अमरीका में नज़र आई चीन की रहस्यमयी बतख

  • 3 नवंबर 2018
इमेज कॉपीरइट Phil Torres
Image caption बतख रातोरात न्यूयॉर्क में लोकप्रिय हो गई है

न्यूयॉर्क शहर में एक नया मेहमान आया है. एक रंग बिरंगी बतख.

न्यूयॉर्क के लोग उस वक़्त हैरान रह गए जब उन्होंने एक अनूठी बतख शहर के सेंट्रल पार्क में देखी.

यह एक नर मंदारिन बतख था जिसका अमरीका में पाया जाना किसी पहेली से कम नहीं है.

कहानी शुरू होती है 10 अक्टूबर से, जब कुछ पक्षीप्रेमियों के एक समूह 'मैनहेटन बर्ड अलर्ट' ने न्यूयॉर्क के सेंट्रल पार्क में अठखेलियां करते इस ख़ूबसूरत पक्षी का वीडियो ट्विटर पर डाला.

इसके बाद शहर के पक्षीप्रेमी इस ख़ूबसूरत मेहमान से मिलने के लिए अपने घरों से दौड़ पड़े.

'सबसे सुंदर'

मैनहैटन बर्ड अलर्ट के मुताबिक, ये बतख इतनी ख़ूबसूरत थी कि उसने कैरोलीना की बतख से 'पार्क में सबसे सुंदर' का ख़िताब छीन लिया.

मंदारिन चीन की भाषा है. मंदारिन बतख पूर्वी चीन, कोरियाई प्रायद्वीप और जापान में पाई जाती है.

ये बतख इतनी ख़ूबसूरत है कि न्यूयॉर्क के इंस्टाग्राम यूज़र्स के बीच यह बहुत जल्दी लोकप्रिय हो गई.

इंस्टाग्राम पर #MandarinDuck हैशटैग से 19,200 पोस्ट किए जा चुके हैं. अपने विशिष्ट रंगों के कारण उसे किसी भी पृष्ठभूमि में आसानी से देखा जा सकता है.

माइक्रोबायोलॉजिस्ट और जानवरों की डॉक्टर इंस्टाग्राम यूज़र @pjmdvm ने लिखा है कि उन्होंने कई पक्षियों का पीछा किया है और उनमें मंदारिन डक बेहद आसानी से पहचान में आ जाती है.

इस बतख की पहली तस्वीर लेने वाले यूज़र फिल टॉरेस ने लिखा, "ख़ूबसूरत मंदारिन बतख की एक और तस्वीर. ख़ुश हूं कि @nbcnews और @bbcnews ने इस दिलकश शख़्स की तस्वीरें साझा कीं जिसने न्यूयॉर्क को अपना घर चुना है."

इस बतख ने कई कलाकारों को भी प्रेरित और प्रभावित किया. @amyroutman ने यह तस्वीर बनाई:

न्यूयॉर्क पार्क्स और रिक्रिएशन डिपार्टमेंट ने भी इस लोकप्रिय मेहमान का वीडियो साझा किया.

मंदारिन बतख पूर्वी एशिया में पाई जाती है. सेंट्रल पार्क के चिड़ियाघर ने कहा है कि वहां दिख रही मंदारिन बतख का ताल्लुक उनके यहां से नहीं है.

मैनहैटन बर्ड अलर्ट का अनुमान है कि यह बतख अपने किसी निजी मालिक के पास से भागकर यहां पहुंची होगी. न्यूयॉर्क में बतख को पालना अवैध है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आपयहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे