ग्वाटेमाला: ज्वालामुखी फटने से 62 मौतें, बचाव अभियान जारी

  • 5 जून 2018
ज्वालामुखी इमेज कॉपीरइट Reuters

ग्वाटेमाला में हुए ज्वालामुखी विस्फोट के चलते अभी तक कम से कम 62 लोगों के मारे जाने की सूचना है.

देश के आपदा विभाग के अनुसार बचावकर्मियों ने नज़दीकी गांवों से कई शव बरामद किए हैं.

फ्यूएगो ज्वालामुखी की चपेट में आने से दर्जनों लोग अभी लापता हैं. इसके अलावा चार हज़ार से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों में पहुचाया गया है. ग्वाटेमाला के राष्ट्रपति ने तीन दिन का राष्ट्रीय शोक घोषित किया है.

बचाव कार्य इमेज कॉपीरइट Reuters

ग्वाटेमाला से मिलने वाली तस्वीरों में कई किलोमीटर तक हवा में राख के बादल देखे जा सकते हैं. राजधानी ग्वाटेमाला सिटी इस ज्वालामुखी से 40 किलोमीटर दूर है.

सरकारी अधिकारियों के मुताबिक इससे करीब 17 लाख लोग इससे प्रभावित हुए हैं.

फ़्यूएजो ज्वालामुखी इमेज कॉपीरइट GUATEMALA GOVERNMENT

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन एजेंसी के मुताबिक़ ज्वालामुखी से निकला लावा बहकर नज़दीक के गांव में पहुंच गया. जिसकी वजह से कई घर और उनमें मौजूद लोग जल गए.

ग्वाटेमाला सिटी का एयरपोर्ट इस ज्वालामुखी विस्फोट की वजह से बंद कर दिया गया है.

ज्वालामुखी इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

राष्ट्रपति जिम्मी मोरेल्स राष्ट्रीय आपातकालीन सेवाओं को राहत कार्य के लिए ज़रूरी कदम उठाने के निर्देश दिए हैं.

स्थानीय विशेषज्ञों का कहना है कि साल 1974 के बाद से ये सबसे बड़ा ज्वालामुखी विस्फोट है.

बचाव कार्य इमेज कॉपीरइट Reuters
ज्वालामुखी इमेज कॉपीरइट MARIA DEL ROCIO LAZO/AFP/Getty Images

एक सरकारी अधिकारी ने स्थानीय रेडियो स्टेशन को बताया कि ज्वालामुखी से निकलने वाले लावा की एक धारा ने एल रोडियो गांव की तरफ़ रुख कर लिया है.

उन्होंने कहा, ये लावा एक नदी की तरह है... इसने एल रोडियो गांव को जला दिया... हम कई गांवों तक नहीं पहुंच पाए हैं.

ज्वालामुखी

मरने वालों में कुछ बच्चे भी हैं. वहां से कुछ ऐसे वीडियो भी जारी हुए हैं जिनमें लावा के ऊपर तैरती लाशें दिख रही हैं.

हर साल ज्वालामुखी फटने की ऐसी करीब 60 घटनाएं होती हैं. कई ज्वालामुखी अचानक फट जाते हैं तो कई लंबे समय से सुलग रहे होते हैं.

ज्वालामुखी इमेज कॉपीरइट JOHAN ORDONEZ/AFP/Getty Images

ग्वाटेमाला क्षेत्र में राखों के बचने के लिए अधिकारियों ने लोगों को मास्क पहनने की सलाह दी है और सभी ज़रूरी सुरक्षा अपनाने को कहा है.

सेना आपदा कार्यों में लगे हैं और लोगों के लिए अस्थायी कैंपों का निर्माण कर रहे हैं.

ज्वालामुखी इमेज कॉपीरइट Reuters

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे