उर्दू प्रेस रिव्यू: इमरान ख़ान ने कहा, 'अमरीका की ग़लत बातें नहीं मानेंगे'

  • 2 सितंबर 2018
इमरान ख़ान इमेज कॉपीरइट FACEBOOK/IMRAN KHAN

पाकिस्तान से छपने वाले उर्दू अख़बारों में इस हफ़्ते पाकिस्तान के अमरीका और ईरान से रिश्तों के बारे में ख़ूब लिखा गया.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने कहा है कि वो अमरीका की कोई भी ग़लत बात नहीं मानेंगे, लेकिन वो अमरीका से सम्मान के साथ संबंध रखना चाहते हैं.

एक्सप्रेस अख़बार के मुताबिक़ इमरान ख़ान का कहना था कि वो अमरीका के मामले में अपने पुराने नज़रिए पर क़ायम हैं.

अख़बार के अनुसार इमरान ख़ान का कहना था, ''अमरीका की कोई भी ग़लत बात हम नहीं मानेंगे. हम अमरीका के साथ लड़ नहीं सकते. संबंध बेहतर करेंगे.''

इस मौक़े पर इमरान ख़ान ने एक बार फिर इस बात को दोहराया कि वो भारत समेत सभी पड़ोसी देशों से बेहतर संबंध चाहते हैं, लेकिन उनके अनुसार भारत कोई सकारात्मक रवैया नहीं दिखा रहा है.

इमेज कॉपीरइट AFP

बाजवा की तारीफ़

इस्लामाबाद में पत्रकारों से बातचीत के दौरान इमरान ख़ान ने कहा कि उनके सामने इस समय ढेर सारी चुनौतियां हैं. उन्होंने सेना प्रमुख जनरल क़मर जावेद बाजवा की भी जमकर तारीफ़ की.

इमरान ख़ान का कहना था कि हाल के दिनों में जनरल बाजवा सबसे बेहतर सेना प्रमुख रहे हैं जो लोकतांत्रिक सरकार के साथ खड़े हैं.

इमरान ख़ान ने पाकिस्तान सेना के मुख्यालय का दौरा किया था और सेना प्रमुख समेत कई वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों से मुलाक़ात की थी.

उर्दू प्रेस रिव्यू: इमरान ख़ान की तुलना ज़ुल्फ़िकार अली भुट्टो से

उर्दू प्रेस रिव्यू: इमरान ख़ान ने अपने बेटे को पाकिस्तान नहीं आने दिया

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK/IMRAN KHAN

ख़ुशनुमा माहौल नेक शगुन

अख़बार जंग ने इमरान और सैन्य अधिकारियों से मुलाक़ात पर संपादकीय भी लिखा है.

संपादकीय में लिखा गया है कि 'ये पाकिस्तान के लिए बहुत बड़ी ख़ुशख़बरी है कि जब देश बेशुमार आंतरिक और विदेशी चुनौतियों से घिरा हुआ है तो उसके सभी संस्थान देश को इस संकट से बाहर निकालने के लिए एक साथ मिलकर काम कर रहे हैं.'

जंग के संपादकीय के अनुसार इसकी बेहतरीन मिसाल इमरान ख़ान के सेना मुख्यालय के दौरे में मिलती है.

अख़बार लिखता है कि इमरान ख़ान ने वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों से पूरे आठ घंटे तक देश की सुरक्षा से जुड़े मुद्दों पर बातचीत की.

संपादकीय के अनुसार ये बात किसी से छिपी नहीं है कि बीते सालों में सरकार और सेना के रिश्ते अच्छे नहीं थे और देश को मार्शल लॉ के दौर से गुज़रना पड़ा था. लेकिन ये सब बातें अब पुरानी हो चुकी हैं और उन सबको भूलकर आगे बढ़ना ही देश और समाज के लिए बेहतर है. संपादकीय के अनुसार सियासी और सैन्य नेतृत्व के एक ख़ुशनुमा माहौल में इतनी लंबी मुलाक़ात पाकिस्तान के लिए एक नेक शगुन है.

उर्दू प्रेस रिव्यू: बहुत ही छोटा होगा इमरान ख़ान का मंत्रिमंडल

उर्दू प्रेस रिव्यू: 'क्या पाकिस्तान के अर्दोआन साबित होंगे इमरान ख़ान?'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ सख़्त रुख़

अख़बार दुनिया ने इमरान ख़ान की पत्रकारों से इसी मुलाक़ात का ज़िक्र करते हुए सुर्ख़ी लगाई है, ''चाहे सरकार छोड़नी पड़े, लेकिन भ्रष्टाचार के मामले में पीछे नहीं हटूंगा.''

अख़बार दुनिया के अनुसार इमरान ख़ान ने कहा है कि बिना किसी भेदभाव के सबका हिसाब होगा और भ्रष्ट लोगों की चीख़ें निकल जाएंगी. उन्होंने कहा कि विपक्ष में कई लोग बहुत भ्रष्ट हैं और आने वाले दिनों में उनके ख़िलाफ़ ऐसी-ऐसी बातें सामने आएंगी कि लोगों के होश उड़ जाएंगे.

इमरान ख़ान ने पाकिस्तानी मीडिया से अपील की है कि 'वो उन्हें सिर्फ़ तीन महीने का समय दें उसके बाद उनके किसी फ़ैसले की आलोचना करें.'

जंग अख़बार ने इसी बात को अहमियत देते हुए सुर्ख़ी लगाई है, ''मीडिया तीन महीने का वक़्त दे, फिर आलोचना करे.''

ईरान के विदेश मंत्री ने पाकिस्तान का दौरा किया है. ईरानी विदेश मंत्री जव्वाद ज़रीफ़ ने इमरान ख़ान के अलावा विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी और सेना प्रमुख जनरल क़मर जावेद बाजवा से भी मुलाक़ात की.

अख़बार नवा-ए-वक़्त ने जव्वाद ज़रीफ़ और इमरान ख़ान की मुलाक़ात के बाद लिखा है कि पाकिस्तान ने ईरान के परमाणु समझौते मामले में ईरान के रुख़ का समर्थन किया है.

जव्वाद ज़रीफ़ ने ईरान के सर्वोच्च धार्मिक नेता आयतुल्लाह ख़ामेनेई का एक ख़त भी पाकिस्तानी विदेश मंत्री को दिया. अख़बार नवा-ए-वक़्त के अनुसार उस ख़त में ख़ामेनेई ने भारत प्रशासित कश्मीर में संघर्ष कर रहे कश्मीरियों का समर्थन किया है. पाकिस्तान ने इसके लिए ख़ामेनेई और ईरान सरकार का शुक्रिया भी अदा किया है.

उर्दू प्रेस: भारत-पाकिस्तान रिश्तों में फिर लौटती 'गर्माहट'

उर्दू प्रेस रिव्यू: 'कमज़ोर लोकतंत्र भी तानाशाही से बेहतर'

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए