विमान हादसा: किसी का खो गया प्यार तो कोई ईश्वर का शुक्रगुज़ार

  • 30 अक्तूबर 2018
मारे गए लोगों के परिजन इमेज कॉपीरइट AFP

इंडोनेशिया में जकार्ता से पंगकल जा रहा लायन एयर का एक विमान सोमवार को उड़ान भरने के लिए 13 मिनट बाद ही दुर्घटनाग्रस्त हो गया. विमान में चालक दल के सदस्यों समेत 189 लोग सवार थे.

एयरलाइन्स के तकनीकी लॉग से जानकारी मिली है कि एक दिन पहले ही विमान में कुछ खराबी आई थी.

अधिकारियों का कहना है कि विमान में सवार लोगों में से किसी के भी जीवित बचे रहने की संभावना बेहद कम है.

लायन एयर के मुताबिक विमान में 178 वयस्क लोग और तीन बच्चे सवार थे. दो पायलट और क्रू के छह सहयोगी भी थे.

लायन एयर के मुताबिक विमान के पायलट कैप्टन भव्य सुनेजा थे. वो भारतीय मूल के थे.

जकार्ता स्थित भारतीय दूतावास ने उनकी मौत की पुष्टि की है. 31 साल के सुनेजा दिल्ली के रहने वाले थे.

अनुभवी पायलट

लिंक्डइन प्रोफ़ाइल के मुताबिक वो साल 2011 में लायन एयर के साथ जुड़े थे.

उनके पास छह हज़ार से ज़्यादा घंटे का विमान उड़ाने का अनुभव था.

को-पायलट हरविनो थे जिन्हें पांच हज़ार से ज़्यादा घंटे विमान उड़ाने का अनुभव था. यानी कॉकपिट में मौजूद दोनों पायलट ख़ासे अनुभवी थे.

क्रू के बाकी सदस्यों के नाम शिंतिया मेलिना, सिट्रा नोइविता एंजेलिया, अल्वियानी हिदायातुल सोलिखा, दमयंति सिमरमाता, मेरी युलिआंदा और डेनी मौला थे.

एयरलाइन के मुताबिक क्रू के सदस्यों में से एक टेक्नीशियन थे. तीन अंडर ट्रेनिंग फ्लाइट अटेंडेंट थीं.

इमेज कॉपीरइट Mini
Image caption हादसे में मारे गए लोगों के परिजन को सांत्वना देतीं वित्त मंत्री

सवार थे वित्त मंत्रालय के कर्मचारी

विमान में वित्त मंत्रालय के 20 कर्मचारी सवार थे. वित्त मंत्री श्री मुलयानी ने पीड़ित परिवार के सदस्यों को सांत्वना दी है.

वित्त मंत्रालय के प्रवक्ता नुफ़रांसा वीरा सक्ति ने बीबीसी को बताया कि विमान में सवार लोग मंत्रालय के पंगकल स्थित कार्यालय में काम करते थे और जकार्ता में हफ़्ते के आखिरी दो दिन बिताने के बाद काम पर लौट रहे थे.

उन्होंने ये भी बताया कि वो सामान्य तौर पर सुबह जल्दी जाने वाली उड़ान से जाते थे ताकि वक़्त पर ऑफिस पहुंच सकें.

मंत्रालय में काम करने वाले सोनी सेतियावान को भी इसी विमान से जाना था, लेकिन ट्रैफ़िक में फंसने की वजह से वो विमान में सवार नहीं हो सके.

उन्होंने समाचार एजेंसी एएफ़पी को बताया, "मैं जानता हूं कि मेरे दोस्त विमान में थे"

जब वो सुबह 9 बजकर 40 मिनट पर पनंगल पहुंचे तब उन्हें विमान हादसे के बारे में जानकारी हुई.

उन्होंने बताया, "मेरा परिवार सदमे में था. मेरी मां रो रही थीं. मैंने उन्हें बताया कि मैं सुरक्षित हूं. मुझे आभारी होना चाहिए."

Image caption मुरतादो कुरनियावान की पत्नी विमान में सवार थीं

'खो गया प्यार'

जकार्ता एयरपोर्ट पर विमान में सवार रहे कई लोगों के परिजन उन लोगों के बारे में सूचना पाने का इंतज़ार कर रहे थे.

मुरतादो कुरनियावान की पत्नी विमान में सवार थीं. उनकी हाल में ही शादी हुई थी और वो काम के सिलसिले में जा रही थीं.

मुरतादो की आंखों से आंसू बह रहे थे. उन्होंने कहा, "मैं उनके बिना नहीं रह सकता. मैं उनसे प्यार करता हूं. जो आखिरी बात मैंने उससे कही थी, वो ये था कि अपना ध्यान रखना. जब वो दूर जाती थी तब मैं उसे लेकर चिंतित रहता था. जब मैंने टीवी पर देखा कि विमान क्रैश हो गया है तो मेरे पूरे जिस्म में कमजोरी छा गई."

Image caption डेड की भतीजी विमान में सवार थीं

डेड भी एयरपोर्ट पर सूचना के इंतज़ार में थीं. उन्होंने बीबीसी से कहा कि वो अपनी भतीजी फिओना एयू और उनके परिवार को सोमवार सुबह एयरपोर्ट छोड़कर गई थीं. वो अपने घर जा रहे थे.

फियोना आईवीएफ की मदद से गर्भवती होने की प्रक्रिया में थीं. उनके परिवार की राय थी कि उनका जकार्ता में कुछ वक्त आराम करना ठीक होगा.

डेड ने बताया, "एयरलाइन की ओर से हमसे लगातार कहा जा रहा था कि हम ख़बर के लिए इंतज़ार करें, लेकिन सोशल मीडिया और टीवी पर आ रही तस्वीरें बहुत बुरी थीं. लेकिन मेरी उम्मीद अब भी बाकी है कि वो वापस आएंगी. मैं लगातार प्रार्थना कर रही हूं."

इमेज कॉपीरइट AFP PHOTO / NATIONAL DISASTER MITIGATION AGENCY

कौन है वो रहस्यमयी जोड़ा

समंदर से मिले मलबे की तस्वीरों के ज़रिए सामने आया है कि विमान में एक आईफ़ोन कवर पर पुल पर चहलकदमी करते एक जोड़े की अलग सी तस्वीर थी.

कुछ घंटे के अंदर इंडोनेशिया में सोशल मीडिया पर लोगों ने ये जाहिर किया कि उन्होंने तस्वीर को पहचान लिया है और एक यूज़र के अकाउंट पर ख़ुद को केंद्रित कर दिया.

लेकिन, तस्वीर में दिख रहे जोड़े की पहचान को लेकर कोई पुष्टि नहीं हुई.

इमेज कॉपीरइट Reuters

ग़म का पहाड़

21 बरस की मिशेल वर्जिना बोंगकल पंगकल पिना जा रही थीं. उन्हें अपनी दादी के अंतिम संस्कार में हिस्सा लेना था. उनके साथ उनके 13 बरस के भाई मैथ्यू और पिता एडोनिया भी थे.

उनकी बहन वीना ने बीबीसी को बताया कि परिवार पहले ही दादी के निधन पर दुखी था. अब विमान हादसे ने उनकी मुश्किलें बढ़ा दी हैं.

उन्होंने बताया कि परिवार के लोग सामान्य तौर पर दूसरी एयरलाइन चुनते थे, लेकिन सुबह जाने की वजह से उन्होंने बजट एयरलाइन को चुना.

वीना के मुताबिक मिशेल ने उड़ान भरने के पहले सुबह 6 बजे के करीब अपनी मां से बात की थी. थोड़ी ही देर बात विमान क्रैश होने की ख़बर आ गई.

उन्होंने बताया, "7.30 बजे तक हम मिशेल को फ़ोन करने की कोशिश करते रहे लेकिन हमें कोई जवाब नहीं मिला."

ये भी पढ़ें:-

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए