अमरीका: मेल बॉक्स में मिल रहे बम, एक शख़्स गिरफ़्तार

  • 27 अक्तूबर 2018
न्यू यॉर्क पुलिस कमिश्नर जेम्स ओ'नील इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption न्यू यॉर्क पुलिस कमिश्नर जेम्स ओ'नील (बीच में)

अमरीका में पिछले कुछ दिनों से प्रमुख डेमोक्रेट नेताओं के घरों के बाहर लगे मेल बॉक्स में विस्फोटक सामग्री के पैकेट मिले हैं. अमरीकी जांच एजेंसी एफ़बीआई अब इन मामलों की जांच में जुट गई है.

इसी सिलसिले में फ़्लोरिडा से एक 56 वर्षीय व्यक्ति को गिरफ़्तार किया गया है. अमरीकी अधिकारियों ने इस आदमी का नाम सीज़र सेयोक बताया है. अधिकारियों का कहना है कि वे कुछ और लोगों का पीछा कर रहे हैं.

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने कहा है कि उनके देश में इस तरह की हरकतों के लिए कोई जगह नहीं है. ट्रंप ने तुरंत कार्रवाई का भरोसा दिलाया है.

अमरीकी खुफ़िया विभाग ने हाल ही में पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा और अभिनेता रॉबर्ट डी निरो समेत कुल आठ जाने-माने लोगों के घर के पते पर भेजे गए संदिग्ध पैकेट बरामद किए थे.

अमरीकी अधिकारियों का कहना है कि कुछ पैकेट उत्तर-पश्चिमी मियामी के एक डाक केंद्र से भेजे गए हैं.

इसी तरह का पैकेट पूर्व उप-राष्ट्रपति जो बिडेन और पूर्व विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन को भी भेजे गये थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

बीते गुरुवार (25 अक्टूबर) की शाम न्यू यॉर्क के टाइम वार्नर सेंटर में संदिग्ध पैकेट मिलने की ख़बर मिली जिसके बाद इस बिल्डिंग को खाली करवा दिया गया था, हालांकि बाद में मालूम चला कि यह एक गलत अलार्म था. इस बिल्डिंग में न्यूज़ नेटवर्क सीएनएन का दफ़्तर है.

पैकेट के अंदर क्या था?

एफबीआई के सहायक डायरेक्टर विलियम स्वीनी ने बताया कि वॉशिंगटन डीसी के बाहर वर्जीनिया के क्वांटिको में एफ़बीआई की प्रयोगशाला में सभी पैकेटों की जांच चल रही है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

एफ़बीआई के मुताबिक, कई पैकेटों में पाइप बम शामिल हैं यानी पाइप के अंदर विस्फोटक सामग्री रखी गई है.

सीएनएन के अनुसार, जांचकर्ताओं ने कहा है कि ये सक्रिय बम थे और उन्हें निगरानी में ही बंद किया जा सकता है.

हालांकि कुछ विशेषज्ञों ने मीडिया को बताया है कि एक्स-रे की तस्वीरें देखने के बाद उन्हें इन बमों के प्रभावशाली होने पर शक़ है.

पूर्व सरकारी बम विशेषज्ञ एंथनी मे ने एनपीआर को बताया कि पैकेट एक बैटरी वाला था जो विस्फोटक को चलाने के लिए पर्याप्त नहीं है.

इसी तरह स्वीनी ने भी पुष्टि की थी कि सीएनएन को भेजे गए पैकेट के अंदर सफेद रंग का पाउडर था जिससे 'किसी भी तरह का ख़तरा पैदा नहीं होता'.

हालांकि न्यू यॉर्क पुलिस कमिश्नर जेम्स ओ'नील इस बात की पुष्टि नहीं कर पाए हैं कि सभी डिवाइस विस्फोटक के लिए थे या नहीं.

उन्होंने कहा, "हम इसे काफ़ी गंभीरता से ले रहे हैं. हम ऐसा नहीं मान रहे हैं कि ये कोई नकली डिवाइस है."

इमेज कॉपीरइट EPA

विस्फोटक का ख़तरा कैसे सामने आया?

मेल में बम का इस तरह से मिलने का सिलसिला बीते सोमवार (22 अक्टूबर) को शुरू हुआ, जब अरबपति बिज़नेसमैन जॉर्ज सोरोस के पोस्ट बॉक्स में संदिग्ध डिवाइस पाया गया.

एफ़बीआई के अनुसार इन आठ लोगों के नाम पर संदिग्ध सामग्री भेजी जा चुकी है-

  • जॉर्ज सोरोस
  • पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा
  • पूर्व विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन
  • रॉबर्ट डी निरो
  • जो बिदेन
  • पूर्व सीआईए डायरेक्टर जोह्न ब्रेनन
  • पूर्व अटॉर्नी जनरल एरिक होल्डर
  • कैलिफोर्निया डेमोक्रेटिक कांग्रेस महिला माक्सिन वाटर्स

इनमें से किसी के यहां भी डिवाइस विस्फोट नहीं हुआ है.

डी निरो के साथ क्या हुआ?

इमेज कॉपीरइट Reuters

23 अक्टूबर की सुबह संदिग्ध विस्फोटक डिवाइस मैनहैटेन की बिल्डिंग में पाया गया. यहां डी निरो की प्रोडक्शन कंपनी और ट्रीबेका ग्रिल रेस्टोरेंट हैं.

न्यू यॉर्क शहर के मेयर डी ब्लासिओ ने सिक्योरिटी गार्ड के काम की सराहना की है जिन्होंने इसके बारे में तुरंत अधिकारियों को जानकारी दी.

समाचार एजेंसी एसोसिएट प्रेस (एपी) के अनुसार, सिक्योरिटी गार्ड उस दिन छुट्टी पर थे और उन्होंने एक ख़बर में देखा कि एक और जगह डिवाइस मिला है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

राजनीतिक मुद्दा क्यों बना?

जिन लोगों के नाम पर ये पैकेट मिला है वे सभी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप के आलोचक माने जाते हैं.

बमबारी की ये कोशिश अमरीका में मध्यावधि चुनाव से क़रीब दो हफ्ते पहले हुई है.

बुधवार 24 अक्टूबर को राष्ट्रपति ट्रंप ने संदिग्ध पैकेट से जुड़ी खबरों के बारे में सार्वजिनक रूप से जवाब दिया.

उन्होंने कहा, "किसी को भी राजनीतिक आलोचकों और इतिहास के दुश्मनों के साथ तुलना करने की लापरवाही नहीं करनी चाहिए, जिसे हमेशा किया जाता है."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हालांकि जिन लोगों को पैकेट मिला है उनके बारे में राष्ट्रपति ट्रंप ने विशिष्ट रूप से कुछ नहीं कहा.

पूर्व सीआईए डायरेक्टर जोह्न ब्रेनन ने ट्रंप के उस ट्वीट का जवाब दिया जिसमें राष्ट्रपति ट्रंप ने इस खबर को फ़ेक न्यूज़ बताया था और इसका ज़िम्मेदार मीडिया को बताया था.

उन्होंने ट्वीट का जवाब दिया कि दूसरों को दोषी ठहराना बंद करें. आइने में देखें. आपके भड़काऊ शब्द, झूठ, दूसरों की बेइज़्जती, हिंसा का प्रोत्साहन करना बहुत ही अपमानजनक है.

हालांकि कंजर्वेटिव पार्टी के लोगों का कहना है कि अमरीका में राजनीतिक कटुता की स्थिति के लिए डेमोक्रेट्स दोषी है.

वे कहते हैं कि डेमोक्रेट, जिनके यहां बम मिला, उन्होंने डर का माहौल बनाया.

ये भी पढ़ें-

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए