ईरान के साथ परमाणु समझौते से अमरीका अलग होगा या नहीं?

  • 8 मई 2018
राष्ट्रपति ट्रंप इमेज कॉपीरइट AFP GETTY

ईरान के साथ हुए अंतरराष्ट्रीय परमाणु समझौते से अमरीका अलग होगा या नहीं, राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप मंगलवार को इसकी घोषणा करेंगे.

राष्ट्रपति बनने के बाद से ही डोनल्ड ट्रंप, ईरान के साथ हुए अंतरराष्ट्रीय समझौते के मुखर विरोधी रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Twitter

अमरीका, ब्रिटेन, फ्रांस, रूस और चीन के अलावा जर्मनी के साथ हुए इस समझौते के मुताबिक ईरान अपना परमाणु कार्यक्रम बंद करने के लिए राज़ी हुआ था. बदले में ईरान पर लंबे समय से लगे आर्थिक प्रतिबंधों में ढील दी गई थी.

समझौते पर दस्तख़त करने वाले ब्रिटेन, फ्रांस और जर्मनी का कहना है कि वे राष्ट्रपति ट्रंप से कहेंगे कि वो इस समझौते से अलग न हो.

इन देशों ने ये संकेत भी दिया है कि राष्ट्रपति ट्रंप चाहे जो फ़ैसला करें, वे ईरान के साथ हुए समझौते पर कायम रहेंगे.

ब्रिटेन की कोशिश, परमाणु समझौता न तोड़े अमरीका

'अमरीका को पछताना होगा'

इमेज कॉपीरइट Reuters

ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी कह चुके हैं कि राष्ट्रपति ट्रंप ने ईरान के साथ परमाणु समझौता खत्म किया तो अमरीका को ऐतिहासिक रूप से पछताना होगा.

लेकिन राष्ट्रपति ट्रंप कहते रहे हैं कि ये समझौता बहुत उदार था और ईरान 'मौत, तबाही और अराजकता' फैला रहा है.

राष्ट्रपति ट्रंप इस बात पर ज़ोर देते रहे हैं कि अमरीका के पास इस समझौते को कभी भी छोड़ने का अधिकार है.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption अंतरराष्ट्रीय पर्यवेक्षक

अंतरराष्ट्रीय पर्यवेक्षकों का कहना रहा है कि तीन साल पहले हुए समझौते का ईरान ठीक से ठीक से पालन कर रहा है.

लेकिन राष्ट्रपति ट्रंप ये कहते रहे हैं कि ईरान इस समझौते के मूल-भाव का पालन नहीं कर रहा है और असल में प्रतिबंधों का फ़ायदा उठा रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे