ट्रंप की टैरिफ़ और व्यापार बाधाएं हटाने की अपील

  • 10 जून 2018
इमेज कॉपीरइट AFP

कनाडा के क्यूबेक में औद्योगिक देशों के बीच व्यापार को लेकर मतभेद तो नहीं सुलझे, लेकिन अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने कहा कि उन्होंने सम्मेलन में टैरिफ़ खत्म करने का प्रस्ताव रखा.

राष्ट्रपति ट्रंप ने माना कि स्टील और एल्यूमीनियम पर इंपोर्ट ड्यूटी लगाने के उनके फ़ैसले से जी-7 के सहयोगी देश नाराज़ थे, लेकिन उनके साथ बातचीत बेहद फलदायक रही.

अमरीका ने हाल ही स्टील पर 25 प्रतिशत और एल्यूमीनियम पर 10 प्रतिशत इंपोर्ट ड्यूटी लगा दी थी. अमरीकी प्रशासन के इस कदम की कनाडा, जापान, जर्मनी समेत कई देशों ने आलोचना की थी.

इन मतभेदों के बावजूद व्यापार और टैरिफ़ पर एक साझा बयान पर दस्तखत हुए.

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने इस साझा बयान का ऐलान किया. इस साझा बयान पर जी-7 के सभी सदस्य देशों के हस्ताक्षर हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption एंगेला मर्केल, क्रिस्टीन लगार्ड और डोनल्ड ट्रंप

सम्मेलन खत्म होने से पहले ही ट्रंप सिंगापुर के लिए रवाना हो गए, जहाँ उनकी उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन से 12 जून को ऐतिहासिक मुलाक़ात तय है.

जी7 में रूस को शामिल करना चाहते हैं ट्रंप

'चीन अमरीका के लिए रूस जितना ही बड़ा ख़तरा'

ट्रंप ने क्या कहा

सिंगापुर रवाना होने से पहले ट्रंप ने संवाददाताओं से बातचीत में इस बात से इनकार किया कि जी-7 सम्मेलन पर विवाद की छाया रही.

ट्रंप ने कहा, "कोई टैरिफ़ नहीं, कोई बाधा नहीं. इसे ऐसा होना चाहिए. और कोई सब्सिडी नहीं. मैं तो यहाँ तक कहता हूँ कि कोई टैरिफ़ न हों."

हालाँकि ट्रंप ने कहा कि दशकों दशक से दूसरे देश अमरीका का फ़ायदा उठाते रहे हैं. उन्होंने कहा, "अमरीका एक पिगी बैंक की तरह है जिसे हर कोई लूटता रहा है."

इमेज कॉपीरइट JESCO DENZE

स्टील और एल्यूमीनियम पर इंपोर्ट ड्यूटी लगाने के फ़ैसले से कनाडा, मेक्सिको और यूरोपियन यूनियन खफ़ा है और वो अमरीका के ख़िलाफ़ बदले में ऐसी ही कार्रवाई करने की योजना बना रहे हैं.

राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि अमरीका के ख़िलाफ़ इस तरह के कदम उठाना गलती होगी. उन्होंने कहा कि अगर आगे चलकर ये ट्रेड वार का रूप लेता है तो अमरीका इस जंग में हर बार विजयी होगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए