पाकिस्तान आर्थिक संकट में और मैच फ़िक्सिंग के आरोप, सुबह की पांच बड़ी ख़बरें

  • 28 मई 2018
पाकिस्तान इमेज कॉपीरइट Getty Images

पाकिस्तानी अख़बार डॉन की एक रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तान में गहराते भुगतान संतुलन संकट के बीच उसे चीन से 1 से 2 अरब डॉलर का नया क़र्ज़ मिलने की उम्मीद है. अख़बार का कहना है कि इससे संकेत मिलते हैं कि पाकिस्तान के वित्तीय संबंध चीन से और गहरा रहा है.

अख़बार का कहना है कि जून में ख़त्म हो रहे इस वित्तीय वर्ष तक पाकिस्तान को चीन से पांच अरब डॉलर का क़र्ज़ मिल चुका है. यह आंकड़ा समाचार एजेंसी रॉयटर्स को पाकिस्तान के वित्त मंत्रालय से मिला था.

डॉन के मुताबिक़ अमरीका की सख़्ती के कारण पाकिस्तान की चीन पर निर्भरता लगातार बढ़ रही है. अख़बार ने लिखा है कि फ़रवरी महीने में अमरीका ने पाकिस्तान को वैश्विक स्तर पर आतंकवाद को आर्थिक मदद देने वालों की सूची में शामिल करने की कोशिश की थी.

इसे लेकर पाकिस्तान में प्रतिक्रिया भी देखने को मिली और अमरीका की नाराज़गी से पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था को लेकर संकट में घिरने का डर बढ़ा है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अख़बार का कहना है कि पाकिस्तान के विदेशी मुद्रा भंडार में आई कमी को चीनी क़र्ज़ अस्थायी राहत दे सकता है. अख़बार का कहना है कि मई 2017 में पाकिस्तान का विदेशी मुद्रा भंडार 16.4 अरब डॉलर था जो पिछले हफ़्ते 10.3 अरब डॉलर पर पहुंच गया है.

डॉन का कहना है कि पाकिस्तान के विदेशी मुद्रा भंडार में जारी गिरावट के कारण करेंट अकाउंट घाटा का संकट और गहरा गया है. वित्तीय विश्लेषकों का मानना है कि जुलाई में पाकिस्तान में आम चुनाव के बाद आईएमएफ़ के दूसरे बेलआउट फंड की ज़रूरत पड़ेगी.

इससे पहले आईएमएफ़ ने 2013 में पाकिस्तान को बेलआउट पैकेज दिया था. पाकिस्तान को आईएमएफ़ से 2013 में 6.7 अरब डॉलर का बेलआउट मिला था.

चीन पाकिस्तान के साथ मिलकर 57 अरब डॉलर की चाइना-पाकिस्तान इकनॉमिक कॉरिडोर परियोजना को अंजाम देने में लगा है और वो नहीं चाहेगा कि पाकिस्तान आर्थिक संकट की चपेट में आए और उसकी परियोजना अधर में लटके.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अल-जज़ीरा से एक एक्सक्लुसिव रिपोर्ट में मुंबई के एक मैच फिक्सर ने दावा किया है कि अंतराष्ट्रीय क्रिकेटर पैसे लेकर टेस्ट मैचों में जानबूझकर ख़राब प्रदर्शन करते हैं. इस रिपोर्ट के अनुसार दो हाई-प्रोफ़ाइल टेस्ट मुक़ाबले में मैच फिक्सरों ने बिल्कुल सही भविष्यवाणी की थी कि कौन खिलाड़ी कैसा खेलेगा.

रिपोर्ट में दावा किया गया है कि मैच फिक्सरों ने यह भी बताया था कि खेल के दौरान किस मौक़े पर कौन खिलाड़ी क्या करेगा.

अल-जज़ीरा ने अपनी इस खोजी रिपोर्ट में मैच फिक्सरों के ज़रिए बताया है कि दिसंबर 2016 में भारत और इंग्लैंड के बीच चेन्नै टेस्ट मैच और पिछले साल रांची में भारत और ऑस्ट्रेलिया के मैच फिक्स थे.

अल-ज़जीरा से मुंबई के मैच फिक्सर अनिल मुनन्वर ने एक बैठक में ये दावा किया है और इस दावे को गोपनीय तरीक़े से रिकॉर्ड किया गया है. अनिल ने अल-जज़ीरा से दावा किया है कि जो भी वो मैचे और खिलाड़ी के बारे में कहते हैं उसे किसी भी सूरत में होना ही है.

अल-जज़ीरा ने अपनी रिपोर्ट में भारतीय सूत्रों के हवाले बताया है कि अनिल मुन्नवर डी-कंपनी के लिए काम करता है. अनिल ने दावा किया है कि 60 से 70 फ़ीसदी मैच वो फिक्स कर सकता है. अनिल ने अल-जज़ीरा से कहा कि वो मैच फिक्सिंग में पिछले 6-7 सालों से शामिल है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अल-जज़ीरा की एक और रिपोर्ट के अनुसार शिया बहुल आबादी वाले इराक़ में ईरान विरोधी शिया नेता मुक़्तदा अल-सद्र की जीत से इराक़ में ईरान का प्रभाव कम हो सकता है.

मुक़्तदा के गठबंधन को इराक़ के संसदीय चुनाव में सबसे ज़्यादा 54 सीटें मिली हैं. अल-जज़ीरा का कहना है कि इस जीत से इराक़ की घरेलू राजनीति और विदेश नीति में साफ़ असर दिखेगा. मुक़्तदा अमरीका और ईरान विरोधी रहे हैं.

इस रिपोर्ट का कहना है कि सद्दाम हुसैन के मारे जाने के बाद ईरान का इराक़ में प्रभाव बढ़ा था. रिपोर्ट का कहना है कि ईरान इराक़ के संसदीय चुनावी नतीजों से ख़ुश नहीं है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

चीन के सरकारी अख़बार ग्लोबल टाइम्स ने 21 मई को दक्षिण चीन सागर में भारत और वियतनाम के बीच हुए पहले संयुक्त नेवी सैन्य अभ्यास पर एक विश्लेषण प्रकाशित किया है.

अख़बार का कहना है कि इससे पहले चार महीने से भी कम वक़्त हुए हैं और दोनों देशों के बीच मध्य प्रदेश के जबलपुर में पहला संयुक्त सैन्य अभ्यास हुआ था.

इस रिपोर्ट के अनुसार भारत ने वियतनाम को ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज़ मिसाइल के साथ ज़मीन से हवा में मार करने वाली आकाश मिसाइल भी ऑफर किया है.

ग्लोबल टाइम्स के अनुसार संयुक्त नेवी सैन्य अभ्यास भारत के एक्ट ईस्ट पॉलिसी के तहत अहम क़दम है. अख़बार ने लिखा है कि भारत चीन को ध्यान में रखते हुए वियतनाम के क़रीब जा रहा है.

इस चीनी अख़बार का कहना है कि दो से चार मार्च के बीच प्रधानमंत्री मोदी के आमंत्रण पर वियतनामी राष्ट्रपति त्रान दाई-क्वांग का भारत दौरा भी हुआ था और दोनों देशों में कई मुद्दों पर सहमति बनी थी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सीएनएन की एक ख़बर के अनुसार इटली के राष्ट्रपति ने रविवार को कहा है कि सरकार की तरफ़ से प्रधानमंत्री के नामित उम्मीदवार की नियुक्ति ख़ारिज किए जाने के बाद वो अब ग़ैर-राजनीतिक व्यक्ति को प्रधानमंत्री बनाएंगे.

राष्ट्रपति सर्गियो मातरेला और प्रधानमंत्री के लिए नामित गियुसेपे कोंटे के बीच सरकार गठन को लेकर बातचीत हुई थी. कोंटे लॉ के प्रोफ़ेसर और राजनीति के नए खिलाड़ी हैं. कोंटे की पार्टी पिछले हफ़्ते सबसे लोकप्रिय पार्टी के रूप में उभरी थी. राषट्रपति का कहना है कि कोंटे को पीएम नियुक्त करने पर वित्त मंत्रालय की आपत्ति थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए