पाकिस्तानः तालिबान के 'गॉडफ़ादर' की रावलपिंडी में हत्या

  • 2 नवंबर 2018
इमेज कॉपीरइट Getty Images

पाकिस्तान में जमियत उलेमा-ए-इस्लाम की अपनी शाखा के प्रमुख मौलाना समी उल हक़ की रावलपिंडी में उनके घर में हत्या कर दी गई है.

मौलाना समी उल हक़ को पाकिस्तान में तालिबान का जनक भी कहा जाता है. वो एक प्रभावशाली धर्मगुरु थे जिनसे हज़ारों तालिबान लड़ाकों ने तालीम हासिल की.

रावलपिंडी पुलिस ने बीबीसी उर्दू संवाददाता शहज़ाद मलिक को बताया है कि समी उल हक़ पर हमला उनके रावलपिंडी स्थित आवास पर हुआ.

वो रावलपिंडी के बहरिया टाउन में सफ़ारी वन विलाज़ इलाक़े में रहते थे.

मौलाना समी उल हक़ के पोते अब्दुल हक़ ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि वो रावलपिंडी में अपने मकान में अकेले थे जब अज्ञात हमलावर ने छुरे से हमला करके उनकी हत्या कर दी.

उन्होंने बताया कि हमले के वक़्त मौलाना अकेले थे. उनके सुरक्षाकर्मी और ड्राइवर घर से बाहर गए हुए थे. जब वो लौटे तो मौलाना समी-उल-हक़ उन्हें ख़ून में लथपथ मिले.

पुलिस अधिकारियों के मुताबिक अज्ञात हमलावर शुक्रवार शाम को उनके घर में घुसा और उन पर हमला किया.

तालिबान के रूहानी नेता

मौलान समी उल हक़ की उम्र 80 साल से ज़्यादा थी और वो 1988 से दारुल उलूम हक़्क़ानिया के अध्यक्ष थे. इस मदरसे से हज़ारों तालिबान लड़ाकों ने इस्लामी शिक्षा हासिल की है.

1990 के दशक़ में उनके मदरसे को अफ़ग़ान जेहाद की नरसरी कहा जाता था. राजनीतिक विश्लेषकों के मुताबिक मौलाना समी उल हक़ तालिबान के रूहानी नेता थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

मौलाना समी उल हक़ ने मुल्ला उमर को अपना बेहतरीन छात्र क़रार दिया था और उन्हें एक फ़रिश्ते जैसा इंसान कहा था.

वो जमियत उलेमा ए इस्लाम के एक धड़े के नेता थे और दो बार पाकिस्तान की संसद के सदस्य भी रह चुके थे.

इसी साल हुए चुनावों के दौरान उन्होंने सत्ताधारी तहरीक-ए-इंसाफ़ पार्टी का समर्थन किया था.

बेहद प्रभावशाली धर्मगुरु मौलाना समी उल हक़ की हत्या एक बेहद संवेदनशील समय में हुई है.

ईसाई युवती आसिया बीबी को ईशनिंदा के आरोप में बरी किए जाने के बाद पाकिस्तान में धार्मिक समूह प्रदर्शन कर रहे हैं.

मौलाना के परिजनों के मुताबिक वो भी प्रदर्शन में हिस्सा लेना चाहते थे लेकिन पुलिस के रास्ते बंद करने की वजह से घर वापस लौट आए थे.

मौलाना समी उल हक़ का जन्म साल 1936 में अकोरा खट्टाक के एक धार्मिक परिवार में हुआ था.

पाकिस्तान तालिबान कमांडर मुल्ला फ़ज़लुल्लाह की मौत

अल-क़ायदा और तालिबान के ख़िलाफ़ क्या अमरीका हार रहा है

हाफ़िज़ सईद पर कार्रवाई करेगा पाकिस्तान

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार