थाईलैंड की गुफा से बच्चों का पहला संदेश: "चिंता मत करिए, हम बहादुर हैं"

  • 7 जुलाई 2018
बीबीसी इमेज कॉपीरइट FACEBOOK/Thai NavySEAL

क़रीब दो हफ़्ते से उत्तरी थाईलैंड की एक गुफा में फंसे 12 बच्चों ने अपने परिजनों के लिए पहली बार कुछ लिखित संदेश भेजे हैं.

कुछ बच्चों ने लिखा है, "आप लोग चिंता मत करिये... हम सभी बहादुर हैं." तो कुछ बच्चों ने गुफा में अपनी पसंद का खाना मंगवाया है.

शनिवार सुबह थाईलैंड की नेवी के गोताखोरों का एक दल गुफा से ये लिखित संदेश लेकर लौटा.

इससे पहले बचाव दल के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया था कि गुफा में ऑक्सीज़न की लाइन बिछा दी गई है ताकि बच्चों को साँस लेने में कोई दिक्कत न हो.

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK/EKATOL
Image caption कुछ बच्चों ने अपने संदेश में लिखा है कि उनका चिकन फ़्राई खाने का मन है. एक बच्चे ने अपने टीचर के लिए संदेश लिखा, "सर, इतना सारा होमवर्क मत दिया कीजिये"

ये सभी बच्चे और उनके कोच 23 जून की शाम फ़ुटबॉल का अभ्यास करने के बाद इस गुफा को देखने गये थे. लेकिन बाढ़ के पानी के कारण सभी गुफा के अंदर फंस गये.

नौ दिन बाद बचावकर्ताओं के एक दल ने इन बच्चों को खो़ज निकाला था. बचाव दल के अनुसार गुफा में फंसे बच्चों और उनके कोच ने गुफा के भीतर कोई ऐसी जगह तलाश ली थी जिससे वे बाढ़ के पानी की चपेट में आने से बच गये.

'मुझे माफ़ कर दीजिये'

बच्चों के अलावा उनके 25 वर्षीय कोच इक्कापोल चांतावॉन्ग ने भी एक लिखित संदेश भेजा है.

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK/Thai NavySEAL

उन्होंने लिखा है, "सभी परिजनों को मैं बताना चाहता हूँ कि सारे बच्चे सुरक्षित हैं. बचाव दल हमारा ख़्याल रख रहा है. मैं सभी से वादा करता हूं कि बच्चों की सुरक्षा के लिए मैं सब कुछ करूंगा. सभी लोगों का मदद के लिए सामने आने का शुक्रिया."

इस संदेश के आख़िर में उन्होंने लिखा है, "जो कुछ हुआ उसके लिए मैं हर बच्चे के परिजनों से माफ़ी मांगता हूँ. मुझे माफ़ कर दीजिये."

संबंधित ख़बरें:

फिलहाल गुफा की स्थिति

गुफा के मुख से क़रीब 4 किलोमीटर भीतर बच्चों का ये समूह फंसा हुआ है.

वहीं इनके लिए खाना, पानी, दवाइयाँ और ऑक्सीज़न पहुँचाई जा रही है.

लेकिन जिस चैंबर में ये बच्चे बैठे हुए हैं, उसके पास पानी का बहाव बहुत ज़्यादा है.

ये कितना ख़तरनाक है, इसका अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि शुक्रवार को एक गोताखोर समन गुनन की मौत हो गई.

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK/Thai NavySEAL
Image caption समन गुनन की मौत पर थाईलैंड के लोगों ने संवेदना प्रकट की है. सोशल मीडिया पर भी उनके लिए संदेश लिखे गए हैं.

वो गुफा में ज़रूरी सामान पहुँचाकर लौट रहे थे. समन गुनन थाई नौसेना के पूर्व गोताखोर थे.

उन्होंने नौकरी छोड़ दी थी लेकिन बचाव अभियान में शामिल होने के लिए वो लौट आए थे.

अगली बड़ी चुनौती

थाईलैंड के मौसम विभाग ने चेतावनी दी है कि रविवार को भारी बारिश हो सकती है.

इसे लेकर बचाव दल में ये चिंता है कि ज़्यादा बारिश होने से गुफा में पानी का स्तर बढ़ सकता है.

इसके अलावा जहाँ बच्चे इस वक़्त फंसे हुए हैं वहाँ ऑक्सीज़न का स्तर कम से कम 21 फ़ीसद होना चाहिए.

लेकिन इस बीच कई बार ऑक्सीज़न का स्तर घटकर 15 फ़ीसद तक गिर चुका है.

अगर गुफा में पानी का बहाव तेज़ होता या पानी का स्तर बढ़ता है, तो बचाव दल को काम बंद करना पड़ता है. ऐसे दो बार हो चुका है. लेकिन ये एक चुनौतीपूर्ण स्थिति है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार