चीन: गे सेक्स पर उपन्यास लिखने पर मिली 10 साल की सज़ा

  • 20 नवंबर 2018
सांकेतिक तस्वीर इमेज कॉपीरइट iStock

गे सेक्स पर आधारित उपन्यास लिखने और बेचने के लिए चीन की एक लेखिका को 10 साल की सज़ा सुनाई गई है.

लिउ नाम की लेखिका को अन्हुई प्रांत की एक अदालत ने पिछले महीने 'अश्लील सामग्री' लिखने और उसे बेचने पर जेल भेजा.

'ऑक्युपेशन' नाम का उपन्यास 'पुरुषों के समलैंगिक संबंधों पर आधारित है, जिसमें उत्पीड़न समेत घटिया सेक्शुअल एक्ट्स के बारे में लिखा गया है.'

लेकिन उनकी सज़ा की अवधि लंबी होने से चीन के सोशल मीडिया पर इसका विरोध किया जा रहा है .

बीजिंग न्यूज़ के अनुसार, इंटरनेट पर तियां यी कहलाने वाली लिउ ने कोर्ट में एक अपील दायर की है.

चीन में पोर्नोग्राफ़ी ग़ैरक़ानूनी है.

'ये बहुत ज्यादा हो गया'

स्थानीय समाचार वेबसाइट, वुहू न्यूज़ के अनुसार, 31 अक्टूबर को लिउ को वुहू के पीपल्स कोर्ट ने 'अश्लील सामग्री' को फ़ायदे के लिए लिखने और बेचने के लिए सजा सुनाई गई.

हालांकि सुनवाई के ब्यौरे चीनी मीडिया में इसी हफ़्ते सामने आए.

लिउ का उपन्यास जब ऑनलाइन माध्यम पर लोकप्रिय होने लगा तो पुलिस अधिकारियों को इसकी ख़बर दी गई.

सरकारी न्यूज़ संस्था 'ग्लोबल टाइम्स' के मुताबिक, लिउ की किताब 'ऑक्युपेशन' और अन्य कामुक उपन्यासों की 7,000 से अधिक प्रतियां बिकी, जिस पर उन्हें डेढ़ लाख युआन यानी लगभग 15 लाख 46 हजार रुपये का फ़ायदा हुआ.

लेकिन कई सोशल मीडिया यूज़र्स का मानना है कि इसके लिए उन्हें जो सज़ा दी गई वो बहुत ज्यादा है.

सोशल मीडिया अकाउंट वीबो पर एक यूज़र ने कहा, ''एक उपन्यास के लिए 10 साल? ये बहुत ज्यादा हो गया.''

एक यूज़र ने 2013 की एक घटना का हवाला दिया, जिसमें एक पूर्व अधिकारी को चार साल की बच्ची के साथ बलात्कार करने पर आठ साल की सजा सुनाई गई थी.

वीबो पर एक अन्य यूज़र ने लिखा, "जो बलात्कार के लिए दोषी पाए गए उन्हें 10 साल से कम की सजा मिलती है. इस लेखिका को 10 साल की सजा मिली. "

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार