16 साल की उम्र में मेरे साथ रेप हुआ और मैं चुप रही: पद्मलक्ष्मी

  • 26 सितंबर 2018
पद्मलक्ष्मी इमेज कॉपीरइट padmalakshmi.com

टीवी की दुनिया का चर्चित चेहरा और जाने-माने लेखक सलमान रुश्दी की पूर्व पत्नी पद्मलक्ष्मी ने कहा है कि किशोरावस्था में उनके साथ रेप हुआ था.

पद्मलक्ष्मी ने कहा है कि वो उस बात को बख़ूबी समझ सकती हैं कि महिलाएं क्यों सालों तक अपने ऊपर हुए यौन हमले को लेकर ख़ामोश रहती हैं.

पद्मलक्ष्मी ने अपने अतीत को सार्वजनिक करने का फ़ैसला तब किया जब अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने सुप्रीम कोर्ट के लिए नामित ब्रेट कैवना पर लगे यौन हमले के आरोप के बचाव में कहा है कि डॉक्टर क्रिस्टिन ब्लेजी फ़ोर्ड यौन हमले को लेकर अब तक ख़ामोश क्यों थीं.

पद्मलक्ष्मी ने न्यूयॉर्क टाइम्स के लिए एक लेख लिखा है और उसी में अपने साथ हुए रेप का ज़िक्र किया है.

उन्होंने लिखा है कि 16 साल की उम्र में उनके बॉयफ़्रेंड ने उनका रेप किया और इसकी रिपोर्ट इसलिए दर्ज नहीं कराई क्योंकि उन्हें लगता था कि उनकी ही ग़लती है.

इमेज कॉपीरइट padmalakshmi

लक्ष्मी ने लिखा है, ''मैं कुछ महीनों से 23 साल के एक लड़के को डेट कर रही थी. उसे पता था कि मैं वर्जिन हूँ. 31 दिसंबर की शाम हम लोग नए साल की पार्टी में गए थे. मैं बुरी तरह से थक गई थी और उसके अपार्टमेंट में ही सो गई. आप शायद ये भी जानना चाहते होंगे कि क्या मैंने रेप की उस रात शराब पी रखी थी? हालांकि इसका कोई मतलब नहीं है, लेकिन मैंने शराब नहीं पी थी.''

लक्ष्मी ने लिखा है, ''मुझे याद है कि तेज़ दर्द के कारण मेरी नींद खुली थी. ऐसा लग रहा था कि मेरे पैरों में किसी ने चाकू मार दिया हो. वो मेरे ऊपर था. मैंने पूछा कि तुम कर क्या रहे हो? उसने कहा कि यह मामूली दर्द है. मैंने कहा कि प्लीज छोड़ दो और मैं चीख कर रोने लगी.''

लक्ष्मी याद करते हुए बताती हैं कि वो दर्द असहनीय था. पद्मलक्ष्मी ने लिखा है, ''उसने कहा कि मैं सो जाऊंगी तो दर्द कम हो जाएगा. बाद में उसने मुझे घर तक छोड़ा.''

इमेज कॉपीरइट padmalakshmi

'डेट रेप जैसी चीज़ नहीं थी'

अपने ज़माने की टॉप मॉडल रहीं पद्मलक्ष्मी का कहना है कि उन्होंने ये बात किसी वयस्क को इसलिए नहीं बताई क्योंकि 1980 के दशक में डेट रेप जैसी कोई चीज़ नहीं थी.

डेट रेप मतलब होता है कि आपके साथ उस व्यक्ति ने रेप किया है जो जान-पहचान का है. पद्मलक्ष्मी को तब लगा कि अगर वो रेप की बात कहतीं तो लोग पूछते कि उस रात मैं उसके अपार्टमेंट में क्या करने गई थीं. पद्मलक्ष्मी ने यह भी बताया है कि सात साल की उम्र में उनके साथ छेड़छाड़ भी हुई थी.

पद्मलक्ष्मी ने लिखा है कि यौन हमले को लेकर जो तर्क दिए जाते हैं वो परेशान करने वाले होते हैं.

उन्होंने लिखा है, ''मैं हमेशा सोचती थी कि जब मैं वर्जिनिटी खोऊंगी तो वो मेरे लिए बड़ी बात होगी या फिर जानबूझकर लिया हुआ फ़ैसला होगा. मेरे दिमाग़ में ये बात थी कि जब मैं एक दिन सेक्स करूंगी तो यह प्यार की अभिव्यक्ति होगी, साझे आनंद की अनुभूति होगी या फिर बच्चे के लिए होगा. ज़ाहिर है ये चीज़ें नहीं थीं. मुझे इस रेप के बारे में अपने पार्टनर्स और थेरपिस्ट से बात करने में दशकों लग गए.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images

लक्ष्मी ने लिखा है, ''ब्रेट कैवना को लेकर लोग कह रहे हैं कि इतने दिन बाद ये आरोप सामने क्यों आए. कुछ लोग कह रहे हैं कि एक आदमी ने अपनी किशोरावस्था में जो किया उसकी क़ीमत अब क्यों चुकाएगा. लेकिन उन्हें याद रखना चाहिए कि इसके लिए औरत आजीवन क़ीमत चुकाती है.''

लक्ष्मी ने कहा है, ''एक माँ के तौर पर मैं अपनी बेटी को हमेशा कहती हूँ कि अगर उसे कोई ग़लत तरीक़े छूने की कोशिश करे तो चुप ना रहे. मुझे उम्मीद है कि बेटियों को कभी इस डर और शर्म से नहीं जूझना होगा. हमारे बेटे भी इस बात को समझें कि लड़कियों की देह उनके मज़े के लिए नहीं है.''

ब्रेट कैवना को सुप्रीम कोर्ट के लिए नामित किए जाने पर अमरीका में काफ़ी विवाद चल रहा है. ट्रंप के इस फ़ैसले की जमकर आलोचना हो रही है.

इमेज कॉपीरइट AXELLE/BAUER-GRIFFIN/GETTY

हालांकि ट्रंप ने शुक्रवार को ट्वीट कर अपने फ़ैसले का बचाव करते हुए लिखा है, ''ब्रेट बिल्कुल अच्छे व्यक्ति हैं. उनकी प्रतिष्ठा बेदाग़ है. वो कट्टर वामपंथी नेताओं के निशाने पर रहे हैं, जो केवल विनाश और देरी चाहते हैं. उनके लिए तथ्यों का कोई मतलब नहीं है. अगर डॉक्टर फोर्ड के साथ कुछ ग़लत हुआ था तो तत्काल उन्हें या उनके माता-पिता को मामला दर्ज कराना चाहिए था.''

दूसरी तरफ़ कैवना ने भी इन आरोपों को ख़ारिज कर दिया है.

पद्मलक्ष्मी का जन्म 1 सितंबर, 1970 को चेन्नई में हुआ था. लक्ष्मी जब दो साल की थीं तभी उनके माता-पिता का तलाक़ हो गया था.

पद्मलक्ष्मी अमरीका में अपनी माँ के साथ पली बढ़ीं. तलाक़ के बाद वो अपनी नानी के घर रहीं. बाद में उनकी माँ अमरीका गईं तो पद्मलक्ष्मी भी साथ में वहीं चली गईं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए