भारत पर बनी वो फ़िल्म जो चीन में हुई सुपरहिट

  • 16 जुलाई 2018
चीन, कैंसर, भारत इमेज कॉपीरइट Dying to Survive Movie

कैंसर की दवाएं, भारत और चीन, इन तीन चीजों के इर्दगिर्द घूमती एक फ़िल्म चीन में जबरदस्त हिट हो गई है.

इस फ़िल्म का हिट होना वहां कई लोगों को हैरान भी कर रहा है. लेकिन, ये चीन में कैंसर की महंगी दवाओं के कारण आम लोगों की परेशानी को दिखाता है.

साथ ही किस तरह भारतीय दवाइयों पर चीनी लोगों की निर्भरता बढ़ रही है इसे भी बताता है.

ये फ़िल्म एक कैंसर रोगी पर बनी है जो भारत से सस्ती दवाएं ख़रीदने के लिए गिरफ़्तार होने तक का जोख़िम उठाता है.

इमेज कॉपीरइट SPL

'डाइंग टू सर्ववाइव' अमरीकी फ़िल्म 'डलास बायर्स क्लब' की रीमेक है.

ये फ़िल्म 6 जुलाई को रिलीज हुई थी और ये कैंसर के एक मरीज लू योंग की असल ज़िंदगी पर बनी है.

लू पूर्वी जिआंगसू प्रांत के एक टेक्स्टाइल व्यापारी हैं. उन्हें क्रॉनिक मेलॉइड ल्यूकेमिया (कैंसर का एक प्रकार) है. उन्हें चीन में कैंसर के मरीजों को भारत से नकली दवाइयां बेचने के आरोप में 2013 में गिरफ़्तार किया गया था.

दो साल बाद उन्हें साल 2015 में रिहा कर दिया गया था.

लू ने इस जेनरिक दवाई से सैकड़ों मरीजों की मदद की थी. ये दवाई भारत की नेटको फार्मा कंपनी बनाती है.

इमेज कॉपीरइट AFP

भारत के साथ समझौता

कैंसर की महंगी दवाइयों से राहत के लिए चीन कई तरह के क़दम भी उठा रहा है.

फ़िल्म रिलीज़ होने के बाद चीन ने 9 जुलाई को कहा था कि उसका भारत के साथ दवाइयों और ख़ासकर कैंसर रोधी दवाइयों के आयात को लेकर समझौता हुआ है.

इससे पहले मई में कुछ कैंसर रोधी दवाइयों के आयात पर टैरिफ़ भी हटाया गया था.

इसके अलावा कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक चीन विदेशी फार्मा कंपनियों के साथ भी दवाइयों की क़ीमत कम करने को लेकर बातचीत करने वाला है.

हाल के सालों में, चीन ने देश में निर्मित जेनरिक दवाओं के ज़्यादा सुरक्षित और सस्ता बनाने को मंजूरी देने में तेजी ला रहा है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारतीय दवाइयां ज़्यादा प्रचलित

साइंस और टेक्नोलॉजी की सरकारी अख़बार ने कहा है कि कुछ मरीजों को जेनरिक दवाओं को लेकर चिंताएं हैं और चीन की घरेलू दवा बनाने वाली कंपनियां कम मुनाफ़े के चलते इन दवाइयों को बनाने से बचती भी हैं.

अख़बार लिखता है कि एक और समस्या ये है कि जिन अस्पतालों के पास फंड की कमी है वो अपनी लागत पूरी करने के लिए दवाओं को महंगे दामों पर बेचते हैं.

'ग्लोबल टाइम्स' अख़बार के मुताबिक चीन में मिलने वाली भारतीय दवाओं में ज़्यादातर कैंसर रोधी दवाइयां हैं. ये दवाइयां ज़्यादा असरदार होने के कारण चीन की स्वेदश निर्मित दवाइयों से अधिक प्रचलित हैं.

अख़बार में ये भी लिखा है कि यहां तक कि चीन में एजेंट्स भारतीय जेनरिक दवाएं बेच रहे हैं जो चीन के सर्च इंजन बेडु और ऑनलाइन शॉपिंग प्लेटफॉर्म टाओबो पर आसानी से मिल जाती हैं.

(बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की ख़बरें ट्विटर और फ़ेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)