वक़्त से 25 सेकेंड पहले खुली ट्रेन और रेलवे ने मांगी माफी

जापान इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption दुनिया भर में जापान की ट्रेनें समय की पाबंदी की वजह से मशहूर रही हैं

भारत में ट्रेनें अपने तयशुदा वक़्त से घंटों देर से चलने के लिए बदनाम रही हैं लेकिन ये तो जापान है...

एक ट्रेन अपने निर्धारित वक़्त से 25 सेकेंड पहले खुल गई तो रेलवे कंपनी ने लोगों को हुई असुविधा के लिए माफी मांगी. हाल के महीनों में दूसरी बार ऐसा हुआ था.

रेल कंपनी ने कहा, हमारी वजह से हमारे यात्रियों को जो असुविधा हुई है वो सचमुच माफी के लायक नहीं है.

अगर इस वाकये को विस्तार से देखें तो ऐसा लगता है कि यात्रियों के लिए ट्रेन सेवा का स्तर गिरता जा रहा है.

क्योंकि पिछले साल नवंबर में एक और ट्रेन 20 सेकेंड पहले छूट गई थी, इस बार तो ये पूरे 25 सेकेंड पहले छूटी है.

कंडक्टर की ग़लती

और जैसा कि उम्मीद थी, सोशल मीडिया पर ये मुद्दा छा गया और एक कहानी बन गई.

जापान टुडे के मुताबिक़ शुक्रवार को ट्रेन कंडक्टर को ये लगा कि उसकी ट्रेन नोटोगावा के लिए 7:11 पर रवाना होगा जबकि उसे 7:12 पर छूटना था.

कंडक्टर ने एक मिनट पहले ही ट्रेन के दरवाज़े मुसाफिरों के लिए बंद कर दिए. हालांकि उसे अपनी ग़लती का एहसास जल्द ही हो गया.

उस समय भी कंडक्टर के पास अपनी ग़लती सुधारने का एक मौका था लेकिन उसने प्लेटफ़ॉर्म पर किसी यात्री को ट्रेन का इंतज़ार करते हुए नहीं देखा.

इसी वजह से कंडक्टर ने ट्रेन को वक़्त से 25 सेकेंड पहले प्लेटफ़ॉर्म छोड़ने का फ़ैसला किया.

दुनिया भर में जापान की ट्रेनें समय की पाबंदी की वजह से मशहूर रही हैं.

लेकिन उस दिन कंडक्टर के यकीन के उलट प्लेटफ़ॉर्म पर कई ऐसे लोग थे जिन्हें ट्रेन में सवार होना था और वे इससे चूक गए.

उन्होंने रेलवे कंपनी से इसकी शिकायत की और थोड़ी देर बाद ही कंपनी ने आधिकारिक रूप से माफी मांग ली.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पिछले साल नवंबर में सुकुबा एक्सप्रेस लाइन पर एक और ट्रेन इन्हीं वजहों से 20 सेकेंड पहले स्टेशन से छूट गई थी.

हालांकि तब एक भी यात्री प्लेटफ़ॉर्म पर नहीं छूटा था लेकिन इसके बावजूद रेलवे कंपनी ने यात्रियों की असुविधा के लिए माफी मांगी थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे