'जीत' के बाद इमरान ख़ान ने भारत के बारे में क्या कहा

  • 26 जुलाई 2018
इमरान खान इमेज कॉपीरइट Reuters

पाकिस्तान में हुए आम चुनावों के रुझानों में इमरान ख़ान की पीटीआई पार्टी सबसे आगे है.

चुनाव में बड़ी जीत के बाद इमरान ख़ान प्रेस ने कॉन्फ़्रेंस किया. उनके भाषण की मुख्य बातें:

  • मैं आज अल्लाह का शुक्र अदा करता हूं कि 22 साल की लड़ाई के बाद मुझे उस मुकाम पर पहुंचाया है. मैंने चुनावों में जो वादा किया था उसे पूरा करूंगा. 22 साल पहले मैं क्यों सियासत में आया था? मैं ये समझता हूं कि मेरे मुल्क की जो ताक़त थी, जिस तरह से देश विकास कर रहा था वो नीचे आया. मैं चाहता था कि हमारा देश फिर से बड़ा बने.
  • बलूचिस्तान के लोगों को दाद देना चाहता हूं कि मुश्किलों का सामना करने के बावजूद वो देश को मज़बूत करने के लिए घर से बाहर निकले.

कैसा पाकिस्तान चाहते हैं इमरान

  • पाकिस्तान उस तरह का मुल्क बने जहां एक कमज़ोर के साथ वो खड़ा हो सके. हमारे 45 फ़ीसदी बच्चे बीमार हैं. वो कुपोषण के शिकार हैं. हमारे देश की महिलाओं को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं नहीं मिलतीं. हम ऐसी योजना बनाना चाहते हैं जिससे यहां के लोगों का विकास हो सके. एक मुल्क की पहचान ये नहीं होती कि वहां के अमीर कैसे रहते हैं. उसकी पहचान ये होती है कि वहां के ग़रीब कितने खुश रहते हैं. मैं आज यह कहना चाहता हूं कि सारा पाकिस्तान एकजुट हो. जिन्होंने मेरे ख़िलाफ़ भी वोट वोट दिया, मैं उनके साथ हूं.
  • मैं ये साबित कर के दिखाऊंगा कि मेरी सरकार किसी के ख़िलाफ़ नहीं है. जो क़ानून तोड़ेगा उसके ख़िलाफ़ कार्रवाई होगी. ज़िम्मेदारी की शुरुआत मुझसे शुरू होगी. भ्रष्टाचार इस देश को खा रहा है. इसे ख़त्म करने के लिए क़ानून सबके लिए एक होगा.

आर्थिक स्थिति बेहतर करने के लिए क्या करेंगे

  • पाकिस्तान के सामने आर्थिक चुनौती है. हमें पहले सरकार की हालत ठीक करनी है. फिर व्यापार का माहौल बनाना है. हम मौका देंगे कि बाहर रह रहे पाकिस्तानी यहां निवेश कर सकें.
  • हमारा देश दुनिया का दूसरा युवा देश है. हमारे सामने बेरोज़गारी की समस्या है. हम पाकिस्तान को ऐसे चलाएंगे, जैसा पहले नहीं चलाया गया.
  • सरकार में सादगी होगी. यहां के चुने हुए नेता पैसा ख़ुद पर ख़र्च करते हैं. टैक्स देने वाले लोगों के पैसे बेदर्दी से खर्च किए जाते हैं. देश के टैक्स के पैसे की मैं हिफ़ाज़त करूंगा. हमारी सरकार यह तय करेगी कि गवर्नर हाउस का क्या करना है. उसमें स्कूल चलाया जाएगा या फिर जनता के कुछ और काम के लिए इस्तेमाल किया जाएगा. मैं एक छोटे से घर में रहूंगा.
इमेज कॉपीरइट EPA

क्या होगी पाकिस्तान की विदेश नीति

  • विदेश नीति पर ख़ास ज़ोर होगा. हम चाहते हैं कि हमारे पड़ोसी देशों से हमारे रिश्ते अच्छे हों.
  • चीन हमारा पड़ोसी है. वो हमें एक मौका देता है, हम उनका इस्तेमाल करेंगे. हमारी कोशिश होगी कि ग़रीबी मिटाने के लिए चीन के मॉडल की पहचान की जाए. चीन ने भ्रष्टाचार को ख़त्म किया, हम उनसे इस संदर्भ में सीखेंगे.
  • अफ़ग़ानिस्तान के लोगों ने दुनिया में सबसे ज्यादा तकलीफें झेली हैं. हमारी कोशिश होगी कि वहां अमन का माहौल बने. हम चाहते हैं कि ऐसी स्थिति हो कि हमारी सीमाएं दोनों देशों के लिए खुली हों.
  • अमरीका के साथ हमारे रिश्ते बेहतर हों. हम ऐसा रिश्ता चाहते हैं कि दोनों देशों के बीच संतुलन बन सके.
  • सऊदी अरब हमारे साथ खड़ा रहता है. हम उसकी हर संभव मदद की कोशिश करेंगे.
  • हिंदुस्तान... मुझे थोड़ा अफ़सोस हुआ कि वहां की मीडिया ने मुझे विलेन की तरह दिखाया. मैं वो पाकिस्तानी हूं, जिसे भारत के लोग सबसे ज्यादा जानते हैं क्रिकेट की वजह से.
  • अगर हिंदुस्तान और पाकिस्तान के रिश्ते अच्छे हों तो यह दोनों के लिए बेहतर होगा. हमारे व्यापारिक संबंध और बेहतर हों, इससे दोनों देशों को फायदा होगा.
  • कश्मीर में जो हालात है, वहां के लोगों ने जो झेला है, हमारी कोशिश होगी कि दोनों देश एक साथ बैठ कर तय करें कि वहां की स्थिति कैसे बेहतर की जाए.
  • हम बातचीत के लिए पूरी तरह तैयार हैं. अगर भारत एक कदम आगे बढ़ाता है तो हम दो कदम आगे बढ़ाएंगे.
  • अभी तक आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला रहा है. हम चाहते हैं कि दोनों देशों के बीच दोस्ती हो. दोनों देशों के ताल्लुकात बेहतर हों.

ये भी पढ़ेंः

LIVE पाकिस्तान चुनाव: 'मेरे बेटे का पिता बनेगा पाकिस्तान का पीएम'

इमरान ख़ान को सत्ता के शिखर तक पहुंचने में इतना वक़्त क्यों लगा

पाकिस्तान चुनाव: नतीजों में देरी, साज़िश का आरोप

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)