श्रीलंका के सियासी संकट से भारत ख़ुश या चीन

  • 27 अक्तूबर 2018
श्रीलंका इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption राजपक्षे की सत्ता में फिर से वापसी हुई है

श्रीलंका में शुक्रवार को उस वक़्त राजनीतिक बवंडर खड़ा हो गया जब पूर्व राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे को प्रधानमंत्री बनाकर उनकी सत्ता में वापसी कराई गई.

राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना ने प्रधानमंत्री रानिल विक्रमासिंघे को बर्खास्त कर राजपक्षे को शपथ दिलाई है. हालांकि विक्रमासिंघे ने इसे अवैध और असंवैधानिक बताया है और कहा है कि वो संसद में बहुमत साबित करेंगे.

श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना ने संसद को स्थगित कर दिया है. श्रीलंकाई संसद के स्पीकर ने स्थगन की जानकारी दी और कहा है कि संसद के नए सत्र की शुरुआत 16 नवंबर से होगी.

प्रधानमंत्री से बर्खास्त किए जाने के बाद विक्रमासिंघे ने स्पीकर से रविवार को संसद का सत्र बुलाने को कहा था ताकि वो बहुमत साबित कर सकें. इसी मांग के बाद राष्ट्रपति ने संसद का निलंबन कर दिया. विक्रमासिंघे ने संसद में आपातकालीन सत्र की भी मांग की थी. विक्रमासिंघे का कहना है कि 225 सदस्यों वाली संसद में उनके पास बहुमत है और उन्हें पद से हटाया जाना असंवैधानिक है.

सिरीसेना और विक्रमासिंघे में आर्थिक और सुरक्षा के मुद्दों पर बढ़ते मतभेदों के कारण यह नाटकीय घटनाक्रम सामने आया है. सिरीसेना के यूनाइटेड पीपल्स फ़्रीडम गठबंधन ने विक्रमासिंघे की यूनाइटेड नेशनल पार्टी से अलग होने की घोषणा की है.

इस साल की शुरुआत में राजपक्षे की पार्टी की स्थानीय चुनावों में जीत के बाद से यह सरकार लड़खड़ा रही थी. कहा जा रहा है कि राजधानी कोलंबो में जब राजपक्षे और सिरीसेना ये सब कुछ कर रहे थे तो विक्रमासिंघे दक्षिण-पश्चिमी तटीय शहर गॉल में थे.

श्रीलंका फ़्रीडम पार्टी में सिरीसेना और राजपक्षे के बीच 2014 के चुनाव में मतभेद उभरकर सामने आया था. चुनाव में सिरीसेना ने राजपक्षे को चुनौती दी थी और वो जीत हासिल करने में कामयाब रहे थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना, भारतीय पीएम नरेंद्र मोदी और श्रीलंका के प्रधानमंत्री विक्रमासिंघे

मतभेद भूले सिरीसेना और राजपक्षे

एक बार फिर से दोनों मनमुटाव भुलाकर साथ आ गए हैं. कहा जा रहा है कि यह 2019 के चुनाव में साथ उतरने की तैयारी है. हालांकि सिरीसेना के इस क़दम की वैधानिकता पर सवाल उठ रहे हैं.

विक्रमासिंघे ने श्रीलंका डेली मिरर वेबसाइट से कहा है, ''मैं अब भी इस देश का प्रधानमंत्री हूं.'' हालांकि वित्त मंत्री मंगला समरवीरा ने ट्वीट कर कहा, "सिरीसेना का फ़ैसला अवैध, असंवैधानिक और अलोकतांत्रिक है.''

2015 में नेशनल यूनिटी सरकार श्रीलंका के संविधान में 19वां संशोधन लाई थी. इसके तहत राष्ट्रपति की शक्तियों को सीमित किया गया था और प्रधानमंत्री को बर्खास्त करने की ताक़त को भी ख़त्म कर दिया था.

इस संशोधन में कहा गया है कि राष्ट्रपति के पास प्रधानमंत्री को हटाने का अधिकार नहीं है. पीएम का पद तभी ख़ाली हो सकता है जब प्रधानमंत्री अपने पद से ख़ुद ही इस्तीफ़ा दे या फिर संसद की उसकी सदस्यता ख़त्म हो जाए. प्रधानमंत्री के इस्तीफ़े से संसद के भंग होने की तरफ़ बढ़ जाती है.

श्रीलंका के संविधान के अनुच्छेद 42(4) के मुताबिक़, ''प्रधानमंत्री की नियुक्ति राष्ट्रपति उस संसद सदस्य को करेगा जिस पर राष्ट्रपति को सदन में बहुमत साबित करने का भरोसा होता है.''

हालांकि संविधान के अनुच्छेद 46 (2) के अनुसार, ''जब तक कैबिनेट मंत्री संविधान के नियमों के तहत काम करते हैं तब तक प्रधानमंत्री अपने पद पर बना रहेगा. प्रधानमंत्री की कुर्सी राष्ट्रपति को भेजे इस्तीफ़े या सांसदी ख़त्म होने की सूरत में ही जा सकती है.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images

संवैधानिक संकट

अभी तक साफ़ नहीं है कि यूनाइटेड नेशनल पार्टी इस संवैधानिक संकट का सामना कैसे करेगी. श्रीलंका ने हाल ही में नलिन परेरा को मुख्य न्यायाधीश बनाया था. संविधान के 19वें संशोधन के मुताबिक़ राजपक्षे फिर से राष्ट्रपति नहीं बन सकते हैं, क्योंकि अब कोई व्यक्ति दो कार्यकाल तक ही राष्ट्रपति बन सकता है और राजपक्षे दो कार्यकाल पूरे कर चुके हैं.

हालांकि सत्ता से बाहर रहने की तुलना में राजपक्षे प्रधानमंत्री बन अब अपनी मंशा को अंजाम तक पहुंचा सकते हैं. राजपक्षे अपने प्रत्याशी को राष्ट्रपति बनवा सकते हैं. अगर इस नए राजनीतिक गतिरोध से श्रीलंका में वक़्त से पहले चुनाव होता है तो राजपक्षे उस हालत में आ सकते हैं कि संविधान में फिर से संशोधन करवा दें और दो कार्यकाल की सीमा को ख़त्म कर दें.

कोलंबो के राजनीतिक विश्लेषक कुसाल परेरा ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, ''राजपक्षे की कोशिश रहेगी कि उन्हें संसद में दो तिहाई बहुमत मिले. संविधान के 19वें संशोधन के अनुसार दो तिहाई बहुमत के प्रस्ताव से संसद को भंग किया जा सकता है. हमलोग को उम्मीद है कि संसदीय चुनाव 2019 से पहले ही हो जाए. मेरा आकलन है कि राजपक्षे दो-तिहाई बहुमत की उम्मीद कर रहे हैं ताकि संविधान में संशोधन किया जा सके.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption राष्ट्रपति रनिल विक्रमासिंघे को भारत समर्थक श्रीलंकाई नेता माना जाता है

विक्रमासिंघे की बदकिस्मती

विक्रमासिंघे की तकदीर दूसरी बार दगा दे गई. विक्रमासिंघे 2001 में श्रींलकाई फ़्रीडम पार्टी की गठबंधन सरकार में प्रधानमंत्री बने थे. 2004 में राष्ट्रपति चंद्रिका कुमारतुंगे ने उन्हें प्रधानमंत्री पद से बर्खास्त कर दिया था.

शुक्रवार की शाम से श्रीलंका में राष्ट्रपति सिरीसेना के फ़ैसले को लेकर संवैधानिक सवालों पर चर्चा हो रही है. कहा जा रहा है कि इस फ़ैसले के साथ ही सिरीसेना और विक्रमासिंघे के बीच जारी सियासी चूहे और बिल्ली का खेल ख़त्म हो गया है. सिरीसेना से राजपक्षे के चुनाव हारने के बाद से ही यह खेल चल रहा था.

इस खेल को तब और हवा मिली जब राजपक्षे समर्थित श्रीलंका पोडुजाना पेरामुना (एसएलपीपी) को स्थानीय चुनाव में जीत मिली. यह धड़ा श्रीलंका फ़्रीडम पार्टी से अलग होकर बना था. हालांकि इसके बावजूद श्रींलका फ़्रीडम पार्टी में पूर्व राष्ट्रपति राजपक्षे के विश्वासपात्र मौजूद थे.

विश्लेषकों का मानना है कि राष्ट्रपति के रूप में अपने दूसरे कार्यकाल में राजपक्षे का भारत से संबंध अच्छा नहीं रहा. राजपक्षे को चीन के क़रीब बताया जाता है. चीन के साथ राजपक्षे ने ऐसे कई समझौते किए जो भारत को असहज करने वाले थे. कहा तो ये भी जाता है कि चीन ने 2014 में राजपक्षे को चुनाव में जीत दिलाने की कोशिश की थी, लेकिन राजपक्षे हार गए थे.

राजपक्षे की हार को भारत की जीत के तौर पर देखा गया था. इसी साल जून में न्यूयॉर्क टाइम्स में रिपोर्ट छपी थी कि चाइना हार्बर इंजीनियरिंग कंपनी लिमिटेड (सीएचईसी) ने राजपक्षे को चुनाव जिताने के लिए 70.6 लाख डॉलर की रक़म दी थी. हालांकि राजपक्षे, कोलंबो में चीनी दूतावास और चीन की सरकारी कंपनी सीएचइसी ने न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट को ख़ारिज कर दिया था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

श्रीलंका-भारत की दोस्ती पर चीन की नज़र

जुलाई में सिरीसेना की गठबंधन सरकार ने संसद में इस मुद्दे पर बहस कराई थी और इसकी जांच की घोषणा की थी.

जब सिरीसेना सत्ता में आए थे तो उन्होंने राजपक्षे के कार्यकाल में शुरू की गईं चीन समर्थित परियोजनाओं को भ्रष्टाचार, ज़्यादा महंगा और सरकारी प्रक्रियाओं के उल्लंघन का हवाला देकर रद्द कर दिया था. हालांकि एक साल बाद ही सिरीसेना ने मामूली बदलावों के साथ सभी परियोजनाओं को बहाल कर दिया. 2009 में श्रीलंका में एलटीटीई का ख़ात्मा हुआ 26 साल पुराने गृह युद्ध के बाद चीन पहला देश था जो उसके पुनर्निर्माण में खुलकर सामने आया था.

भारत ने 2014 में सिरीसेना की उम्मीदवारी का समर्थन करने की बात कही थी और विक्रमासिंघे को भारत के दोस्त के तौर पर देखा गया था. हालांकि भारत ने राजपक्षे की लोकप्रियता को भी ख़ारिज नहीं किया.

पिछले साल जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी श्रीलंका गए तो उन्होंने राजपक्षे से मुलाक़ात की थी और अगस्त महीने में राजपक्षे ने भारत आकर मोदी से मुलाक़ात की थी. पिछले शनिवार को विक्रमासिंघे दिल्ली आए थे, लेकिन उस वक़्त तक कुछ ही अंदाज़ा नहीं था कि श्रीलंका में उनके ख़िलाफ़ इतना कुछ चल रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे