189 यात्रियों वाला इंडोनेशियाई प्लेन समंदर में गिरा, पायलट भारतीय

  • 29 अक्तूबर 2018
भव्य सुनेजा इमेज कॉपीरइट Bhavye Suneja FACEBOOK

इंडोनेशिया की लायन एयरलाइंस की फ़्लाइट बोइंग 737 जकार्ता से उड़ान भरने के ठीक बाद समंदर में क्रैश कर गई. फ़्लाइट जेटी-610 इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता से पंगकल जा रही थी.

राहत बचाव एजेंसी का कहना है कि पैसेंजर्स के सामानों के अवशेष समुद्र के पानी में मिले हैं. इनमें आईडी कार्ड और लाइसेंस भी शामिल हैं. एजेंसी का कहना है कि अभी वो कुछ भी कहने की स्थिति में नहीं है कि कोई ज़िंदा बचा है या नहीं.

यह प्लेन नई तरह का एयरक्राफ़्ट है और अभी तक साफ़ नहीं है कि क्रैश होने की वजह क्या है.

उड़ान भरने के कुछ मिनट बाद ही इसका संपर्क टूट गया था. यह फ़्लाइट समंदर पार कर रही थी. इसमें 189 लोग सवार थे. राष्ट्रीय सर्च और राहत बचाव एजेंसी के प्रवक्ता युसूफ़ लतीफ़ ने फ़्लाइट क्रैश की पुष्टि की है.

इंडोनेशिया की आपदा एजेंसी के प्रमुख सुतोपो पूर्वो नुगरोहो ने हादसे की तस्वीरें पोस्ट की हैं. एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस में अधिकारियों ने कहा कि इसमें 178 वयस्क, एक नवजात और दो बच्चे सवार थे. इसके अलावा दो पायलट और चालक दल के पांच लोग हैं.

सुतोपो ने एक वीडियो भी शेयर किया है. सुतोपो ने कहा है कि यह वीडियो कारावांग का है. कारावांग जकार्ता के पूरब में है. यह फ़्लाइट बोइंग 737 मैक्स 8 है.

2016 से इस मॉडल का इस्तेमाल हो रहा है. फ़्लाइट ट्रैकिंग वेबसाइट फ्लाइटट्रेडर24 का कहना है कि यह विमान लायन एयर के पास इसी साल अगस्त में आया था.

एविएशन कंस्लटेंट गेरी सोएजाटमैन ने बीबीसी से कहा है कि मैक्स 8 में कई तरह की समस्याएं थीं. राहत-बचाव एजेंसी के प्रवक्ता युसूफ़ लातिफ़ ने कहा है, ''प्लेन समंदर में 30 से 40 मीटर गहरे पानी में गिरा. हमें अब भी प्लेन नहीं मिला है.''

इस विमान के कैप्टन भारत के भव्य सुनेजा हैं. वो दिल्ली के मयूर विहार इलाके़ में पले-बढ़े हैं. सुनेजा के लिंक्डइन प्रोफ़ाइल के अनुसार वो 2011 से इस एयरलाइंस से जुड़े थे. सुनेजा को 2009 में बेल एयर इंटरनेशनल से पायलट का लाइसेंस मिला था.

उनके परिवार में माता-पिता और छोटी बहन हैं. बीबीसी संवाददाता कमलेश ने भव्य के परिवार वालों से जब संपर्क किया तो सदमे में डूबे परिवार का कोई सदस्य बात करने की स्थिति में नहीं था. हालांकि उन लोगों ने ये ज़रूर बताया कि पूरा परिवार शाम में जाकार्ता रवाना हो रहा है.

इमेज कॉपीरइट INDONESIA SEARCH AND RESCUE

क्या हुआ?

विमान जेटी 610 ने जर्काता से स्थानीय समय सुबह 6:20 में उड़ान भरी थी. इसे पंगकाल पिनांग में देपाती आमिर एयरपोर्ट पर आना था, लेकिन उड़ान भरने के 13 मिनट बाद ही संपर्क टूट गया. पायलट ने शुरू में जकार्ता के सुकर्णो-हट्टा एयरपोर्ट पर वापस आने को कहा था.

राहत और बचाव कार्यों में जुटे एक अधिकारी ने स्थानीय समाचार पत्र को बताया है कि पायलट ने फ़्लाइट को दोबारा जकार्ता लौटाने की अनुमति मांगी थी.

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption बचाव के कामों में जुटे लोगों ने समुद्र से कुछ सामान निकाला है.

विमान पर सवार लोगों के बारे में हमें क्या मालूम है?

लायन एयर ने एक बयान में कहा है कि विमान के पायलट और सहायक-पायलट काफ़ी अनुभवी थे.

इनके अलावा विमान पर तीन ट्रेनी फ़्लाइट अटेंडेंट और एक टेक्कनीशियन भी था.

बीबीसी को पता चला है कि इंडोनेशिया के वित्त मंत्रालय के 20 कर्मचारी भी विमान पर सवार थे.

इंडोनेशिया के वित्त मंत्रालय के प्रवक्ता नुफ़रांसा विरा सक्ति ने कहा कि ये सभी कर्मचारी पंगकाल पिनांग में नौकरी कर रहे थे. और जकार्ता में छुट्टी मनाने गए थे.

इमेज कॉपीरइट Reuters

विमान के बारे में हमें क्या पता है?

ये बोइंग का 737 MAX 8 मॉडल था जिसका साल 2016 से कॉमर्शियल इस्तेमाल शुरू हुआ था

लायन एयर ने कहा है कि ये एयरक्राफ़्ट इसी साल बनाया गया था और इसने 15 अगस्त से उड़ान भरना शुरू किया था.

छोटी दूरी की फ़्लाइट के लिए बने इस विमान में अधिकतम 210 यात्री सवार हो सकते थे.

लॉयन एयर का सेफ़्टी रिकॉर्ड कैसा है?

इंडोनेशिया में बहुत सारे टापू हैं और यहां हवाई यात्रा, एक द्वीप से दूसरे पर जाने का एक भरोसेमंद ज़रिया है. लेकिन इंडोनेशिया की एयरलाइन्स का रिकॉर्ड कुछ अच्छा नहीं है.

लायन एयर इंडोनेशिया की सबसे बड़ी बजट एयरलाइंस है. इस कंपनी की फ़्लाइट्स ऑस्ट्रेलिया और खाड़ी के देशों में भी जाती हैं.

साल 1999 में अस्तित्व में आई इस कंपनी का सेफ्टी रिकॉर्ड चिंताजनक है.

साल 2013 में लायन एयर की फ़्लाइट बाली में समुद्र में लैंड की गई थी. विमान पर सवार सभी 108 यात्री बच गए थे.

इससे पहले 2004 में इसी एयरलाइन की फ़्लाइट ने सोलो सिटी में क्रैश लैंडिग की थी. इस दुर्घटना में 25 लोग मारे गए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे