दस मौक़े जब हाथ मिले और बन गया इतिहास

  • 13 जून 2018
उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन और अमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग-उन और अमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप

किम जोंग-उन और डोनल्ड ट्रंप ने सिंगापुर में कैमरों के सामने हाथ मिलाया और मुस्कुराहटें साझा कीं.

वो उत्तर कोरिया और अमरीका के पहले ऐसे नेता बन गए हैं जिन्होंने राष्ट्राध्यक्ष रहते हुए मुलाक़ात की है.

बहुत से लोगों के लिए ये एक ऐतिहासिक पल था. लेकिन ऐसी क्या बात है कि दोस्ती का ये साधारण प्रदर्शन यानी कुछ पलों के लिए हाथ मिलाना इतना महत्वपूर्ण हो गया है?

बड़े लोगों के बीच हाथ मिलाने का नतीजा हमेशा ख़ुशनुमा नहीं होता. लेकिन ये इतिहास के अहम पल तो बन ही जाते हैं.

एक नज़र ऐसे दस मौक़ों पर जब हाथ मिले और इतिहास बन गया.

1. चैम्बरलिन और हिटलर

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption कई बार हाथ तो मिले लेकिन इतिहास ने उन्हें एक 'ग़लत फ़ैसला' ही माना.

22 सितंबर 1938 की इस तस्वीर में जर्मन तानाशाह अडॉल्फ़ हिटलर और तत्कालीन ब्रितानी प्रधानमंत्री नेविले चैमब्रलिन जर्मनी में बोन के पास स्थित गोडेसबर्ग के होटल ड्रीसेन में हाथ मिला रहे हैं.

तब चेकेस्लोवाकिया का हिस्सा रहे सूडटेनलैंड पर जर्मनी के क़ब्ज़े पर चर्चा के लिए दोनों नेताओं ने मुलाक़ात की थी.

चैम्बरलिन इस विश्वास के साथ ब्रिटेन लौटे थे कि उन्होंने शांति हासिल कर ली है लेकिन एक साल बाद ही दूसरा विश्व युद्ध शुरू हो गया.

2. चर्चिल, ट्रूमैन और स्टालिन

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption पोट्सडाम कांफ्रेंस के दौरान का ये तीन-तरफ़ा हाथ-मिलन.

23 जुलाई, 1945 को अमरीकी राष्ट्रपति हैरी ट्रूमैन (बीच में) ब्रितानी प्रधानमंत्री विंस्टन चर्चिल (बाएं) और सोवियत नेता जोसेफ़ स्टालिन (दाएं) ने पोट्सडाम कांफ्रेंस के दौरान एक दूसरे के साथ हाथ मिलाए थे और ये लम्हा इतिहास में दर्ज हो गया था.

दूसरे विश्व युद्ध के अंत के बाद तीनों नेता यूरोप और ख़ास तौर से जर्मनी का भविष्य तय करने के लिए मिले थे.

फ्रांस के नेता शार्ल डे गोल को इस सम्मेलन में न बुलाना चर्चा का विषय रहा था.

3. जॉनसन और लूथर किंग जूनियर

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption ये अमरीका में नागरिक अधिकारों के इतिहास का एक अहम पल था.

2 जुलाई, 1964: वॉशिंगटन डीसी के व्हाइट हाउस में अमरीकी राष्ट्रपति लिंडन बी जॉनसन सिविल राइट्स एक्ट पर दस्तख़त करने के बाद मार्टिन लूथर किंग जूनियर से हाथ मिलाते हुए.

इस क़ानून से अमरीका में रंगभेद समाप्त हो गया था और नस्ल, रंग, धर्म, लिंग या राष्ट्रीयता के आधार पर रोज़गार में भेदभाव को समाप्त कर दिया गया था.

4. माओ और निक्सन

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption निक्सन के चीन दौरे को उनके प्रशासन की सबसे बड़ी कूटनीतिक कामयाबी माना जाता है

21 फ़रवरी, 1972: साम्यवादी चीन के नेता, चेयरमैन माओ त्से तुंग और अमरीकी राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन चीन की राजधानी बीजिंग में हाथ मिलाते हुए.

अमरीका और चीन के बीच रिश्तों के 23 साल तक ख़राब रहने के बाद निक्सन ऐतिहासिक दौरे पर चीन पहुंचे थे.

दोनों देशों के बीच स्थापित हुए नए रिश्ते ने न सिर्फ़ अविश्वास और सालों से चली आ रही दुश्मनी को ख़त्म किया बल्कि दशकों तक चलने वाले व्यापार समझौतों के लिए रास्ते भी खोले.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption शीत युद्ध समाप्त होने के बाद रिश्तों में आई गर्माहट की प्रतीक है ये तस्वीर

5. गोर्बाचोफ़ और रीगन

नवंबर, 1985: सोवियत प्रीमियर मिखाइल गोर्बाचोफ़ और अमरीकी राष्ट्रपति रोनॉल्ड रीगन खुले हाथों से एक दूसरे की ओर बढ़ते हुए.

ये तस्वीर स्विट्ज़रलैंड के जेनेवा में उनकी पहली मुलाक़ात के दौरान ली गई थी. इस दौर में शीत युद्ध समाप्त हो रहा था.

6. थेचर और मंडेला

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption ब्रिटेन की अपनी दूसरी यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री मार्गरेट थैचर से मिलते नेल्सन मंडेला

4 जुलाई, 1990: लंदन में 10 डाउनिंग स्ट्रीट के बाहर अफ़्रीकी नेशनल कांग्रेस के नेता नेल्सन मंडेला से हाथ मिलाती ब्रितानी प्रधानमंत्री मार्गरेट थैचर.

किसी समय थैचर ने मंडेला की एएनसी पार्टी को आतंकवादी संगठन कहा था.

1994 में मंडेला दक्षिण अफ़्रीका के राष्ट्रपति चुन लिए गए थे.

7. रॉबिन और अराफ़ात

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption ओस्लो समझौते के बाद पैदा हुई उम्मीदें ज़्यादा दिनों तक ज़िंदा नहीं रह सकीं थीं.

13 सितंबर, 1993: फ़लस्तीनी नेता यासिर अराफ़ात और इसराइली प्रधानमंत्री यित्साक राबिन वाशिंगटन में हाथ मिलाते हुए.

दोनों नेता ओस्लो समझौते पर दस्तख़त करने के समारोह में शामिल हुए थे. इसे मध्य पूर्व शांति समझौता भी कहा जाता है.

अमरीकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने इसराइल और फ़लस्तीन लिब्रेशन आर्गेनाइज़ेशन के बीच ये समझौता कराया था.

8. मैकगिनीज़ और ब्रितानी महारानी

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption बहुत कम लोगों को उम्मीद थी एक दिन पूर्व आईआरए कमांडर और ब्रिटेन की महारानी किसी दिन हाथ मिलाएंगे.

27 जून, 2012: उत्तरी ऑयरलैंड की यात्रा के दौरान ब्रितानी महारानी एलिज़ाबेथ द्वितीय मार्टिन मैकगिनीज़ से हाथ मिलाते हुए. वो उस समय क्षेत्रीय उप डिप्टी मंत्री थे.

महारानी ने बेल्फ़ास्ट में आईआरए कमांडर से नेता बने मैकगिनीज़ से मुलाक़ात की थी.

दोनों नेताओं ने चंद सेकंड के लिए ही हाथ मिलाया था लेकिन इसका ऐतिहासिक महत्व बहुत ज़्यादा है.

बाद में मैकगिनीज़ ने कह था कि इस बैठक में आयरलैंड और ब्रिटेन और आयरलैंड के लोगों के आपसी रिश्तों को परिभाषित करने की क्षमता थी.

9. ओबामा और कास्त्रो

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption ओबामा और क्यूबा के नेता राउल कास्त्रो की इस मुलाक़ात को अमरीका और क्यूबा के रिश्तों की नई शुरुआत कहा गया था.

21 मार्च, 2016: अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा और क्यूबा के राष्ट्रपति राउल कास्त्रो हवाना के रेवोल्यूशन पैलेस में हाथ मिलाते हुए.

बराक ओबामा लगभग एक सदी में क्यूबा की यात्रा करने वाले पहले अमरीकी राष्ट्रपति थे.

दोनों नेताओं के बीच मुलाक़ात तो अच्छी रही लेकिन राउल कास्त्रो ने क्यूबा पर अमरीकी आर्थिक नाकेबंदी का विरोध करते हुए कहा था कि ये पूरी तरह ख़त्म होनी चाहिए नहीं तो इसे सामान्य बात मान लिया जाएगा.

10. सांतोस और टीमोशेंको

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption इस मुलाक़ात को लैटिन अमरीका के सबसे लंबे सशस्त्र संघर्ष का अंत माना गया

23 जून, 2016: कोलंबिया के राष्ट्रपति ह्वान मेनवेल सांतोस गुरिल्ला बल फार्क के नेता टीमोशेंको के नाम से चर्चित टीमोलियोन जिमेनेज से हाथ मिलाते हुए.

हवाना में हुई इस शांति वार्ता के मेज़बान क्यूबा के राष्ट्रपति राउल कास्त्रो थे.

52 साल से चले आ रहे सशस्त्र संघर्ष के ख़ात्मे के लिए ठोस संघर्षविराम समझौता किया गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए