अफ़ग़ानिस्तान में सिखों पर जानलेवा हमला

  • 2 जुलाई 2018
इमेज कॉपीरइट EPA

अफ़ग़ानिस्तान के पूर्वी शहर जलालाबाद में एक आत्मघाती बम हमले में कम से कम 19 लोग मारे गए हैं. इनमें से अधिकतर लोग अल्पसंख्यक सिख समुदाय के हैं.

एक अधिकारी का कहना है कि ये लोग राष्ट्रपति अशरफ़ ग़नी से मिलने के लिए एक गाड़ी में सवार होकर जा रहे थे. उसी समय उन्हें हमले का निशाना बनाया गया.

इमेज कॉपीरइट Reuters

राष्ट्रपति ग़नी नंगरहार प्रांत में दो दिन के दौरे पर आए हुए हैं. कुछ ही घंटे पहले उन्होंने जलालाबाद का दौरा किया था.

मारे गए लोगों में स्थानीय सिख नेता अवतार सिंह खालसा भी शामिल हैं.

इमेज कॉपीरइट EPA

अवतार सिंह खालसा एकमात्र सिख उम्मीदवार थे जो अक्टूबर में होने वाला संसदीय चुनाव लड़ने की योजना बना रहे थे. इस्लामिक स्टेट ने इस हमले की ज़िम्मेदारी ली है.

काबुल में मौजूद बीबीसी संवाददाता सईद अनवर के मुताबिक, अवतार सिंह खालसा को हिंदू और सिख समुदाय के नुमाइंदे के तौर पर देखा जाता है. अफ़गानिस्तान के अलग-अलग सूबों में हज़ारों सिख रहते हैं जो क़ारोबार से जुड़े हुए हैं.

लेकिन बीते 20 वर्षों में दहशत की वजह से कई सूबों सें हिंदू और सिख समुदाय के लोग चले गए हैं. इनमें से कुछ भारत तो कुछ ने यूरोपीय देशों का रुख़ किया है.

इमेज कॉपीरइट Facebook

देश के बाकी हिस्सों की तुलना में जलालाबाद में कई सिख और हिंदू परिवार रहते हैं.

अफ़ग़ानिस्तान में आबादी का बड़ा हिस्सा मुसलमानों का है जहां सिख और हिंदू अल्पसंख्यक हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे