आरिफ़ रहमान अल्वी होंगे पाकिस्तान के राष्ट्रपति

  • 4 सितंबर 2018
अरिफुर रहमान

पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ़ (पीटीआई) पार्टी के डॉक्टर आरिफ़ रहमान अल्वी को पाकिस्तान का 13वां राष्ट्रपति चुना गया है.

डॉक्टर आरिफ़ ने पीएमएल-एन समर्थित उम्मीदवार मुत्ताहिद मजलिस-ए-अमाल (एमएमए) के प्रमुख फ़ज़लुर्रहमान और पीपीपी के सीनियर नेता ऐताज़ एहसान को हरा कर यह चुनाव जीता है. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने ट्वीट कर डॉक्टर आरिफ़ रहमान अल्वी को बधाई दी है.

पाकिस्तान के चुनाव आयोग ने बुधवार को तीनों उम्मीदवारों या उनके एजेंट को सचिवालय बुलाया है. उनके सामने ही चुनावी नतीजे आधिकारिक रूप से घोषित किए जाएंगे.

पाकिस्तान की नेशनल असेंबली और सीनेट में कुल 420 वोट पड़े, जिनमें से अल्वी को 212 वोट मिले. जेयूआई-एफ़ के फ़ज़लुर्रहमान को 131 वोट और पीपीपी के ऐताज़ एहसान को 81 वोट मिले.

बलूचिस्तान असेंबली के 61 सदस्यों में से 60 लोगों ने वोट किया. तात्कालिक नतीजों के मुताबिक़ यहां पीटीआई के डॉक्टर अल्वी को 45 वोट मिले, रहमान को 15 और पीपीपी के एहसान को एक भी वोट नहीं मिला.

सिंध असेंबली में पीपीपी के एहसान को 100 वोट मिले, डॉक्टर अल्वी को 56 और जेयूआई के रहमान के मात्र एक वोट मिला.

ख़ैबर पख़्तुनख़्वां असेंबली में डॉक्टर अल्वी को 78, रहमान को 26 और एहसान को भी इतने ही वोट मिले. पंजाब असेंबली में डॉक्टर अल्वी को 186, सबसे ज़्यादा वोट मिले. राष्ट्रपति चुनाव में प्रांतीय असेंबली में वोटों की गिनती वेटेज के आधार पर होती है.

जीत की ख़बर के बाद डॉक्टर अल्वी ने कहा, ''मैं अल्लाह का शुक्रगुज़ार हूं कि पीटीआई ने मुझे राष्ट्रपति उम्मीदवार नामांकित किया. मैं इमरान ख़ान को शुक्रिया अदा करता हूं कि उन्होंने इतनी बड़ी ज़िम्मेदारी दी. मैं पीटीआई का नहीं बल्कि पूरे देश का राष्ट्रपति हूं.''

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption बीच में पीटीआई के अरिफ़ुर रहमान अल्वी

राष्ट्रपति चुनाव के इलेक्टोरल कॉलेज में 6 निर्वाचित निकाय शामिल होते हैं. इनमें सीनेट, नेशनल असेंबली और चार प्रांतीय असेंबलियां शामिल होती हैं.

ये भी पढ़ें:

इमरान ख़ान ने कहा, 'अमरीका की ग़लत बातें नहीं मानेंगे'

'जीत' के बाद इमरान ख़ान ने भारत के बारे में क्या कहा

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे