अर्मेनिया संकट: विपक्ष का नेता अंतरिम प्रधानमंत्री बनने की राह पर

निकोल पाशिनयान इमेज कॉपीरइट Reuters

अर्मेनिया मे विपक्ष के नेता निकोल पाशिनयान ने देश भर में चल रहे सरकार विरोधी प्रदर्शनों को स्थगित कर दिया है.

उनका ये क़दम सत्तारूढ़ पार्टी के इस संकेत के बाद आया है कि वो पाशिनयान को अंतरिम प्रधानमंत्री बनने में साथ देंगे.

बुधवार को हुए भीषण प्रदर्शनों से अर्मेनिया ठहर सा गया था.

विपक्ष के नेता ने कहा कि सत्तारूढ़ दल को अपनी स्थिति और साफ़ करनी चाहिए. उन्होंने कहा कि वो एक दिन तक प्रदर्शन स्थगित रखेंगे.

मंगलवार को पाशिनयान ने जब अंतरिम प्रधानमंत्री बनने का प्रयास किया था तो सत्तारूढ़ पार्टी ने उनका विरोध किया था.

इकलौते उम्मीदवार

इमेज कॉपीरइट Reuters

बुधवार को जारी बयान में सत्तारूढ़ रिपब्लिकन पार्टी ने कहा कि वो अंतरिम प्रधानमंत्री के पद के लिए अपना कोई उम्मीदवार नहीं उतारेंगे.

इस बयान के बाद पाशिनयान एकमात्र उम्मीदवार बचे हैं और उनका चुना जाना तय है.

राजधानी येरावान में अपने समर्थकों की भीड़ से मुख़ातिब होकर निकोल पाशिनयान ने कहा, "मामला सुलझ गया है. संसद में सभी धड़े कह रहे हैं कि वो मेरी उम्मीदवारी का समर्थन करेंगे. इसलिए हम विरोध-प्रदर्शन बंद कर रहे हैं."

अर्मेनिया में कई हफ़्तों के सरकार विरोधी प्रदर्शन जारी हैं. इन प्रदर्शनों की वजह से ही दस साल सत्ता में रहने के बाद सर्ज़ सार्गस्यान ने पद छोड़ना पड़ा था.

अब क्या होगा

इमेज कॉपीरइट Reuters

अब आठ मई को यहां संसद की बैठक होगी जिसमें अंतरिम प्रधानमंत्री का चुनाव होगा.

पाशिनयान गुरुवार को अपनी उम्मीदवारी की औपचारिक घोषणा करेंगे. उन्होंने बीबीसी से कहा कि उनके समर्थक अपने अधिकारों और आत्मसम्मान के लिए लड़ रहे हैं.

निकोल पाशिनयान ने कहा, "मैं एक बात साफ़ कर देना चाहता हूं. ये लड़ाई मुझे प्रधानमंत्री बनाने के लिए नहीं है. ये जंग लोकतंत्र और मानवाधिकारों की हिफ़ाज़त के लिए है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)