उर्दू प्रेस रिव्यू: कश्मीर पर यूएन की रिपोर्ट से पाकिस्तान ख़ुश

  • 17 जून 2018
संयुक्त राष्ट्र इमेज कॉपीरइट Getty Images

पाकिस्तान से छपने वाले उर्दू अख़बारों में पूरे हफ़्ते पाकिस्तान में 25 जुलाई को होने वाले आम चुनाव, तालिबान पाकिस्तान के नेता मुल्ला फ़ज़लुल्लाह की मौत और कश्मीर पर संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार काउंसिल की रिपोर्ट से जुड़ी ख़बरें पहले पन्ने पर छाई रहीं.

सबसे पहले बात यूएन मानवाधिकार काउंसिल की ताज़ा रिपोर्ट की.

अख़बार द ट्रिब्यून एक्सप्रेस ने भारत प्रशासित कश्मीर पर संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार काउंसिल की ताज़ा रिपोर्ट का हवाला देते हुए लिखा है कि कश्मीरियों पर होने वाले कथित ज़ुल्म की जांच के लिए संयुक्त राष्ट्र ने एक अंतरराष्ट्रीय जांच आयोग बनाने की अपील की है.

अख़बार के अनुसार 49 पन्नों पर आधारित इस रिपोर्ट में जुलाई 2016 से मार्च 2018 तक होने वाली घटनाओं का ज़िक्र किया गया है.

रिपोर्ट के अनुसार कश्मीरियों पर पेलेट गन का इस्तेमाल किया गया जिसके कारण कई कश्मीरियों की आंखों की रोशनी चली गई और इस दौरान 145 बेगुनाह नागरिक मारे गए हैं.

पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र की इस रिपोर्ट में दिए गए सुझावों का स्वागत किया है.

यूएन रिपोर्ट में 'आज़ाद कश्मीर' टर्म का इस्तेमाल क्यों?

कश्मीर पर संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट से भड़का भारत

कश्मीर चाहिए कश्मीरी नहीं, ऐसा कैसे चलेगा

इमेज कॉपीरइट EPA

अख़बार के अनुसार पाकिस्तान विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा कि ये सभी सिफ़ारिशें वहीं हैं जिनका पाकिस्तान 2016 से अब तक मांग करता रहा है.

प्रवक्ता ने कहा कि भारत प्रशासित कश्मीर में हो रहे कथित भारतीय ज़ुल्म की तुलना पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर में मानवाधिकार के कथित उल्लंघन के आरोपों से नहीं की जा सकती है.

लेकिन भारत ने इस रिपोर्ट में लगाए गए आरोपों को ख़ारिज कर दिया है. अख़बार ने भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता का हवाला देते हुए लिखा है कि भारत ने इस रिपोर्ट को गुमराह करने वाला और पक्षपातपूर्ण क़रार दिया है.

अब बात पाकिस्तान में होने वाले आम चुनाव की.

पूर्व क्रिकेटर और पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ़ के मुखिया इमरान ख़ान कराची से और इस्लामाबाद दो जगह ने चुनाव लड़ेंगे.

अख़बार एक्सप्रेस के मुताबिक़ पीटीआई ने सिंध विधानसभा और सिंध की नेशनल एसेंबली की सभी सीटों के लिए अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है.

अख़बार का कहना है कि इमरान ख़ान ने कराची की नेशनल असेंबली सीट नंबर 243 और इस्लामाबाद की नेशनल एसेंबली सीट नंबर 53 से अपना पर्चा भरा है.

लेकिन दोनों ही सीटों पर इमरान ख़ान के एक विरोधी ने उनके नामांकन को चुनौती दी है. चुनाव अधिकारी ने इमरान ख़ान को नोटिस जारी कर 18 जून तक अपना जवाब दाख़िल करने का आदेश दिया है.

इमरान ख़ान की पार्टी के उम्मीदवारों की सूची जारी होते ही उन्हें सख़्त आलोचना का शिकार करना पड़ रहा है.

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

अख़बार जंग के संपादकीय पेज पर डॉक्टर लुब्ना ज़हीर ने इमरान ख़ान की जमकर आलोचना करते हुए एक कॉलम लिखा है, जिसका शीर्षक है, 'त्रासदी एक तहरीक की'.

डॉक्टर लुब्ना ज़हीर लिखती हैं कि इमरान ख़ान ने अपने तमाम दावों पर स्याही फेर दिया है. उनके अनुसार इमरान ख़ान ने जिन लोगों को टिकट दिए वो उसी आर्थिक और सामाजिक पृष्ठभूमि से आते हैं जिनकी इमरान ख़ान हमेशा से आलोचना करते आए हैं.

डॉक्टर ज़हीर के अनुसार इमरान ख़ान ने वो सब कुछ किया जिसके ख़िलाफ़ लड़ने का वो दावा करते आए हैं. लेखिका के अनुसार इमरान की कथनी और करनी का फ़र्क़ अब सबके सामने आ गया है.

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption मुल्ला फ़ज़लुल्लाह

अंत में बात तालिबान पाकिस्तान के प्रमुख मुल्ला फ़ज़लुल्लाह के मारे जाने की.

अख़बार नवा-ए-वक़्त के अनुसार अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ़ ग़नी ने ख़ुद पाकिस्तानी सेना प्रमुख जनरल क़मर जावेद बाजवा को फ़ोन कर मुल्ला फ़ज़लुल्लाह के मारे जाने की पुष्टि कर दी है.

इससे पहले अफ़ग़ानिस्तान में तैनात अमरीकी सेना ने दावा किया था कि 13 जून को अफ़ग़ानिस्तान के कंटर प्रांत में किए गए अमरीकी ड्रोन हमले में प्रतिबंधित संगठन तालिबान पाकिस्तान के एक वरिष्ठ नेता को निशाना बनाया गया था.

अमरीकियों ने मुल्ला फ़ज़लुल्लाह का नाम नहीं लिया था, लेकिन मीडिया में उनके मारे जाने की ख़बरें आने लगीं थी. अब अफ़ग़ानिस्तान सरकार ने फ़ज़लुल्लाह के मारे जाने की पुष्टि कर दी है.

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता के अनुसार फ़ज़लुल्लाह के मारे जाने से पाकिस्तान के पेशावर स्थित आर्मी पब्लिक स्कूल में हुए हमले में मारे गए बच्चों के परिजनों ने राहत की सांस ली है.

अख़बार दुनिया के अनुसार मलाला यूसुफ़ज़ई पर हमले का मास्टरमाइंड अपने अंजाम तक पहुंचा और इस तरह पाकिस्तान को अपने सबसे बदतरीन दुश्मन से निजात मिल गई.

अख़बार लिखता है कि मुल्ला फ़ज़लुल्लाह 2009 से अफ़ग़ानिस्तान में छुपे हुए थे. 2013 में उन्हें तालिबान पाकिस्तान का प्रमुख बनाया गया था.

पाकिस्तान को जिन चरमपंथियों की तलाश दी मुल्ला फ़ज़लुल्लाह उनमें से एक थे और इसी साल अमरीका ने उनके सिर पर 50 लाख डॉलर की इनामी राशि रख दी थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए