य पूर्व में बहुत लोकप्रिय है. WWE की एक अरबी वेबसाइट भी है और यह संगठन इस क्षेत्र के अन्य देशों में भी मैचों का आयोजन करता है.

सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान देश में सुधार लाने में जुटे हुए हैं और हाल ही में महिलाओं को ड्राइविंग करने और सेना में शामिल होने का अधिकार दिया गया है.

मगर कुछ लोगों ने WWE की इस बात के लिए आलोचना की कि शो में महिला रेसलर नहीं रखी गईं. वह भी तब, जब हाल ही में संगठन ने महिला रेसलर्स को फ़ाइट में ज़्यादा तरजीह देने के लिए तारीफ़ बटोरी थी.

लेकिन सऊदी में हुए इस इवेंट को बहुत सी महिला रेसलर घर पर बैठकर देख रही थीं, जबकि उनके पुरुष सहयोगी इसमें हिस्सा ले रहे थे.

कविता देवी: खली की शिष्या है ये महिला पहलवान

अंडरटेकर इतने क्यों ख़ास हैं?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे