फिलीपींस ने कुवैत को मज़दूर भेजने पर लगाया स्थाई प्रतिबंध

  • 30 अप्रैल 2018
फ़िलीपींस इमेज कॉपीरइट Reuters

फिलीपींस की घरेलू सहायिका की हत्या के बाद राष्ट्रपति रोड्रिगो डुटर्टे ने अपने देश के मज़दूरों की कुवैत की यात्रा पर स्थाई तौर पर प्रतिबंध लगाने का फ़ैसला लिया है.

इस खाड़ी देश में मज़दूर भेजने पर डुटर्टे ने फ़रवरी में अस्थाई प्रतिबंध लगाया था.

फिलीपींस के डवाओ में रविवार को डुटर्टे ने कहा, "प्रतिबंध स्थाई तौर पर होगा और लोगों को वहां रोज़गार के लिए नहीं भेजा जाएगा, ख़ासतौर से घरेलू सहायकों को तो बिलकुल नहीं भेजा जाएगा."

कुवैत में मौजूद फ़िलीपींस के लोगों के रोज़गार को डुटर्टे ने प्रलयंकारी बताया है.

उन्होंने अपने देश के नागरिकों से अपील की है कि वह तेल से संपन्न देश में न रहें.

फिलीपींस के फैसले पर कुवैत ने तत्काल कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है. फिलीपींस के विदेश विभाग के मुताबिक कुवैत में अभी फिलीपींस के लगभग 2 लाख 60 हज़ार नागरिक काम कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

डुटर्टे ने कहा, "हमारी ग़रीबी की परवाह किए बिना घर आइये. हम साथ रहेंगे. हमारी अर्थव्यवस्था अच्छी है और हमारे पास मज़दूरों की कमी है."

डुटर्टे ने वादा किया है कि जब वह लोग वापस आ जाएंगे तो वह उन्हें सहायता मुहैया कराएंगे.

हालांकि, फिलीपींस और कुवैत अभी रोज़गार के मसले पर समझौते के लिए बातचीत कर रहे हैं. फिलीपींस के अधिकारियों को उम्मीद है कि इससे स्थाई प्रतिबंध को हटा लिया जाएगा लेकिन दोनों पक्षों के बीच बढ़ते तनाव को देखते हुए इसके आसार कम नज़र आ रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption राष्ट्रपति डुटर्टे ने कहा है कि वह मज़दूरों की हर संभव सहायता करेंगे

कुवैत ने राजदूत को किया था निष्कासित

दरअसल, हाल में कुवैत ने देश में मौजूद फ़िलीपींस के राजदूत को निष्कासित कर दिया था और फिलीपींस में मौजूद अपने राजदूत को वापस बुला लिया था.

कुवैत में फिलीपींस के दूतावास का एक वीडियो भी सामने आया था जिसमें दूतावास के कर्मचारी कथित तौर पर मालिकों द्वारा सताए गए लोगों को 'बचाने' में मदद कर रहे थे.

कुवैत ने इस कार्रवाई की निंदा करते हुए इसे अपनी संप्रभुता का उल्लंघन बताया था और इसे दूतावास द्वारा घरेलू सहायकों की तस्करी माना था.

कुवैत में फिलीपींस के राजदूत रेनाटो पेड्रो विला ने समाचार एजेंसी एएफ़पी से कहा है कि वह बुधवार को यह देश छोड़कर चले जाएंगे.

दोनों देशों के बीच विवाद तब पैदा हुआ जब कुवैत के एक घर में फिलीपींस की घरेलू सहायिका का शव पाया गया था.

इस मामले में कुवैत की अदालत ने लेबनानी मूल के एक व्यक्ति और उसकी सीरियाई पत्नी को मौत की सज़ा सुनाई है.

ये भी पढ़ें:

पाकिस्तान की कृष्णा: हिंदू मज़दूर की बेटी जो बनी सीनेट की उम्मीदवार

'अफ़राजुल की ग़लती थी कि वो मज़दूर थे, मजबूर थे, मुसलमान थे'

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे