सिंगापुर डायरी: ट्रंप-किम की मुलाकात की जगह बसता है 'मिनी इंडिया'

सिंगापुर

सिंगापुर का "लिटिल इंडिया" दो किलोमीटर में बसा है. ये विदेश में भारतीयों का अपना निवास है जहां उनकी सैकड़ों दुकानें हैं और इन दुकानों में हर वो चीज़ बिकती है जो भारत के बाज़ारों में आपको मिल सकती है.

यहां तमिलनाडु से आए लोगों की संख्या सबसे अधिक है.

तमिलनाडु से 15 साल पहले आकर बसे प्रकाश एक रेस्त्रां चलाते हैं. उनका कहना है कि दो किलोमीटर के दायरे में यहां क़रीब 300 भारतीय रेस्त्रां हैं.

उनके अनुसार भारत से बाहर एक छोटी जगह पर इतनी संख्या में रेस्त्रां किसी और देश में नहीं मिलेंगे.

भारत के बाज़ारों की तरह यहां भी भीड़ इतनी होती है कि चलना मुश्किल हो जाता है. दोनों तरफ़ सड़कों के किनारे बसी दुकानों के नाम अक्सर तमिल में लिखे दिखते हैं.

देश की 55 लाख आबादी का ये सात प्रतिशत हैं.

Image caption सिंगापुर में भारतीय रेस्टोरेंट

सिंगापुर के निर्माण भारतीय को योगदान

बीसवीं शताब्दी की शुरुआत में सिंगापुर के निर्माण में चीनी और मलय मूल के लोगों के अलावा तीसरा बड़ा समुदाय तमिलनाडु से आए लोगों का था.

वो परिवार आज भी यहां आबाद हैं. तमिल भाषा सिंगापुर की सरकारी भाषाओं में से एक है. यहां के मंत्रिमंडल में तमिल समुदाय के कई मंत्री हैं जिनमें विदेश मंत्री विवियन बालाकृष्णन प्रमुख हैं.

अब इनमें एक बड़ी संख्या उन लोगों की है जो तमिलनाडु से दो-तीन दशक पहले आए थे. तमिल समुदाय के अलावा भारतीय मूल में तेलुगू और पंजाबियों की संख्या यहां सबसे अधिक है.

रविवार को छुट्टी के दिन 'लिटिल इंडिया' दिल्ली के लाजपत नगर जैसा ही नज़र आता है. शॉपिंग मॉल और दुकानें ग्राहकों से भरी होती हैं. कुछ नामी रेस्त्रां के बहार तो खाने वालों को लंबा इंतज़ार करना पड़ता है.

सिंगापुर के 'लिटिल इंडिया' के लोग यहां रहनेवाले दूसरे समुदायों से घुले-मिले हुए हैं. यहां बड़ी संख्या में इन लोगों के रिहाइशी मकान भी हैं.

ट्रंप से मुलाक़ात के लिए किम जोंग उन सिंगापुर पहुंचे

ट्रंप से मुलाकात में यह है किम जोंग उन का एजेंडा

ट्रंप और किम की मुलाकात में दिलचस्पी नहीं

मंत्रिमंडल में भारतीय मूल के मंत्री भी हैं लेकिन सियासत में उनकी दिलचस्पी कम लगती है. इसीलिए मुझसे कई लोगों ने कहा कि अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के सर्वोच्च नेता किम जोंग-उन के बीच मंगलवार को होने वाले ऐतिहासिक शिखर सम्मलेन को लेकर उनमें ख़ास उत्साह नहीं है.

एक ड्राइवर ने मुझ से कहा कि इस सम्मलेन के कारण शहर में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था है और कई सड़कों पर नाकाबंदी है, जिसके कारण टैक्सी ड्राइवरों को ग्राहक नहीं मिल रहे हैं.

मुझे एहसास हुआ कि आम जनता इस सम्मलेन को लेकर ज़्यादा उत्साहित नहीं हैं.

'लिटिल इंडिया' इलाक़े से दस मिनट की ड्राइव पर देश का आर्थिक केंद्र है. यहां ऊंची इमारतों में विश्व के बड़े-बड़े बैंकों के दफ्तर हैं. ये समुद्री इलाक़ा है जिसके किनारों पर पर्यटकों की भीड़ जुटी होती है.

यहां सम्मलेन को लेकर कड़ी सुरक्षा है. यहां कुछ लोगों से बात करके लगा सम्मलेन पर उन्हें गर्व है. एक ने कहा, "इससे सिंगापुर को इज़्ज़त मिलेगी".

'सम्मलेन की सफलता श्रेय सिंगापुर को भी'

शायद इसीलिए उत्तर कोरिया के सर्वोच्च नेता किम जोंग-उन ने कल सिंगापुर के प्रधानमंत्री से मुलाक़ात के दौरान कहा कि अगर सम्मलेन सफल रहा तो इसका श्रेय सिंगापुर को भी दिया जाएगा.

सिंगापुर में इस सम्मलेन के लिए जोश में कमी हो सकती है लेकिन ये मानना पड़ेगा कि सरकार ने इंतज़ाम अच्छा किया है.

पुलिस हर जगह मौजूद है. मीडिया सेंटर के डायरेक्टर ने कहा कि इस सम्मलेन को कवर करने के लिए विश्व भर से क़रीब 2500 पत्रकार आए हैं.

स्थानीय मीडिया में सम्मलेन सुर्ख़ियों में है. अख़बार पढ़ें या न्यूज़ चैनल देखें, सम्मलेन से जुड़ी ख़बरें छायी हुई दिखाई देंगी.

अमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प पांच सितारा शांगरिला होटल में ठहरे हैं. इससे आधे किलोमीटर के फ़ासले पर उत्तर कोरिया के नेता पांच सितारा सेंट रेजिस होटल में रुके हैं.

डोनल्ड ट्रंप और किम जोंग-उन के लिए शीत युद्ध के तीन सबक

किम और ट्रंप की मुलाक़ात के बीच वो तीसरा शख़्स

Image caption ट्रंप और किम के बीच ऐतिहासिक मुलाकात के मद्देनज़र सिंगापुर में सुरक्षा चाक-चौबंद है

ऐतिहासिक मुलाकात पर दुनिया की निगाहें

दोनों लीडर 12 तारीख़ को सेंटोसा के रिज़ॉर्ट द्वीप में सम्मलेन में पहली बार एक दूसरे से रूबरू होंगे. किम जोंग-उन तीन पीढ़ियों में उत्तर कोरिया के पहले नेता होंगे जो किसी अमरीकी राष्ट्रपति से मुलाक़ात करेंगे.

जो काम उनके दादा और पिता नहीं कर सके वो किम जोंग-उन कर दिखाएंगे.

अमरीका चाहता है कि उत्तर कोरिया खुद को पूरी तरह से मिसाइल और परमाणु मुक्त बनाए.

उत्तर और दक्षिण कोरिया के बीच 1952 में युद्ध विराम हुआ था लेकिन अब तक कोई शांति समझौता नहीं हो सका है.

ये शांति समझौता दोनों नेताओं के बीच बातचीत का विषय तो होगा लेकिन शायद समझौता इस मुलाक़ात में नहीं हो सकेगा.

अगर ये शिखर सम्मलेन कामयाब रहा तो ये उतना ही ऐतिहासिक होगा जितना इसराइली प्रधानमंत्री इत्ज़ाक रॉबिन और फ़लस्तीनी नेता यासिर अराफ़ात के बीच हुआ कामयाब सम्मलेन था जिसका आयोजन 1993 में राष्ट्रपति बिल क्लिंटन की निगरानी में हुआ था.

कोरिया सम्मेलन: क्या इस ऐतिहासिक मुलाकात से आएगी लंबी शांति

कैलेंडर से क्यों गायब है किम जोंग का जन्मदिन?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)