अमरीका: जहां रेप के बाद पैदा हुए बच्चे का बाप बनता है रेपिस्ट

  • 7 अगस्त 2018
इमेज कॉपीरइट Thinkstock

आप शायद ये सुनकर हैरान हो सकते हैं अमरीका जैसे देश में कई जगह किसी बलात्कारी को रेप पीड़िता के बच्चे के पिता होने का हक़ दे दिया जाता है.

हैरान करने वाली बात ये भी है कि अमरीका में हर साल लगभग 32 हज़ार महिलाएं रेप की वजह से प्रेगनेंट हो जाती हैं.

अमरीका के चार राज्यों में ऐसा नियम है, जिसके तहत बलात्कारी को रेप से होने वाले बच्चे का अधिकार दे दिया जाता है.

यहां तक कि अगर मां बच्चे को किसी को गोद देना चाहे तो भी उसे रेपिस्ट की इजाज़त लेनी पड़ती है.

इमेज कॉपीरइट ANDRÉ VALENTE/BBC

टिफनी की कहानी

टिफनी मिशिगन में रहती हैं. सिर्फ़ 12 साल की उम्र में टिफनी के साथ रेप हुआ था और वो प्रेगनेंट हो गई थीं.

अब इस घटना के 10 साल बाद भी वो हमेशा डरी रहती हैं कि कहीं बलात्कारी उनके बच्चे से मिलने ना आ जाए.

टिफनी बताती हैं, "उसकी भतीजी ने मुझे मैसेज किया कि वो अपने बच्चे को देखना चाहता है और ये भी कहा कि वो उसे मेरे पास से ले जाएंगे."

"मैं डर गई. मुझे नहीं पता नहीं था कि मुझे उससे बच्चे को मिलाना होगा. मुझे जज ने कहा था कि उसके पास अभिभावक होने का अधिकार है."

हालांकि जहां टिफनी रहती हैं, वहां के क़ानून के मुताबिक़ बलात्कारी से बच्चे का पिता होने का अधिकार वापस लिया जा सकता है.

इमेज कॉपीरइट iStock

अभिभावक होने का अधिकार

लेकिन इसके लिए उन्हें कोर्ट जाना होगा और बड़ी क़ीमत चुकानी पड़ेगी पर टिफनी को अपनी लड़ाई लड़ने के लिए क़ानूनी मदद मिल गई है.

वहां से लगभग 1600 किलोमीटर दूर फ़्लोरिडा में रहने वाली आना लीन को भी क़ानून का सहारा लेना पड़ा.

वो भी एक रेप पीड़िता हैं. रेप के बाद हुए बच्चे को जन्म देने के लिए वो कहीं और चली गईं पर उनके रेपिस्ट ने उनका पता लगाकर अपनी बेटी को देखने की मांग की.

फ़्लोरिडा के क़ानून में इस तरह के हालात से बचने का कोई प्रावधान नहीं है.

आना लीन के मामले में इस राज्य का क़ानून बदलना पड़ा. अब यौन हमला करने वाले के अभिभावक होने का अधिकार वापस लिया जा सकता है, लेकिन अमरीका के हर राज्य में क़ानून अलग हैं.

यौन शोषण की सज़ा

डेरविन जब 40 साल के थे तब उन्होंने 15 साल की एक लड़की का रेप किया और वो प्रेगनेंट हो गईं.

लेकिन मैरीलैंड में इसके लिए ख़ास सज़ा क प्रावधान नहीं है. इसलिए उन्हें सिर्फ़ बच्चों के यौन शौषण से जुड़ी सज़ा मिली.

सज़ा के बावजूद आज भी बच्चे का अभिभावक होने का अधिकार उनके पास है.

डेरविन कहते हैं, "मुझे बताया गया कि मैं कोर्ट जा कर उससे बच्चे के साथ समय बिताने का हक़ मांग सकता हूं."

डेरविन को लगता है कि उनसे हक़ वापस लेने का बुरा असर होगा.

वे पूछते हैं, "आपको लगता है एक बच्चे के साथ सही होगा कि कोई उससे फैसले के हक़ ले ले और उसे बताया जाए कि वो अपने पिता से नहीं मिल सकता क्योंकि उसकी मां ऐसा नहीं चाहती."

इमेज कॉपीरइट ANDRÉ VALENTE/BBC

यौन पीड़िताओं का क्या

डेरविन ने जिसका बलात्कार किया था, उन्होंने पहचान छिपाने की शर्त पर बताया कि उन्हें ऐसे किसी नियम के बारे में पता नहीं था.

अब वो कोर्ट जा कर डेरविन के सारे अधिकार छीनने की तैयारी कर रही हैं.

हालांकि ये इतना आसान नहीं है.

वो कहती हैं, "मेरे पास क़ानूनी लड़ाई लड़ने लायक पैसा तो नहीं है फिर भी मैं लड़ूंगी. मैं वो सब कुछ करूंगी जो मेरे बेटे के लिए सही है. पर डर लगता है आगे क्या होगा."

अमरीका में जिन राज्यों में रेप और उससे जुड़े क़ानून साफ़ नहीं हैं और जहां रेप पीड़िता के पास ख़ुद को बचाने की क़ीमत चुकानी पड़ती हो वहां सवाल कई हैं.

इमेज कॉपीरइट ANDRÉ VALENTE/BBC

क्या कहते हैं अमरीकी क़ानून

अमरीकन जर्नल ऑफ़ ऑब्स्टेट्रिक्स एंड गाइनाकॉलॉजी के आंकड़े बताते हैं कि 12 से 45 साल के उम्र की बीच की पांच फ़ीसदी महिलाएं बलात्कार की वजह से गर्भवती होती हैं.

साल 2015 में ओबामा प्रशासन ने रेप सरवाइवर चाइल्ड कस्टडी एक्ट लाया था.

इसके तहत अमरीकी राज्यों को ज़्यादा बजट दिया गया ताकि रेपिस्ट को बच्चे के पिता होने का हक़ दे देने से इनकार करने वाली रेप पीड़िता को आर्थिक मदद दी जा सके.

43 अमरीकी प्रांतों और डिस्ट्रिक्ट ऑफ़ कोलंबिया में ये क़ानून अमल में लाया गया है, लेकिन अलग-अलग राज्यों ने इसे अपने-अपने तरीक़े से लागू किया है.

डिस्ट्रिक्ट ऑफ़ कोलंबिया और 20 अमरीकी राज्यों में किसी रेपिस्ट का बच्चे के पिता होने का हक़ ख़त्म करने के लिए उसे इस अपराध में दोषी क़रार दिया जाना ज़रूरी है.

आलोचकों का ये कहना है कि इस सूरत में उन पीड़िताओं की स्थिति ख़राब हो जाती हैं, जिनके मामले अदालतों तक पहुंच ही नहीं पाते हैं.

हालात का अंदाज़ा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि सात अमरीकी राज्यों में ऐसा कोई क़ानून ही नहीं है जो रेपिस्ट को बच्चे पर हक़ जताने से रोकता हो.

ये भी पढ़ें:

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे