गधे को ज़ेब्रा की तरह रंगा तो दर्शक ने पकड़ा

  • 28 जुलाई 2018
इमेज कॉपीरइट MAHMOUD A SARHAN
Image caption चिड़ियाघर ने गधे को रंगने से इनकार किया है

मिस्र के एक चिड़ियाघर में कथित तौर पर गधे पर काली धारियां पेंट की गई थीं ताकि वह ज़ेब्रा की तरह दिखे. गधे की तस्वीर के सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद मिस्र ने ऐसी किसी घटना से इनकार किया है.

काहिरा के इंटरनेशनल गार्डन म्युनिसिपल पार्क में घूमने के बाद महमूद सरहान नामक छात्र ने फ़ेसबुक पर इसकी तस्वीरें डाली थीं. गधे की छोटी लंबाई होने के अलावा उसके नोकदार कान थे और उसके मुंह पर काले छब्बे थे.

इसके बाद विशेषज्ञों की जानवरों पर टिप्पणी के साथ तस्वीरें वायरल होने लगीं.

स्थानीय समाचार समूह एक्स्ट्रान्यूज़.टीवी से एक पशु चिकित्सक ने कहा कि ज़ेब्रा का आगे का मुंह काला होता है जबकि इसकी धारियां समानांतर होती हैं.

सरहान ने एक्स्ट्रान्यूज़ से कहा कि बाड़े में दो जानवर थे और दोनों को रंगा गया था.

Image caption ज़ेब्रा की नाक और आगे मुंह का हिस्सा काला होता है और उसके कान गधे से छोटे होते हैं

स्थानीय रेडियो स्टेशन नोगूम एफ़एम ने जब चिड़ियाघर के निदेशक मोहम्मद सुल्तान से संपर्क किया तो उन्होंने ज़ोर देते हए कहा कि जानवर नकली नहीं था.

यह कोई पहली बार नहीं है जब किसी चिड़ियाघर पर दर्शकों को बेवकूफ़ बनाने का आरोप लगा है.

इसराइली नाकेबंदी के दौरान 2009 में गज़ा के चिड़ियाघर पर दो गधों को ज़ेब्रा की तरह पेंट करने का आरोप लगा था.

2012 में गज़ा के एक अन्य चिड़ियाघर पर मृत जानवर का पुतला दिखाने का आरोप लगा था. ऐसा उसने जानवरों की कमी के कारण किया था.

2013 में चीन के हेनान प्रांत के चिड़ियाघर में एक तिब्बती कुत्ते को अफ़्रीकी शेर के तौर पर दिखाने की कोशिश की गई और 2017 में ग्वांगचाशी प्रांत में दर्शकों के लिए चिड़ियाघर ने प्लास्टिक के पेंगुइन रखे थे.

एक सप्ताह बाद एक अन्य ग्वांगचाशी के चिड़ियाघर पर प्लास्टिक की तितलियां दिखाने का आरोप लगा था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे