थाईलैंड की गुफा से चार बच्चों को 'सुरक्षित निकाला गया'

  • 9 जुलाई 2018
थाईलैंड बच्चों को गुफा से बाहर निकालने का काम जारी इमेज कॉपीरइट Getty Images

उत्तरी थाईलैंड की बाढ़ वाली गुफा में फंसे 12 बच्चों में से कम से कम चार बच्चों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है.

बाहर निकाले गए चारों बच्चों को सुरक्षित अस्पताल पहुंचा दिया गया है. अब बचाव अभियान सोमवार को शुरू होगा.

आज क्या-क्या हुआ

  • रविवार को स्थानीय समयानुसार सवेरे 10.00 बजे बच्चों को बचाने के लिए अभियान शुरु किया गया.
  • स्थानीय समयानुसार शाम 17.40 बजे पहले बच्चे को गुफा से निकाला गया.
  • अब तक चार बच्चों को निकाल लिया गया है. सभी को नज़दीकी चियांग राय अस्पताल में भर्ती कराया गया है.
  • 13 विदेशी डाइवरों और थाईलैंड के पांच नेवी सील ने इन चार बच्चों को गुफा से निकाला. बताया जा रहा है कि बच्चों का स्वास्थ्य ठीक है.
  • रात 21.00 बजे बचाव कार्य को रोक दिया गया. सोमवार को बाकी बचे नौ लोगों को निकालने का काम शुरू किया जाएगा.
  • गुफा के भीतर अब 8 बच्चे और उनके एक कोच हैं.
गवर्नर नोरोंगसाक ओस्टानोकोर्न इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption गवर्नर नोरोंगसाक ओस्टानोकोर्न

बीबीसी संवाददाता जोनाथन हेड के मुताबिक बचाव अभियान के प्रमुख नारोंगसाक ने बताया है कि चार बच्चे बाहर निकाले गए हैं और बाक़ी 9 जिनमें कोच भी शामिल है अभी गुफा में उसी जगह पर हैं जहां वो फंसे हुए थे. इन्हें बाहर निकालने में एक दिन और लग सकता है.

बचाव अभियान प्रमुख के मुताबिक बच्चों को बाहर निकालने के अभियान में कुल 90 गोताखोर शामिल थे जिनमें 40 थाईलैंड के हैं और 50 अन्य देशों से हैं.

इस बीच गुफा के आसपास बारिश शुरू हो गई है जिससे बचाव अभियान में मुश्किलें आ सकती हैं.

थाईलैंड इमेज कॉपीरइट Getty Images

थाई बचावकर्मियों ने रविवार को जलस्तर बढ़ने की आशंका को देखते हुए इस जोख़िम भरे मिशन में आगे बढ़ने का फ़ैसला लिया था.

ये बच्चे दो हफ़्ते से एक 'टैम लूंग' गुफा में फंसे हुए थे.

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने ट्वीट करके कहा है कि अमरीका बचाव अभियान में थाईलैंड की मदद कर रहा है. उन्होंने कहा, "अमरीका सभी बच्चों को सुरक्षित गुफा से निकालने में थाईलैंड सरकार के साथ काम कर रहा है. वो बहुत बहादुर और टेलेंटेड लोग हैं."

बीबीसी की वियतनामी सेवा ने हेलिकॉप्टर के अस्पताल पहुंचने का ये वीडियो साझा किया है.

हेलिकॉप्टर इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption बच्चों को हेलिकॉप्टर से अस्पताल ले जाया गया है
थाईलैंड इमेज कॉपीरइट Getty Images

लेफ्टिनेंट जनरल कोंगचीप तंत्रावानित का कहना है कि थोड़ी देर में और चार बच्चों को भी बाहर लाया जा सकता है.

मिशन के बारे में जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि फ़िलहाल गुफा के भीतर एक "बेस कैंप" बनाया गया है जहां बच्चों को रखा गया.

बीबीसी संवाददाता डैन जॉनसन के मुताबिक़ गुफा वहां के नज़दीकी अस्पताल से एक घंटे की दूरी पर है जहां इन बच्चों के परिजन उनका इंतज़ार कर रहे हैं.

उन्होंने ये भी कि डॉक्टरों ने शनिवार को बच्चों की जांच की और फ़ैसला किया कि सबसे कमज़ोर बच्चे को सबसे पहले निकालने का फ़ैसला किया.

Thailand

ऑपरेशन

पंद्रह दिन से उत्तरी थाईलैंड की एक गुफा में फंसे 12 बच्चों और उनके फ़ुटबॉल कोच को बाहर निकालने का 'मिशन' गुफा में बढ़ते जलस्तर को देखते हुए शुरू किया गया.

बचाव दल के अधिकारियों के मुताबिक स्थानीय समयानुसार सुबह दस बजे 13 गोताखोरों का एक दल बच्चों को बाहर लाने के लिए भेजा गया है.

समाचार एजेंसी एएफ़पी ने बचाव दल के हवाले से लिखा है कि एक-एक कर सभी बच्चों को बाहर निकालने में दो से तीन दिन का समय लग सकता है.

एएफ़पी इमेज कॉपीरइट AFP

थाईलैंड में मौजूद बीबीसी संवाददाताओं से पल-पल का अपडेट:

  • रविवार सुबह थाईलैंड के अधिकारियों ने आदेश दिया कि जिन लोगों की बचाव कार्य में ज़रूरत नहीं है, वे सभी गुफा के प्रवेश द्वार से पीछे हट जाएं.
  • इसके बाद गुफा के प्रवेश द्वार के आसपास के इलाक़े को खाली करा लिया गया. इसके बाद ये 'रेसक्यू मिशन' शुरू हुआ.
थाईलैंड इमेज कॉपीरइट AFP
  • बचाव दल ने बच्चों के परिजनों को इस बारे में सूचित कर दिया है.
  • गुफा के प्रवेश द्वार के पास एक छोटे बाज़ार जितनी भीड़ जमा थी. इनमें बहुत से लोग वो थे जो स्वेच्छा से बचाव कार्य में मदद करने के लिए चले आए थे. पुलिस ने शिक़ायत की है कि भीड़ जमा होने से बचाव कार्य में दिक्कत हो रही है.
  • मीडियाकर्मियों से भी कहा गया है कि वो प्रवेश द्वार से दूर रहें.
थाईलैंड इमेज कॉपीरइट @HelierCheung/TWITTER
Image caption मीडिया के लोगों को गुफा के प्रवेश द्वार से पीछे हटाया गया है

12.8 करोड़ लीटर पानी

बचाव कार्य में शामिल थाईलैंड की नेवी ने कहा है कि गुफा में पानी का स्तर पहले से काफी कम हुआ है.

थाईलैंड इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption अब तक गुफा से 12.8 करोड़ लीटर पानी बाहर खींचा जा चुका है. बीते कुछ दिनों से पानी खींचने में लगे इंजन 24 घंटे चल रहे हैं

बड़ी चुनौतियाँ

बीबीसी संवाददाता जॉनथन हेड ने बताया है कि बचावकर्मियों के लिए सबसे बड़ी चुनौती होगी बच्चों को पानी के भीतर गोताखोरी के लिए काम आने वाले उपकरणों के साथ तैराकी करवाना. इनमें से किसी भी बच्चे ने पहले गोताखोरी नहीं की है.

@HelierCheung/Twitter इमेज कॉपीरइट @HelierCheung/Twitter

हाइपोथर्मिया भी एक बड़ा ख़तरा है. बचावकर्मियों ने बताया है कि गुफा के अंदर पानी बहुत ठंडा है. बाहर आने के लिए बच्चों को कुछ घंटे पानी के अंदर तैरना पड़ेगा. ऐसे में उनके अंग सुन्न पड़ सकते हैं.

इसके अलावा संक्रमण का ख़तरा भी है. गुफा के पानी से और अंदर पल रहे चमगादड़ जैसे जानवारों के काटने से कई तरह की बीमारियाँ हो सकती हैं.

अधिकारियों ने बताया है कि सभी 13 लोगों को बाहर लाने में तीन दिन का समय भी लग सकता है. हालांकि शुरुआती अनुमान के बाद बताया गया था कि बच्चों को बाहर निकालने में चार महीने भी लग सकते हैं.

बच्चों की प्रार्थना सभा

थाईलैंड इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption गुफा के पास के ही एक स्कूल में बच्चों की सलामती की दुआ करते स्कूली बच्चे. गुफा में फंसे 13 में से छह बच्चे इसी स्कूल में पढ़ते हैं.

शनिवार को हुई बारिश

शनिवार को हुई बारिश के बाद ये चिंता बढ़ गयी थी कि गुफा में दोबारा पानी का स्तर न बढ़ने लगे.

फ़िलहाल गुफा में पानी कम है, बारिश भी औसतन कम हो रही है और बच्चों की सेहत पहले से बेहतर है. इन सभी परिस्थितियों को देखते हुए ये फ़ैसला किया गया कि बच्चों को बाहर निकालने के लिए यही सबसे अच्छा मौक़ा है.

थाईलैंड इमेज कॉपीरइट Getty Images

चियांग राई प्रांत के गवर्नर और इस बचाव कार्य का नेतृत्व कर रहे नारोंग्साक ने शनिवार को कहा था, "बच्चों की तबियत अब ठीक है. अगले दो दिन बारिश की संभावना नहीं है और गुफा से काफ़ी सारा पानी बाहर निकाला जा चुका है. ऐसे में बच्चों को बाहर निकालने की कार्यवाही शुरू करने का ये सही समय है. हमें जल्द से जल्द बड़ी कार्यवाही पर अंतिम फ़ैसला करना होगा."

बीबीसी

फ़िलहाल गुफा की स्थिति

गुफा के मुख से क़रीब 4 किलोमीटर भीतर और पहाड़ की चोटी से क़रीब एक किलोमीटर नीचे बच्चों का ये समूह फंसा हुआ है.

वहीं इनके लिए खाना, पानी, दवाइयाँ और ऑक्सीज़न पहुँचाई जा चुकी हैं.

लेकिन जिस चैंबर में ये बच्चे बैठे हुए हैं, उसके पास पानी का बहाव बहुत ज़्यादा है.

ये कितना ख़तरनाक है, इसका अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि शुक्रवार को गुफा में सामान पहुँचाने गये एक गोताखोर समन गुनन की लौटते वक़्त मौत हो गई थी.

बीबीसी

बच्चों के संदेश

इससे पहले थाई नेवी सील ने बच्चों द्वारा लिखकर भेजे गये कुछ संदेश सोशल मीडिया पर शेयर किये थे.

कुछ बच्चों ने लिखा था, "आप लोग चिंता मत करिये... हम सभी बहादुर हैं." तो कुछ बच्चों ने गुफा में अपनी पसंद का खाना मंगवाया था.

थाई नेवी सील इमेज कॉपीरइट FACEBOOK/Thai NavySEAL

बच्चों के अलावा उनके 25 वर्षीय कोच इक्कापोल चांतावॉन्ग ने भी एक लिखित संदेश भेजा था. उन्होंने लिखा था, "जो कुछ हुआ उसके लिए मैं हर बच्चे के परिजनों से माफ़ी मांगता हूँ. मुझे माफ़ कर दीजिये."

Presentational grey line
BBC इमेज कॉपीरइट FACEBOOK/EKATOL
Image caption कुछ बच्चों ने अपने संदेश में लिखा है कि उनका चिकन फ़्राई खाने का मन है. एक बच्चे ने अपने टीचर के लिए संदेश लिखा, "सर, इतना सारा होमवर्क मत दिया कीजिये"

बच्चे कैसे फंसे?

ये सभी बच्चे और उनके कोच 23 जून की शाम फ़ुटबॉल का अभ्यास करने के बाद थाईलैंड की चौथी सबसे लंबी गुफा 'टैम लूंग' देखने गये थे.

इस गुफा की लंबाई 10,316 मीटर बताई जाती है.

थाईलैंड में 22 और 23 जून को हुई भारी बारिश के बाद बाढ़ का पानी गुफा में घुस गया और सभी गुफा के अंदर फंस गये.

नौ दिन बाद बचावकर्ताओं के एक दल ने इन बच्चों को खोज निकाला था.

बचाव दल के अनुसार गुफा में फंसे बच्चों और उनके कोच ने गुफा के भीतर कोई ऐसी जगह तलाश ली थी जिससे वे बाढ़ के पानी की चपेट में आने से बच गए.

Presentational grey line

जिन्होंने खोजे थाईलैंड की गुफा में गुम हुए बच्चे

थाईलैंड इमेज कॉपीरइट Getty Images

'आप कितने लोग हैं?'

ये वो शब्द हैं जो थाईलैंड की गुफा में फंसे 12 बच्चों और उनके एक कोच ने 9 दिन बीत जाने के बाद सबसे पहले सुने. गुफा के बाहर से यह सवाल एक ब्रिटिश नागरिक जॉन वोलेंनथन ने पूछा था.

इसके जवाब में गुफा के अंदर से आवाज़ आई...'थर्टिन'

इस जवाब के साथ ही यह बात पक्की हो गई कि गुफा में फंसे सभी बच्चों और उनके कोच को खोज लिया गया है और वे सभी जीवित हैं.

पूरी कहानी पढ़ें- कौन हैं बच्चों को ढूंढने वाले तीन बचावकर्मी?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार