'चंद दिनों की मेहमान' हैं बीबीसी प्रेज़ेंटर रैचेल ब्लैंड

  • 4 सितंबर 2018
रैचेल इमेज कॉपीरइट Rachel Bland

बीबीसी रेडियो की एक प्रेज़ेंटर रैचेल ब्लैंड ने सोशल मीडिया पर ऐलान किया है कि वो बस चंद दिनों की मेहमान हैं.

रैचेल को एक लाइलाज कैंसर है. 40 वर्षीय पत्रकार को नंवबर 2016 में डॉक्टरों ने बताया था कि उन्हें ब्रेस्ट कैंसर है.

पिछले महीने उन्होंने कहा था कि वो अपने दो साल के बेटे फ़्रेडी के लिए अपने संस्मरण लिखकर छोड़ना चाहती हैं क्योंकि उनके पास एक साल से भी कम वक्त है.

सोमवार को उन्होंने ट्विटर पर लिखा कि वो फ़िलहाल अपना काम जारी रखेंगी.

रैचेल ने ट्वीट किया, "फ़्रैंक एस के शब्दों में कहूं तो दोस्तो मेरा वक्त आ गया है...मुझे बताया गया है कि मेरे पास सिर्फ़ कुछ ही दिन और हैं. मैं सभी का सहयोग के लिए शुक्रिया अदा करती हूँ. "

इमेज कॉपीरइट Rachael Bland
Image caption अपने पति स्टीव के साथ रैचेल

उनके साथ काम करने वाले पत्रकार भी रैचेल के बारे में जानकर काफ़ी दुखी हैं.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
स्तन कैंसर को इन 12 लक्षणों से पहचानें

बीबीसी रेडियो के मशहूर प्रेंजेंटर रिचर्ड बेकन ने ट्वीट किया, "सदमा पहुंचाने वाला समाचार. रैचेल इस वक्त तुम मेरे ख़्यालों में हो. मुझे तुम्हारे साथ पेश किए गए कार्यक्रमों की याद आ रही है. मुझे बहुत ही दुख है, तुम अद्भुत हो."

ब्रेस्ट कैंसर

उन्हीं के ओर साथ निकी कैम्बेल ने भी ट्वीट कर कहा, "तुम एक कमाल की इंसान हो. सबको प्यार."

बीबीसी की एक मशहूर एंकर विक्टोरिया डर्बीशर को भी साल 2015 में ब्रेस्ट कैंसर हुआ था.

विक्टोरिया से ट्वीट किया, "हिम्मत, नज़ाकत और मुस्कान- तुम्हारी यही पहचान है. तुम ज़बरदस्त हो."

इमेज कॉपीरइट Claire Wood

रैचेल ब्लैंड 15 साल से बीबीसी में काम कर रही हैं. हाल के सालों में वो 'बीबीसी रेडियो 5 लाइव' से जुड़ी रही हैं.

उनका ब्रेस्ट कैंसर अब उनके जिस्म के बाकी हिस्सों में तेज़ी से फैलता जा रहा है.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
क्या ब्रेस्ट कैंसर के लिए कीमोथेरेपी ज़रूरी है?

इन दिनों रैचेल ब्लैंड अपने दो साल के बेटे के लिए संस्मरण लिख रही हैं.

पिछले महीने ब्रितानी अख़बार द टेलिग्राफ़ में उन्होंने लिखा, "मैं उसके लिए वो सारी कहानियां और सलाह-मशविरा छोड़ना चाहती हूँ जो मैं अपनी ग़ैर-हाज़िरी में नहीं दे पाऊंगी. मुझे मौत का डर नहीं है. डर है तो बस उनका जिन्हें मैं पीछे छोड़ कर चली जाऊंगी. "

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे