तालिबान ने ठुकराई अफ़ग़ान सरकार की अपील, नहीं बढ़ेगा संघर्षविराम

  • 18 जून 2018
तालिबान, अफ़ग़ानिस्तान इमेज कॉपीरइट Getty Images

अफ़ग़ान तालिबान ने ईद के लिए घोषित किए गए तीन दिन के संघर्षविराम को आगे बढ़ाने से इनकार कर दिया है. राष्ट्रपति अशरफ़ ग़नी ने तालिबान से संघर्षविराम की मियाद बढ़ाने की अपील की थी.

तालिबान के प्रवक्ता ज़बिहुल्लाह मुजाहिद ने कहा, "संघर्षविराम रविवार रात को ख़त्म हो जाएगा और सुरक्षाबलों के ख़िलाफ़ ऑपरेशन शुरू हो जाएंगे."

तालिबान की ओर से कहा गया है कि संघर्षविराम बढ़ाने की उनकी कोई मंशा नहीं है और उम्मीद है कि लड़ाके सूरज ढलते तक सरकार के नियंत्रण वाला क्षेत्र छोड़ देंगे. उन्होंने सरकारी की अपील का ज़िक्र नहीं किया है.

सरकार और तालिबान चरमपंथियों ने ईद पर तीन दिन का संघर्षविराम घो​षित किया गया था जो 20 जून तक ख़त्म होने वाला था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सरकार की अपील

इसे सकारात्मक संकेत मानते हुए अफ़ग़ान सरकार ने संघर्षविराम की समयसीमा को और दस दिन तक बढ़ा दिया था और तालिबान से भी ऐसा करने की अपील की थी. लेकिन इस अपील का तालिबान ने कोई उत्तर नहीं दिया.

सोमवार को अफ़ग़ानिस्तान से मिल रही ख़बरों के अनुसार संघर्षविराम के ख़त्म होने के बाद हेलमंड और कांधार प्रांतों में तालिबान ने अफ़ग़ानी सुरक्षाबलों पर हमले करने फिर से शुरु कर दिए हैं. सुरक्षाबलों को इस बात की इजाज़त दे दी गई है कि वो अपनी रक्षा के लिए पूरी कोशिश कर सकते हैं.

साल 2001 में अमरीकी नेतृत्व में हुए हमले में तालिबानी सत्ता गिरने के बाद यह पहला संघर्षविराम था. राष्ट्रपति ग़नी चाहते थे कि ईद के दौरान हुए संघर्षविराम को स्थायी शांति की तरफ ले जाया जाए.

वह फरवरी में बिना शर्त शांतिवार्ता करने के लिए तैयार हो गए थे और कहा था कि अगर तालिबान क़ानून का सम्मान करता है तो उसे एक वैध राजनीतिक समूह का दर्जा दिया जाएगा.

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption ईद पर गले मिलते तालिबानी चरमपंथी और अफ़ग़ान सुरक्षा बल के जवान

ईद पर मिले थे चरमपंथी और सुरक्षाबल

इससे पहले तालिबान चरमपंथियों और अफ़ग़ान सुरक्षा बलों ने मिलकर ईद मनाई थी. उनकी एक-दूसरे को बधाइयां देते और गले मिलते हुईं कई तस्वीरें भी सामने आई थीं.

कई इलाकों में ये नज़ारा देखकर जहां लोग हैरान थे वहीं उन्होंने खुशी भी जाहिर की.

कुंदुज़ में रहने वाले मोहम्मद आमिर ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स को बताया, "मुझे मेरी आंखों पर यकीन नहीं हुआ. मैंने देखा कि तालिबान और पुलिस वाले एक साथ खड़े हैं और सेल्फी ले रहे हैं."

दक्षिणी अफ़ग़ानिस्तान के ज़ाबुल में पढ़ाई कर रहे क़ैस लिवाल ने कहा, "यह अब तक की सबसे ज्यादा शांतिपूर्ण ईद थी. पहली बार हमने सुरक्षित महसूस किया. इस खुशी को बता पाना भी मुश्किल है."

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption राष्ट्रपति अशरफ़ ग़नी ने तालिबान से संघर्षविराम बढ़ाने की अपील की थी.

इस दौरान जलालाबाद में हुए एक आत्मघाती हमले में 18 लोगों की मौत हो गई. यह विस्फोट नंगरहार प्रांत के गवर्नर के ऑफिस के बाहर हुआ, जहां सरकारी अधिकारी तालिबानी चरमपंथियों से मुलाक़ात कर रहे थे.

वहीं, शनिवार को भी नंगरहार में एक आत्मघाती हमला हुआ था जिसमें 36 लोग मारे गए थे.

ये हमला भी चरमपंथियों और स्थानीय अधिकारियों की मुलाक़ात के दौरान हुआ था. इसकी जिम्मेदारी चरमपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट ने ली थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)