इंडोनेशिया भूकंप: हज़ारों लोगों को निकाला गया

  • 6 अगस्त 2018
इंडोनेशिया इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption ऐहतियातन मरीज़ को अस्पताल से बाहर ले जाते कर्मचारी

इंडोनेशिया के लॉमबोक द्वीप पर रविवार को आए शक्तिशाली भूकंप से प्रभावित करीब 10,000 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है.

भूकंप की चपेट में आकर मरने वालों की संख्या बढ़कर 90 से ज़्यादा हो गई है.

चश्मदीदों के मुताबिक 6.9 तीव्रता के इस भयानक भूकंप के कारण कई इमारतें भर-भराकर गिर पड़ी. जिसके बाद से इलाक़े में अफ़रा-तफ़री और डर का माहौल है. बिजली गुल है और फ़ोन लाइनें भी बंद पड़ी हैं.

गिली द्वीप पर फंसे 1,000 से ज़्यादा पर्यटकों को नावों के ज़रिए निकाला गया.

भूंकप वाले इलाक़े में रहने वाले लोग अपने घर वापस लौटने से घबरा रहे हैं, ऐसे में उन्हें राहत शिविर मुहैया कराना सहायता समूहों की प्राथमिकता है.

ये एक सप्ताह के भीतर लॉमबेक में आया दूसरा भूकंप है. 29 जुलाई को आए 6.4 तीव्रता के भूकंप में 16 लोगों की मौत हो गई थी. सहायता समूहों के मुताबिक रविवार का भूकंप बीते सप्ताह के इस भूकंप से कहीं ज़्यादा भयानक रहा.

लॉमबोक में अब क्या हाल है?

इंडोनेशिया आपदा प्रबंधन एजेंसी के एक प्रवक्ता के मुताबिक लॉमबोक के उत्तरी इलाक़े में सबसे ज़्यादा नुकसान हुआ है.

भूकंप की वजह से कई सड़कें और ब्रिज टूट गए हैं. प्रभावित लोगों को टेंट और मेडिकल सहायता पहुंचाने के लिए तीन सी-130 हरक्यूलिस विमान और दो हेलीकॉप्टरों को लगाया गया है.

बुरी तरह से प्रभावित हुए इलाकों में बिजली आपूर्ति ठप है और फोन नेटवर्क भी काम नहीं कर रहे.

इंडोनेशिया में शक्तिशाली भूकंप

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अबतक 91 लोगों की मौत हो चुकी है. ये आंकड़ा अभी और बढ़ सकता है. कम से कम 200 लोग घायल हुए हैं.

उत्तरी लॉमबोक के एक गांव में मस्जिद ढह गई थी. जिसके मलबे में कई लोगों के अब भी दबे होने की आशंका है, लेकिन मलबा हटाने के भारी उपकरणों की कमी के चलते पीड़ितों का पता नहीं लगाया जा पा रहा है.

एक अधिकारी के मुताबिक उत्तरी लॉमबोक को 80% से ज़्यादा नुकसान पहुंचा है.

मुख्य शहर माटराम में अस्पताल की इमारतें टूट गई हैं, जिसके चलते घायलों का इलाज करने में डॉक्टरों को काफी परेशानी हो रही है.

मैक्सिको के एक गोल से धरती पर भूकंप आ गया था?

इमेज कॉपीरइट Reuters

पर्यटन स्थल गिली द्वीप

गिली द्वीप लॉमबोक के उत्तर-पश्चिमी इलाके में है. ये एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है.

ये इलाका भूकंप से बुरी तरह प्रभावित हुआ है. कई होटलों की इमारतें ज़मीदोज़ हो गई हैं.

वहां फंसे कई पर्यटकों के वीडियो और तस्वीरें सामने आई हैं, जिसमें वो लोग तट पर बचाव नाव का इंतज़ार कर रहे हैं.

द्वीप पर कई लोगों के मारे जाने की भी खबर है, हालांकि अभी तक इसकी पुष्टी नहीं हो सकी है.

सैंकड़ों पर्यटकों को नावों के ज़रिए बाहर लाया गया है, लेकिन अब भी सैंकड़ों लोग द्वीप पर फंसे हैं.

इमेज कॉपीरइट LAURA MILNE
Image caption बचाव नौका का इंतज़ार करते पर्यटक

एक टूरिज़म एजेंसी के साथ काम करने वाले मोहम्मद फैसल कहते हैं, "हम उन सब लोगों को वहां से एक साथ बाहर नहीं निकाल सकते. जितने लोग नौकाओं में आ रहे हैं, उतने लोगों को थोड़ा-थोड़ करके निकाला जा रहा है."

"हम समझते हैं कि लोग डरे हुए हैं और वहां से जल्द से जल्द निकलना चाहते हैं."

पीड़ितों और चश्मदीदों का क्या कहना है?

ब्रिटेन की हेलेन मिलन ने बीबीसी को बताया कि उनकी बेटी लौरा गिली द्वीप पर फंसी हुई है.

उन्होंने कहा, "वो द्वीप पर फंसे हुए हैं. उन्होंने बताया कि लोग नाव पर पहले चढ़ने के लिए एक दूसरे से झगड़ा कर रहे हैं. वहां ना पानी है और ना खाना. जो दुकानें थी उन्हें भी लूट लिया गया है. वहां हालात लगातार बिगड़ते जा रहे हैं."

गिली द्वीप पर फंसे एक ब्रतानी नागरिक ने प्रेस एसोसिएशन को बताया कि जब सुनामी की चेतावनी जारी की गई तो लोगों और ज़्यादा डर गए.

"स्थानीय लोग चिल्ला रहे थे और भाग रहे थे. उन सभी ने लाइफ जैकेट पहन लिए. वो एक ऊंची पहाड़ी की तरफ भागने लगे. हम लोग भी उनके पीछे-पीछे दौड़े."

कुछ घंटों बाद सुनामी की चेतावनी वापस ले ली है.

आइसलैंड के रहने वाले मार्गरेट ने बाताया कि उनका होटल ज़मीदोज़ हो गया था और लोग होटल की छत पर चढ़कर चिल्ला रहे थे.

"हम सुन्न रह गए, किसमत से हम बाहर थे. हर तरफ अंधेरा छा गया, वो सब बहुत ही डरावना था."

सिंगापुर के गृह मंत्री के शनमुग्म माटराम के एक होटल के कमरे में थे. उन्होंने फेसबुक पर लिखा, "दिवारों में दरारें आ गई हैं. यहां खड़े हो पाना भी बहुत मुश्किल है."

और सहायता समूह क्या कहते हैं?

योजना अंतरराष्ट्रीय इंडोनेशिया के कार्यकारी निदेशक ने बीबीसी से कहा कि उनकी पहली प्राथमिकता लोगों को राहत शिविर मुहैया कराने की है.

"बच्चों समेत हज़ारों लोगों को निकाल तो लिया गया है, लेकिन अभी भी उन्हें रहने के लिए कोई सुरक्षित जगह नहीं मिली है. ये भूकंप पिछले हफ्ते आए भूकंप से बहुत ज़्यादा खतरनाक है. इसलिए लोगों को राहत पहुंचाने में मुश्किलें आ रही हैं."

सहायता समूह ऑक्सफैम की एक अधिकारी ने बताया कि सरकार ऐसे केंद्र बनाने की कोशिश कर रही है, जहां लोगों को सुरक्षित रखा जा सके, लेकिन कुछ लोगों को ना तो ठीक से पानी मिल रहा है और ना ही खाना.

बाली पर भूकंप का प्रभाव

कम से कम एक व्यक्ति की मौत की खबर है, लेकिन अब तक इसकी आधिकारिक पुष्टी नहीं हो सकी है.

हवाईअड्डे को भी नुकसान हुआ है लेकिन इसे बंद नहीं किया गया है.

कई सैंकेड तक भूकंप के झटके महसूस किए जाते रहे. एक कर्मचारी ने बीबीसी को आंखों-देखी सुनाई.

उन्होंने कहा, "पहले तो हल्के झटके आए, लेकिन बाद में तेज़ झटके आने लगे. लोग भूकंप-भूकंप चिल्लाने लगे. हमारा पूरा स्टाफ डर गया था. हम सब बाहर की ओर भागे."

भूकंप से जुड़ी जानकारी?

यूएस जियोलॉजिकल सर्वे के मुताबिक रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 6.9 मापी गई.

भूकंप रविवार को स्थानीय समयानुसार 19:46 बजे आया. इसका केंद्र 31 किलोमीटर अंदर था.

भूकंप के बाद से अबतक 130 झटके महसूस किए जा चुके हैं.

लॉमबोक द्वीप बाली द्वीप के पूर्व में है और करीब 4,500 वर्ग किमी में फैला है. इन दोनों द्वीपों में तीस से चालिस लाख लोग रहते हैं.

दोनों ही द्वीप पर्यटकों के बीच खासे लोकप्रिय हैं.

इंडोनेशिया में भूकंप का ज़्यादा ख़तरा रहता है क्योंकि ये देश 'रिंग ऑफ़ फ़ायर' यानी लगातार भूकंप और ज्वालामुखीय विस्फोटों की रेखा पर स्थित है.

ताइवान में भूकंप का ज़ोरदार झटका

मेक्सिको भूकंप: क्यों नहीं सुन पाए लोग अलार्म?

(बीबीसी हिन्दी एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)