यमन में बस पर हवाई हमला, 29 स्कूली बच्चों की मौत

  • 9 अगस्त 2018
यमन, हूथी विद्रोही, इमेज कॉपीरइट Reuters

उत्तरी यमन के अशांत इलाक़ों में हुए एक हवाई हमले में 29 से ज़्यादा बच्चों की मौत हो गई है और 30 घायल हैं.

ये हवाई हमला सऊदी अरब के नेतृत्व वाले गठबंधन की तरफ से एक बस पर की गई थी. यह गठबंधन हूथी विद्रोहियों के ख़िलाफ़ लड़ रहे यमन सरकार का समर्थन करने वाला है.

इस हमले के वक़्त बस शाद इलाक़े के दहयान बाज़ार से गुजर रही थी.

हूथी विद्रोही समूह के चलाए जा रहे स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि हमले में 43 लोगों की मौत हो गई है. उसका कहना है कि इनमें से अधिकतर की उम्र 10 साल से कम थी.

यमन की सरकार को हूथी विद्रोहियों के ख़िलाफ़ समर्थन दे रहे समूह का कहना है कि उसकी यह कार्रवाई सही है.

प्रवक्ता कर्नल तुर्की अल-मल्की ने अपने एक बयान में कहा है कि यह हवाई हमला अंतरराष्ट्रीय क़ानून के अनुरूप थी.

उन्होंने कहा कि यह हवाई हमला हूथी विद्रोहियों के बैलिस्टिक मिसाइल के जवाब में किया गया है.

इमेज कॉपीरइट AFP

'आम लोगों को निशाना बनाया जा रहा है'

सऊदी अरब के नेतृत्व वाले गठबंधन की सरकार का कहना है कि उसने कभी भी जान-बूझकर आम लोगों को निशाना नहीं बनाया है.

वहीं, मानवतावादी समूहों ने गठबंधन की सरकार पर आरोप लगाया है कि वो स्कूल, बाज़ार, हॉस्पिटल और आवासीय क्षेत्र को निशाना बना रही है.

उनका कहना है कि यह सबकुछ पिछले तीन सालों से चल रहा है.

रेड क्रॉस की अंतरराष्ट्रीय कमेटी ने ट्विटर पर लिखा है कि शाद इलाक़े के अस्पताल में दर्जनों घायल लोग गुरुवार को भर्ती किए गए हैं.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
यमन में हूथी विद्रोहियों और सेना की लड़ाई के तीन साल पूरे

देश में काम कर रही इस कमेटी का कहना है कि इस हमले के शिकार लोगों में अधिकतर की उम्र 10 साल से कम है. संगठन का कहना है कि वो अस्पतालों में अतिरिक्त सेवा मुहैया करा रहा है.

साल 2014 के बाद से करीब 10 हज़ार लोग मारे जा चुके हैं, जिनमें से दो-तिहाई आम नागरिक थे.

यहां चल रहे गृह युद्ध की वजह से यमन में भुखमरी के हालात हो गए हैं और दसियों लाख लोग बेहद मुश्किल में जीवन जी रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)