पाकिस्तान का बेनज़ीर भुट्टो हत्याकांड: मुख्य अभियुक्त ने जारी किया वीडियो

  • 26 जून 2018
इकरामुल्लाह

पाकिस्तान की पूर्व प्रधानमंत्री बेनज़ीर भुट्टो की हत्या के एक अभियुक्त का एक वीडियो सामने आया है जिसमें वो अपनी संलिप्तता से इनकार रहा है.

इकरामुल्लाह को बेनज़ीर की हत्या में आत्मघाती हमलावर का मददगार माना जाता है. जाँच एजेंसियों का दावा है कि पहले इकरामुल्लाह को ही हमला करना था, लेकिन उसे सफलता नहीं मिली थी.

बेनज़ीर की हत्या से जुड़े जांच अधिकारियों का कहना है कि जब दूसरे हमलावर ने ख़ुद को उड़ा लिया तो इकरामुल्लाह वहां से निकल गया था.

2007 के हुए इस हमले में रावलपिंडी की एक रैली में बेनज़ीर समेत 20 लोग मारे गए थे.

इस मामले में पहला कोई सार्वजनिक बयान आया है. इकरामुल्लाह के वीडियो संदेश को पाकिस्तानी तालिबान ने जारी किया है. बीबीसी के पास यह वीडियो है. ऐसा माना जा रहा है कि यह वीडियो पूर्वी अफ़ग़ानिस्तान में बनाया गया है. यह इलाक़ा तालिबान का गढ़ है.

इमेज कॉपीरइट JOHN MOORE
Image caption रावलपिंडी की रैली में हत्या के ठीक पहले बेनज़ीर भुट्टो

इस वीडियो में इकरामुल्लाह ने कहा है कि वो न तो इस हत्याकांड में शामिल था और न ही उसे इस बारे में पता था. पाकिस्तान ने इकरामुल्लाह को मोस्ट वॉन्टेड संदिग्ध आतंकियों की सूची में रखा गया है.

अदालत में इकारामुल्लाह का नाम दूसरे आत्मघाती हमलावर के रूप में था. सीनेटर और पाकिस्तान के पूर्व गृह मंत्री रहमान मलिक बेनज़ीर भुट्टो के क़रीबी रहे हैं. उन्होंने बीबीसी से कहा, ''इकरामुल्लाह पूरी तरह झूठ बोल रहा है.''

बेनज़ीर भुट्टो हत्याकांड की कैसे हुई लीपापोती

बेनज़ीर भुट्टो की हत्या से जुड़े 7 सवालों के जवाब

पाकिस्तानी चरमपंथी समूह से जुड़े सूत्रों ने बीबीसी से कहा कि इससे पहले इकरामुल्लाह ने बेनज़ीर की हत्या में अपनी संलिप्तता को सीना ठोककर स्वीकार किया था. पिछले साल इकरामुल्लाह पर अफ़ग़ानिस्तान के एक दूसरे इस्लामिक समूह ने हमला किया था. इसके साथ ही इकरामुल्लाह के परिवारवालों को पाकिस्तानी सुरक्षाबलों से धमकी मिली थी.

इसके बाद ऐसा माना जा रहा है कि इकरामुल्लाह को उसके समूह के लोगों ने सलाह दी कि वो वीडियो बनाकर अपनी संलिप्तता से इनकार कर दे. बीबीसी से एक सूत्र ने कहा, ''पाकिस्तानी तालिबान और यहां तक कि आदिवासी इलाक़ों के बच्चों को भी पता है कि बेनज़ीर की हत्या में इकरामुल्लाह शामिल था."

भुट्टो 1988 और 1993 में प्रधानमंत्री चुनी गई थीं. देश से निर्वासन के बाद वो 2007 में पाकिस्तान में चुनाव लड़ने आई थीं और चुनावी अभियान के दौरान ही उन पर हमला हुआ था. अक्टूबर 2007 में भी कराची एयरपोर्ट पर बेनज़ीर को आत्मघाती हमलावरों ने निशाना बनाया था. हालांकि बेनज़ीर इस हमले में बच गई थीं पर 150 लोग मारे गए थे.

इमेज कॉपीरइट AFP/GETTY

इस हमले के दो महीने बाद भुट्टो रावलपिंडी की एक रैली में मारी गईं. इस हत्याकांड में पांच संदिग्ध अभियुक्तों पर साज़िश रचने के मामले में मुकदमा चला, जिन्हें अदालत ने पिछले साल रिहा कर दिया था. उस वक़्त के पाकिस्तानी तालिबान के नेता बैतुल्लाह मसूद की 2009 में अमरीकी हमले में मौत हो गई थी.

पाकिस्तानी ख़ुफ़िया अधिकारियों का कहना है कि उन्होंने बैतुल्लाह मसूद का फ़ोन टैप किया था. एक बातचीत में बैतुल्लाह से एक मौलवी कह रहे थे कि बेनज़ीर पर उनके लोगों ने हमला किया था जिसमें इकरामुल्लाह भी शामिल था. तब इकरामुल्लाह की उम्र 16 साल हो रही थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)