स्पेन : पीएम रखॉय के ख़िलाफ अविश्वास प्रस्ताव, कुर्सी पर संकट

मारियानो रखोय

इमेज स्रोत, EPA

स्पेन के प्रधानमंत्री मारियान रखॉय के सामने कुर्सी गंवाने का खतरा बन गया है. एक अहम राजनीतिक दल ने रखोय के ख़िलाफ अविश्वास प्रस्ताव को समर्थन देने का एलान किया है.

प्रधानमंत्री रखॉय के ख़िलाफ अविश्वास प्रस्ताव विपक्षी सोशलिस्ट पार्टी ने पेश किया है और इस पर शुक्रवार को मतदान होना है.

सोशलिस्ट पार्टी के नेता पेद्रो सांचेज को नेता बनने के लिए 176 वोटों का बहुमत चाहिए.

अविश्वास प्रस्ताव पास हुआ तो सांचेज के प्रधानमंत्री बनने का रास्ता साफ हो सकता है.

सांचेज ने पीपुल्स पार्टी के भ्रष्टाचार के आरोपों में घिरने के बाद अविश्वास प्रस्ताव पेश किया.

इमेज स्रोत, EPA

क्या है मामला?

भ्रष्टाचार का ये मामला पीपुल्स पार्टी के पूर्व कोषाध्यक्ष लुइस बार्सेनस को 33 साल जेल की सज़ा होने के बाद बीते हफ्ते चर्चा में आया.

मैड्रिड की हाईकोर्ट ने लुइस को रिश्वत लेने, मनी लॉन्ड्रिंग और टैक्स से जुड़े अपराधों के लिए दोषी ठहराया.

ये मामला साल 1999 से 2005 के बीच फंड उगाही के लिए पीपुल्स पार्टी की ओर से गोपनीय तरीके से चलाए गए अभियान से जुड़ा था.

बास्क नेशनलिस्ट पार्टी (पीएनवी ) ने कहा है कि वो अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन करेगी. इस पार्टी के पास संसद में पांच सीटें हैं जो काफी अहम मानी जा रही हैं.

इमेज स्रोत, AFP

'इस्तीफा दें पीएम'

सांचेज ने मांग की है कि रखॉय को अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान के पहले इस्तीफा दे देना चाहिए.

सांचेज का कहना है कि रखॉय अपनी पार्टी के भ्रष्टाचार की जिम्मेदारी लेने में नाकाम रहे हैं.

संसद में गुरुवार से शुरू हुई दो दिन की बहस के दौरान सांचेज ने कहा, "श्रीमान रखॉय इस्तीफा दीजिए. आपका वक्त पूरा हो चुका है. प्रधानमंत्री पद पर रहना नुकसानदेह है. ये सिर्फ स्पेन ही नहीं बल्कि आपकी पार्टी पर भी बोझ है."

प्रधानमंत्री रखॉय ने कहा कि वो पद पर बने रहेंगे. उन्होंने सोशलिस्ट पार्टी पर अवसरवादी होने का आरोप लगाया.

उन्होंने कहा, "श्रीमान सांचेज चिंतित हैं क्योंकि वो चुनाव में अच्छे नतीजे नहीं दे पा रहे हैं और वो समझ चुके हैं कि चुनाव के जरिए वो कभी सरकार में नहीं पहुंच सकते हैं. "

इमेज स्रोत, Getty Images

संकट में सरकार

प्रधानमंत्री गुरुवार को दोपहर बाद के सत्र में हुई बहस में मौजूद नहीं थे. इसे लेकर अटकलों का बाज़ार गर्म हो गया. हालांकि, पीपुल्स पार्टी की महासचिव मारिया डोलोरस ने कहा कि मारियानो रखॉय इस्तीफा नहीं देंगे.

रखॉय के पास फिलहाल पीपुल्स पार्टी, थियोदादानोस और क्षेत्रीयों पार्टियों का समर्थन है. इनके कुल वोट 169 होते हैं.

संवाददाताओं का कहना है कि रखॉय अगर इस्तीफा देते हैं तो ये सरकार के लिए फायदेमंद होगा. ऐसे में नए प्रधानमंत्री के शपथ लेने तक केयरटेकर पीएम कार्यभार देखेगा और नए प्रधानमंत्री के आने में हफ़्तों का वक्त लग सकता है.

लेकिन अगर शुक्रवार को अविश्वास प्रस्ताव में हार होती है तो सांचेज तुरंत उनकी जगह ले सकते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)