नहीं निभी तो पूर्व प्रेमी को मुआवज़ा देंगे

ब्रेक-अप इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption सांकेतिक तस्वीर

इस महीने की शुरुआत में चीन में पूर्व में मौजूद शहर हांगझू में एक अजीब वाकया सामने आया. यहां एक बार में एक संदिग्ध सूटकेस मिला जिसके बाद पुलिस को सूचना दी गई.

इस सूटकेस में 2 मिलियन चीनी युआन (2.1 करोड़ रुपए) थे. ये किसी भी व्यक्ति की ज़िंदगी बदलने के लिए काफ़ी हो सकते हैं.

पुलिस ने इस सूटकेस से मालिक की तलाश कर उन्हें ढूढ़ निकाला. पता चला कि वो इस बार में अपनी पूर्व प्रेमिका से मिलने वाले थे. और इस सूटकेस में मौजूद पैसा 'ब्रेक-अप फ़ीस' था, जो आजकल चीन में नए ट्रेंड की तरह उभर रहा है.

पति- पत्नी के बीच 'वो' का क्या है चीनी इलाज?

10 दिन तक एयरपोर्ट पर महबूबा का इंतज़ार

सच्चे प्यार की क़ीमत?

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption सांकेतिक तस्वीर

किसे नहीं पता कि किसी को डेट करना मंहगा मामला होता है, हर मुलाक़ात में खाने-पीने पर अधिक ख़र्च करना, तोहफ़े ख़रीदना और फिर छुट्टियों के लिए जाना हो तो उसके लिए भी अलग से ख़र्च करना.

एक दूसरे को तोहफ़े देने और साथ में वक्त गुज़ारने वाली मुलाक़ातों को आगे बढ़ाने के लिए चीन में अब एक अलग ट्रेंड शुरू हो रहा है जिसके 'ब्रेक-अप फ़ीस' कहते हैं. लंबे रिश्ते के बाद भी अगर बात ना बने तो उसके नुक़सान की भरपाई के लिए ये मुआवज़े की तरह होता है.

हालांकि क़ानूनी तौर पर ये मान्य नहीं होता लेकिन ये दूसरे पक्ष को तलाक़ देने पर मुआवज़ा देने के समान होता है.

ये फ़ीस वो व्यक्ति देता है जो दोनों के बीच संबंध को ख़त्म करता है. दोनों ही एक साथ मिल कर ये तय करते हैं कि अपने रिश्ते को वो कितना वक्त देना चाहते हैं, इसके लिए कितना कोशिश करना चाहते हैं और अपने संबंध को आगे बढ़ाने के लिए आर्थिक तौर पर कितने सक्षम हैं. वो रिश्ता ना निभ सकने की सूरत में दूसरे पक्ष को दिया जाने वाला मुआवज़ा भी तय करते हैं.

चीन में समलैंगिकों की शामत

चीन में अब नहीं मिलेगी किराए की सेक्स डॉल

इमेज कॉपीरइट VCG/VCG via Getty Images

कुछ लोग मुलाक़ातों पर ख़र्च किए जने वाले पैसे को व्यावहारिक रूप से देखते हैं लेकिन कई लोगों के लिए मुद्दा होता है कि अलग होने या ब्रेक-अप होने पर भावनात्मक तौर पर कितना गंभीर नुकसान होगा.

अधिकांश मामलों में अपनी प्रेमिका को परेशान करने या खुद ग़लती मानते हुए ब्रेक-अप फ़ीस देने वाले पुरुष ही होते हैं. लेकिन चीनी रिश्तों में पारंपरिक रूप से खाने और तोहफों पर पुरुष ख़र्च करते हैं, ये देखते हुए महिलाएं भी ब्रेक-अप फ़ीस देने के लिए तैयार हो रही हैं.

कई रिपोर्टों के अनुसार बढ़ते उपभोक्तावाद के कारण फिलहाल ये ट्रेंड शहरों में देखा जा रहा है.

लेकिन कइयों का मानना है कि इसके तार पुराने वक्त से जुड़े हैं जहां चीनी महिलाएं आर्थिक तौर पर पुरुषों पर निर्भर होती थीं.

डेटिंग की बात करें तो चीन में पारंपरिक तौर पर डेटिंग का स्वरूप व्यवहारिक ही रहा है जहां बाद में प्रेमी-प्रेमिका शादी के बंधन में बंध जाते हैं. इसीलिए ब्रेक-अप फ़ीस को पीड़ित पक्ष को होने वाली भावनात्मक क्षतिपूर्ति की कोशिश के तौर पर देखा जा सकता है ताकि अन्य पक्ष अपने पूर्व प्रेमी को भुला कर नए सिरे से अपनी ज़िंदगी शुरू कर सके.

चीन में इस तरह के वीडियो बनाए तो होगी सख्ती

एक नोबेल विजेता के मोहब्बत और संघर्ष की दास्तां

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

रिपोर्टों के अनुसार ये फ़ीस ख़ास तौर पर अधिक उम्र वाली महिलाओं के लिए काफी मददगार साबित हो सकती है जिन्हें लगता है कि उन्होंने कम उम्र में अपने करियर और 'अपने प्रेमी' में से किसी एक का चुनाव कर सकने का अपना मौक़ा अब खो दिया है.

मीडिया में भी ब्रेक-अप फ़ीस से जुड़ी ख़बरें आती रहती हैं जिनमें से कुछ मामले सुलझे लगते हैं जबकि कई मामले कोर्ट के दरवाज़ों तक भी पहुंच जाते हैं.

कुछ मामलों में लोग हंसी का पात्र बन जाते हैं. जैसा कि अप्रैल में एक महिला ने अपने पूर्व प्रेमी को रेस्तरां या होटलों के बिल भेजे. उन्होंने उन पर किए गए हर ख़र्च की सूची बनाई और अपने पूर्व प्रेमी को मुआवज़ा देने की पेशकश की.

जनवरी में एक अन्य मामले में पूर्वी शहर निंगबो में एक व्यक्ति ने अपनी गर्लफ्रेंड से मुआवज़ा मांगा. उनक दावा था कि उनकी गर्लफ्रेंड ने उन्हें इसलिए छोड़ दिया क्योंकि उनके सिर से सभी बाल झड़ गए थे.

'लवगुरु मटुकनाथ' को छोड़ गईं उनकी जूली

प्रेमी दलित, प्रेमिका मुस्लिमः प्रेमकथा का दर्दनाक अंत

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images
Image caption सांकेतिक तस्वीर

कुछ और मामले बेहद गंभीर हैं. 2014 नवंबर में एक मामला सामने आया जिसमें दक्षिणपश्चिमी शिचुआन प्रांत में एक व्यक्ति ने अपनी गर्लफ्रेंड से मुआवज़ मांगा. उन्हें पता चला था कि उनकी गर्लफ्रेंड का अन्य पुरुषों के साथ संबंध हैं.

दोनों की शादी हो चुकी थी लेकिन बीते पांच सालों से दोनों एक दूसरे को डेट कर रहे थे. व्यक्ति ने कई बार अपनी गर्लफ्रेंड को कपड़े खरीदने के लिए पैसे दिए थे. जब महिला ने 'ब्रेक-अप टैक्स' देने से मना कर दिया तो व्यक्ति महिला के घर पर गया और उसके परिवर पर एसिड फेंक दिया.

व्यक्ति को हत्या की कोशिश के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया. हालांकि इस व्यक्ति का कहना था कि अगर दोनों के बीच अलग होने को ले कर कोई समझौता हो जाता तो ऐसी स्थिति कभी नहीं आती.

पूर्व प्रेमिका के पत्र की धज्जियां उड़ाना इनसे सीखें

'महिलाओं की स्वतंत्रता पर सवाल?'

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images
Image caption सांकेतिक तस्वीर

ग्लोबल टाइम्स के अनुसार हांगझू शहर में जो सूटकेस मिला था, उस मामले में महिला को लगा था कि "इसमें कई लाख रुपए अब भी कम थे" और इसीलिए वो सूटकेस वहीं छोड़ कर चली गई थीं.

महिला का कहना है कि उन्होंने अपने पूर्व प्रेमी से कहा था "मैंने वो सूटकेस नहीं लिया है. मैंने उन्हें कहा कि वो अपन सूटकेस ले जाएं, वो वहीं बार में है."

हालांकि उन्हें इस बात का पता नहीं था कि उनके पूर्व ब्वॉयफ्रेंड पहले ही बार से बाहर जा चुके हैं. दोनों ही इस उम्मीद में पुलिस सटेशन पहुंचे कि उनके पैसे कहीं खो ना जाएं.

सूटकेस व्यक्ति को लौटा दिया गया. पुलिस ने उन्हें चेतावनी दी कि आइंदा वो अपनी चीज़ों का ध्यान रखें. इस व्यक्ति का कहना था कि वो अभी भी ये जान नहीं पा रहे हैं कि जो पैसे उन्होंने अपनी गर्लफ्रेंड को दिए हैं वो काफी हैं भी या नहीं.

करीब 20 साल के इस व्यक्ति का सवाल था, "इसमें 2.1 करोड़ रुपए थे, क्या ये काफी नहीं?"

106 साल पहले डूबे टाइटैनिक के बारे में फैले पांच मिथक

जब प्रेमिका नहीं रही तो तोड़ दी अपनी बीन

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images
Image caption सांकेतिक तस्वीर

चीन की सोशल मीडिया सिना वीबो पर कई लोग इस मामले के बारे में अपनी राय लिख रहे हैं. कई लोगों ने लिखा, "2.1 करोड़ रुपए में आप हांगझू में एक अच्छा घर ख़रीद सकते हैं."

एक अन्य व्यक्ति ने पूछा, "आपको अपने प्रेमी को छोड़ने के लिए पैसे क्यों चाहिए?" एक अन्य व्यक्ति ने इस बात पर सवाल किया कि महिला स्वतंत्र रहना चहती है भी या नहीं. उन्होंने पूछा, "ये महिला अपने आप को क्या कहेंगी? क्यो वो किसी पुरुष के खेलने की वस्तु हैं?"

सोशल मीडिया यूज़र्स का कहना था कि ब्रेक-अप फ़ीस के कारण चीनी पुरुष पर मानसिक दवाब पड़ सकता है क्योंकि देश में लिंग असंतुलन बड़ी समस्या है. वो कहते हैं, "ऐसा क्यों है कि पुरुष हमेशा महिला को पैसे और चीज़ें देता है? क्या महिला और पुरुष समान नहीं हैं?"

कई लोगों के अनुसार ये सवाल करना चाहिए कि ऐसे तरीकों से चीन के ग़रीब लोगों के साथी तलाश करने के मौक़े सीमित हो जाएंगे.

(बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की ख़बरें ट्विटर और फ़ेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे