कौन था कैलिफ़ोर्निया में बार पर हमला करने वाला संदिग्ध?

  • 9 नवंबर 2018
इमेज कॉपीरइट cbs

अमरीका के कैलिफ़ोर्निया प्रांत में एक बार पर हमला करने वाले संदिग्ध की पहचान एक पूर्व अमरीकी सैनिक के रूप में हुई है.

इस हमले में अब तक 12 लोगों के मारे जाने की पुष्टि हुई है. हमले में कम से कम 10 लोग गंभीर रूप से घायल भी हुए हैं.

हमलावर ने ख़ुद को भी गोली मार ली थी.

पुलिस के मुताबिक़, ये हमला 28 वर्षीय पूर्व मरीन सैनिक इयान डेविड लोंग ने किया है. शक़ है कि वो अवसाद से पीड़ित थे.

पुलिस का कहना है कि हाल के सालों में डेविड लोंग के साथ पुलिस को कई बार संपर्क करना पड़ा था.

इमेज कॉपीरइट EPA

अधिकारियों के मुताबिक़, डेविड लोंग ने इसी साल अप्रैल में अपने घर पर हंगामा किया था और पुलिस को बुलाना पड़ा था.

पुलिस के मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर इस नतीजे पर पहुंचे थे कि उन्हें उनकी मर्ज़ी के बिना मानसिक स्वास्थ्य केंद्र में रखना सही नहीं है.

उस समय उनका साक्षात्कार करने वाले मानसिक स्वास्थ्य पेशेवरों का कहना था कि वो शायद पीटीएसडी (पोस्ट ट्रामैटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर) से पीड़ित हैं.

पीटीएसडी एक तरह का मानसिक तनाव या विकार है जिसकी जड़ में कोई घटना होती है. दर्दनाक अनुभवों के बाद लोग पीटीएसडी के शिकार होते हैं.

किसी दर्दनाक घटना के बाद उससे जुड़े लोग दर्द या ग़म में डूब सकते हैं, अवसाद में आ सकते हैं या उनमें अपराधबोध या ग़ुस्सा भर सकता है. यही पीटीएसडी की वजह बनती हैं.

इमेज कॉपीरइट Social Media
Image caption सार्जेंट रोन हेलुस भी हमलावर की गोली से मारे गए

यूएस मरीन कॉर्प्स ने एक बयान जारी कर कहा है कि डेविड ने 2008 से 2013 तक मशीन गनर के रूप में उनके साथ काम किया. वो कोर्पोरल की रैंक तक पहुंच गए थे.

सेना छोड़ने के बाद लोंग ने कैलिफ़ोर्निया स्टेट यूनिवर्सिटी में साल 2013 से 2016 के बीच पढ़ाई भी की थी.

डेविड लोंग साल 2010-11 के बीच अफ़ग़ानिस्तान में तैनात थे जहां उन्हें मरीन कॉर्प्स की ओर से गुड कंडक्ट मेडल, अफ़ग़ानिस्तान कैंपेन मेडल और ग्लोबल वॉर ऑन टेरररिज़्म सर्विस मेडल भी दिया गया था.

पुलिस का कहना है कि डेविड ने हमले में .45 कैलिबर की ग्लॉक सेमी ऑटोमैटिक हैंडगन का इस्तेमाल किया.

उनके पास अतिरिक्त मैगज़ीन भी थी जिसे रखना कैलिफ़ोर्निया में ग़ैर-क़ानूनी है.

ये भी पढ़ें:

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार