अमरीकाः सुप्रीम कोर्ट के लिए नामित कैवेनॉ ने पार की पहली बाधा

  • 29 सितंबर 2018
इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीकी सीनेट की एक समिति ने सुप्रीम कोर्ट के लिए राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप की ओर से नामित ब्रेट कैवेनॉ की नियुक्ति को मंज़ूरी दे दी है.

इसी बीच कैवेनॉ की नियुक्ति पर समूची सीनेट का मतदान एक सप्ताह के लिए टाल दिया गया है.

इस दौरान एफ़बीआई उन पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों की जांच करेगी.

सीनेट समिति की बहस के दौरान राष्ट्रपति ट्रंप की रिपब्लिकन पार्टी के सीनेटर जेफ़ फ्लेक ने कहा कि वो कैवेनॉ की नियुक्ति की पुष्टि के लिए जारी सुनवाई में एक सप्ताह की देरी चाहते हैं.

हालांकि सीनेट की न्यायिक समिति में जेफ़ फ़्लेक ने ब्रेट कैवेनॉ के समर्थन में मतदान किया.

अंततः कैवेनॉ के समर्थन में न्यायिक समिति ने 11-10 के अंतर से मुहर लगाई.

रिपब्लिकन पार्टी के सभी सीनेटरों ने उनके समर्थन में और डेमोक्रेटिक पार्टी के सभी सीनेटरों ने विपक्ष में मतदान किया.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption कैवेनॉ यौन उत्पीड़न के आरोपों का सामना कर रहे हैं.

गुरुवार को सीनेट समिति ने ब्रेट कैवेनॉ पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों की सुनवाई की.

कैलिफ़ोर्निया में मनोविज्ञान की प्रोफ़ेसर क्रिस्टीन ब्लासी फ़ोर्ड ने कैवेनॉ पर किशोरावस्था के दौरान यौन उत्पीड़न करने के आरोप लगाए हैं.

डॉ. फ़ोर्ड और कैवेनॉ ने समिति के समक्ष अपना-अपना पक्ष रखा.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
'कैवेनॉ ने मेरे कपड़े उतारने की कोशिश की थी '

कैवेनॉ ने आरोपों को ग़लत बताया

जज कैवेनॉ ने सभी आरोपों को सिरे से ख़ारिज करते हुए कहा कि इन आरोपों से उनका और उनके परिवार का नाम ख़राब किया जा रहा है.

सदन में डेमोक्रेटिक पार्टी और रिपब्लिकन पार्टी के सीनेटरों के बीच लंबी और तीखी बहस के बाद न्यायिक समिति ने जज कैवेनॉ के नामांकन पर मतदान किया जिसमें उन्हें मंज़ूरी मिल गई.

सीनेट में इस समय रिपब्लिकन पार्टी के पास 51-49 के अंतर से मामूली बढ़त हासिल है.

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption यदि सीनेटर जेफ़ फ़्लेक की एफ़बीआई जांच की मांग पूरी नहीं हुई तो वो कैवेनॉ की नाव डुबो सकते हैं

रिपब्लिकन सीनेटर जेफ़ फ़्लेक ने कहा है कि वो एफ़बीआई की जांच के बिना कैवेनॉ के नामांकन की पुष्टि सीनेट में नहीं करेंगे.

यदि जेफ़ फ़्लेक और किसी अन्य रिपब्लिकन सीनेटर ने कैवेनॉ का समर्थन नहीं किया और सभी डेमेक्रोट सीनेटरों ने उनका विरोध कर दिया तो सुप्रीम कोर्ट में उनकी नियुक्ति की पुष्टि नहीं हो सकेगी.

नतीजा टाई होने की स्थिति में उपराष्ट्रपति माइक पेंस का मत अंतिम फ़ैसला निर्धारित करेगा.

शुक्रवार को सीनेट की न्यायिक समिति की मंज़ूरी हासिल करके कैवेनॉ ने सुप्रीम कोर्ट में नियुक्त होने की पहली बाधा पार कर ली है. अब उन्हें समूची सीनेट में बहुमत हासिल करना होगा.

यदि उनकी नियुक्ति की पुष्टि हो जाती है तो सुप्रीम कोर्ट में रिपब्लिकन विचारधारा के जजों का बहुमत होगा.

माना जा रहा है कि कैवेनॉ की नियुक्ति के बाद सुप्रीम कोर्ट में लंबे समय तक रिपब्लिकन पार्टी की विचारधारा का प्रभाव रहेगा.

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने कहा, मेरे पास अटॉर्नी-जनरल नहीं है

'ईरान में डर पैदा कर रही हैं अमरीका की कठपुतलियां'

कैसे संभव हुई मेक्सिको के साथ डोनल्ड ट्रंप की डील

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे