स्टीफ़न हॉकिंग का अंतिम शोध: अनंत अंतरिक्ष में टहल रहे हैं डायनासोर

  • 3 मई 2018

अनंत अंतरिक्ष में ऐसी जगह भी हो सकती है जहां हमारी धरती जैसे ग्रह हों और जिन पर डायनासोर अब भी मौजूद हों और प्राचीन मानव अब भी शिकार कर रहे हों.

ऐसे खगोलीय पिंड भी हो सकते हैं जो हमारे ग्रह से बिलकुल अलग हों, जिनके पास तारें, सूर्य या गैलेक्सी न हों लेकिन वहां भी भौतिकी के ठीक ऐसे ही नियम हों जैसे हमारी धरती पर हैं.

ये किसी साइंस फ़िक्शन फ़िल्म की कहानी नहीं हैं. बल्कि महान दिवंगत वैज्ञानिक स्टीफ़न हॉकिंग की अपनी मौत से कुछ दिन पहले पेश की गई थ्योरी में दिए गए विचार हैं.

इसे जर्नल ऑफ़ हाई एनर्जी फ़िज़िक्स में प्रकाशित किया गया है.

प्रोफ़ेसर स्टीफ़न हॉकिंग के इस अंतिम शोध पत्र से पता चलता है कि हमारा ब्रह्मांड कई ऐसे ही ब्रह्मांडों में से एक हो सकता है.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
अलविदा स्टीफ़न हॉकिंग

प्रोफ़ेसर स्टीफ़न हॉकिंग का इसी साल मार्च में देहांत हुआ है. ये शोधपत्र उन्होंने अपनी मौत से दस दिन पहले ही पेश किया था.

इस नई थ्योरी से उनका अपने दिए हुआ कॉस्मिक विरोधाभास के जवाब मिलते हैं.

स्टीफ़न हॉकिंग ने दुनिया को क्या-क्या दिया?

भगवान के बारे में क्या कहते थे स्टीफ़न हॉकिंग?

इमेज कॉपीरइट DETLEV VAN RAVENSWAAY/SCIENCE PHOTO LIBRARY
Image caption हो सकता है कि बिग बैंग से कई ब्रह्मांड पैदा हुए हों

1980 के दशक में हॉकिंग ने अमरीकी भौतिकशास्त्री जेम्स हॉर्टल ने ब्रह्मांड के निर्माण के बारे में एक नया विचार पेश किया था.

इसने अल्बर्ट आइंस्टीन की उस थ्योरी के समाधान दिए थे जिसमें कहा गया था कि ब्रह्मांड का निर्माण 14 अरब साल पहले हुआ था. हालांकि आइंस्टीन ने ये नहीं बताया था कि ये हुआ कैसे था.

दूसरी ओर हार्टल-हॉकिंग ने क्वांटम मैकेनिक्स थ्योरी से बताया था कि कैसे शून्य से ब्रह्मांड का निर्माण हुआ था.

इस विचार से एक सवाल का जवाब तो मिल गया था लेकिन दूसरा सवाल खड़ा हो गया था- कुछ लोग कह सकते थे कि एक नहीं बल्कि अनंत ब्रह्मांडों का निर्माण हुआ.

भौतिक शास्त्रियों ने जब इस विचार की समीक्षा की तो एक नतीजा ये भी निकला कि बिग बैंग से सिर्फ़ एक ब्रह्मांड का नहीं हुआ बल्कि एक अनंत सिलसिला शुरू हुआ.

हार्टल-हॉकिंग की थ्योरी के मुताबिक इनमें से कई ब्रह्मांड बिलकुल हमारे जैसे हो सकते हैं जिनमें धरती जैसे ग्रह होंगे. सिर्फ़ ग्रह ही नहीं हमारे जैसे समाज और लोग भी हो सकते हैं.

कुछ ब्रह्मांड थोड़े अलग हो सकते हैं, जिनमें धरती जैसे ग्रह होंगे और जहां डायनासोर अब भी मौजूद होंगे. जबकि कुछ ब्रह्मांड ऐसे भी होंगे जिनके ग्रह धरती से बिलकुल अलग होंगे, वहां सूर्य या तारे नहीं होंगे लेकिन भैतिकी के नियम हमारे जैसे ही होंगे.

ये विचार भले ही बहुत जटिल लगता हो लेकिन इस नई थ्योरी में सैद्धांतिक रूप से ऐसा संभव लगता है.

'बहुत ज़्यादा सवाल करते थे स्टीफ़न हॉकिंग'

मुंबई में स्टीफ़न हॉकिंग जब बॉलीवुड के गाने पर नाचे थे

इमेज कॉपीरइट NASA/SCIENCE PHOTO LIBRARY
Image caption प्रोफ़ेसर हॉकिंग के अंतिम शोधपत्र से शोधकर्ताओं को नए ब्रह्मांड खोजने में मदद मिल सकती है

इससे एक संकट ये पैदा होता है कि अगर अनंत प्रकार के ब्रह्मांड हैं और वहां अनंत तरह के भौतिकी नियम हैं तो इस थ्यौरी से ये संभावना नहीं पता की जा सकती की हम अपने आप को किस ब्रह्मांड में पाएंगे.

प्रोफ़ेसर हॉकिंग ने बेल्जियम की केयू ल्यूवेन से जुड़े प्रोफ़ेसर थॉमस हर्टोग के साथ मिलकर शोध किया. यूरोपियन रिसर्च काउंसिल ने इस विरोधाभास का समाधान करने का खर्च उठाया है.

प्रोफ़ेसर हर्टोग ने बीबीसी से कहा, "ना ही मैं और न ही हॉकिंग इस सिनेरियो से ख़ुश थे."

"ये कहता था कि मल्टिवर्स अचानक पैदा हुआ और हम इसके बारे में इससे ज़्यादा बहुत कुछ नहीं कह सकते हैं. हमने एक दूसरे से कहा- संभवतः हमें इसके साथ ही जीना पड़े. लेकिन हम हार मानने वाले नहीं थे."

प्रोफ़ेसर हॉकिंग का अंतिम शोधपत्र प्रोफ़ेसर हर्टोग के साथ उनके बीस साल के काम का नतीजा है.

उन्होंने नई गणीतीय तकनीकें विकसित कर इस पहेली को सुलझाया है. ये तकनीक स्टिंग थ्योरी नाम की एक और भौतिकी शास्त्र की शाखा के अध्य्यन के लिए विकसित की गई है.

इमेज कॉपीरइट DETLEV VAN RAVENSWAAY/SCIENCE PHOTO LIBRARY

ये तकनीकें शौधकर्ताओं को भौतिकी के सिद्धांतों को नए नज़रिए से देखने का मौका देते हैं. हार्टल-हॉकिंग के नए शोधपत्र के नए आकलन इस अराजक मल्टीवर्स में कुछ स्थायित्व लाने की कोशिश करते हैं.

नए हॉकिंग-हर्टोग आंकलन से संकेत मिलते हैं कि सिर्फ़ वही ब्रह्मांड हो सकते हैं जहां भौतिकी के नियम हमारे ब्रह्मांड जैसे ही हों.

इस अनुमान का मतलब ये है कि हमारा ब्रह्मांड एक नमूना है और हम यहां अपने नज़रिए से जो अवलोकन करते हैं उससे हमें दूसरे ब्रह्मांडों के निर्माण के बारे में अपने विचारों को विकसित करने में मदद मिलेगी.

प्रोफ़ेसर हर्टोग कहते हैं, "ये विचार चौंकाने वाले हैं. भौतिकशास्त्री जब ब्रह्मांड के निर्माण के बारे में एक पूर्ण सिद्धांत को विकसित करेंगे तब ये उनके लिए वास्तविक मददगार साबित होगी."

वो कहते हैं, "हम अपनी लैब में भौतिकी के जिन नियमों का परीक्षण करते हैं वो हमेशा के लिए नहीं हैं. बिग बैंग के बाद जब ब्रह्मांड का विस्ता हुआ और ठंडा हुआ. भौतिकी के जो नियम विकसित हुए वो बहुत हद तक बिग बैंग के समय के दौरान रही भौतिक स्थितियों पर निर्भर करते हैं. इसका अध्ययन करके हम ये जानना चाहते हैं कि हमारे भौतिक सिद्धांत कहां से आए, ये कैसे शुरू हो और क्या ये अपना आप में सबसे अनूठे हैं?"

प्रोफ़ेसर हर्टोग कहते हैं कि इस थ्यौरी से भौतिकशास्त्रियों को अन्य ब्रह्मांड खोजने में मदद मिलेगी. वो कहते हैं कि बिग बैंग के समय के माइक्रोवेब रेडिएशन का अध्ययन करके इन ब्रह्मांडों का पता लगाया जा सकता है.

हालांकि हर्टोग को ये नहीं लगता कि एक ब्रह्मांड से दूसरे ब्रह्मांड में जाया जा सकता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए