पाकिस्तानः 15 साल की सिख बच्ची के साथ कथित तौर पर बलात्कार, दो लोग गिरफ़्तार

  • 30 अक्तूबर 2018
पाकिस्तान, सांकेतिक तस्वीर इमेज कॉपीरइट Reuters

पाकिस्तान के पंजाब सूबे के ननकाना साहब शहर में रहने वाले एक सिख परिवार का कहना है कि उनकी 15 साल की नाबालिग़ बेटी के साथ दो लोगों ने बलात्कार किया है.

परिवार का कहना है कि उनकी बेटी मानसिक रूप से असंतुलित है और बलात्कार करने वाले दोनों लोग रेसक्यू टीम के सदस्य थे.

ननकाना साहब सिटी पुलिस के अनुसार परिवार वालों की शिकायत पर रेसक्यू टीम नंबर 1122 के दो सदस्यों के ख़िलाफ़ बलात्कार का मुक़दमा दर्ज करके उन्हें गिरफ़्तार कर लिया गया है.

बीबीसी से बातचीत के दौरान ननकाना साहब के पुलिस उपाधीक्षक मुजाहिद रज़ा का कहना है कि इस बात का फ़ैसला मेडिकल रिपोर्ट आने के बाद किया जाएगा कि बच्ची के साथ बलात्कार हुआ है या नहीं.

उनके अनुसार, अस्पताल में शुरुआती जांच के बाद फ़ॉरेंसिक टेस्ट के लिए बच्ची को लाहौर की फ़ॉरेंसिक साइंस एजेंसी भेज दिया गया है.

पुलिस उपाधीक्षक का कहना था कि इस काम में 15-20 दिन लग जाएंगे और तब तक दोनों अभियुक्त पुलिस हिरासत में रहेंगे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ननकाना साहब शहर से थोड़ी दूर

पुलिस का कहना है कि बच्ची की उम्र तो तक़रीबन 15 साल है लेकिन उसकी मानसिक हालत दो महीने के बच्चे जैसी है.

बच्ची के परिवार वालों का कहना है कि बच्ची रविवार की रात अपने घर से बाहरर निकल गई थी.

घरवालों ने उसकी तलाश शुरू की तो उन्हें ननकाना साहब शहर से थोड़ी दूर सड़क किनारे खड़ी रेसक्यू टीम नंबर 1122 की एक एंबुलेंस में बच्ची मिली.

ननकाना साहब में स्थित सिख समाज के लोगों ने इस मामले की जांच के लिए एक कमिटी का गठन किया है.

कमिटी के एक सदस्य ने बीबीसी से बातचीत के दौरान कहा, "बच्ची को तलाश करने वालों ने रेसक्यू टीम नंबर 1122 के लोगों को ऐम्बुलेंस का दरवाज़ा खोलने का कहा तो उन्होंने गाड़ी भगा दी."

"ननकाना साहब शहर से तक़रीबन तीन किलोमीटर दूर उन्होंने बच्ची को गाड़ी से फेंक दिया और फ़रार हो गए."

उनका कहना था कि बच्ची जिस हालत में पाई गई उसके जिस्म पर सिर्फ़ एक कमीज़ थी. बच्ची बोल भी नहीं सकती है इसलिए उसका बयान भी दर्ज नहीं किया जा सका.

इमेज कॉपीरइट AFP

मेडिकल रिपोर्ट के बाद

डीएसपी मुजाहिद रज़ा का कहना है कि बाद में सिख समाज की शिकायत पर बच्ची के भाई का बयान लेकर बलात्कार का मुक़दमा दर्ज कर लिया गया और दोनों अभियुक्तों को गिरफ़्तार कर लिया गया.

अभियुक्तों ने पुलिस को बताया है कि बच्ची गाड़ी से टकरा गई थी जिसके बाद उन्होंने मेडिकल मदद के लिए बच्ची को ऐंबुलेंस में डाल दिया था.

लेकिन पुलिस अधिकारी का कहना है कि वो इस बात की जांच कर रहे हैं कि बच्ची गाड़ी से कैसे और कब टकराई, उसको क्या चोटें आईं और अगर उसे ऐंबुलेंस में डाला गया था तो फिर अस्पताल क्यों नहीं ले जाया गया.

पुलिस के अनुसार, इस बारे में और जानकारी मेडिकल रिपोर्ट के बाद मिल सकेगी.

दूसरी तरफ़ रेसक्यू टीम नंबर 1122 के प्रवक्ता फ़ारूक़ अहमद ने बीबीसी को बताया कि इस हवाले से शिकायत मिलने के साथ ही दोनों अभियुक्तों के ख़िलाफ़ विभागीय जांच की गई और उन्हें फ़ौरन निलंबित कर दिया गया है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पुलिस के हवाले

फ़ारूक़ अहमद के अनुसार मामले की निष्पक्ष जांच के लिए दोनों अभियुक्तों को रेसक्यू सर्विस ने ख़ुद उन्हें पुलिस के हवाले कर दिया.

उनका कहना था कि उनकी संस्था इस मामले में चल रही जांच को किसी भी तरह प्रभावित नहीं करना चाहती है.

उनके अनुसार अगर ये भी साबित हो जाता है कि ये दोनों उस बच्ची के साथ बलात्कार करना तो दूर ऐसा इरादा भी रखते थे तो उन्हें नौकरी से बर्ख़ास्त कर दिया जाएगा.

फ़ारूक़ अहमद के अनुसार रेसक्यू टीम नंबर 1122 चौदह साल से काम कर रही है और ऐसा पहली बार हुआ है कि उसके किसी सदस्य पर इस तरह के आरोप लग हैं.

उनके अनुसार टीम के सदस्य रोज़ाना हज़ारों ऐसे लोगों को मदद पहुंचाते हैं और उनमें से कई लोग मानसिक रूप से बीमार होते हैं.

सिख बिरादरी का कहना है कि बच्ची का परिवार चंद साल पहले ख़ैबर पख्तूख्वाह से ननकाना साहब आकर बसा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए