फ्रीडम ट्रैशकैन: गुड़िया

  • 3 दिसंबर 2018
Doll image

हाल ही में पश्चिमी समाज में इस तरह के अभियान चलाए गए जिसमें खिलौने बनाने वाली कंपनियों पर यह दबाव बनाया गया कि वे एक ही जेंडर को ध्यान में रखकर खिलौने ना बनाए.

आलोचकों ने यह भी कहा कि लड़कियों के लिए हर समय जबरन गुलाबी रंग का इस्तेमाल ना किया जाए. बाज़ार में आमतौर पर गुड़िया को लड़िकयों को ध्यान में रखकर ही डिज़ाइन किया जाता है.

अभियान चलाने वाले कार्यकर्ताओं ने कहा कि बचपन में जिस तरह के खिलौनों से बच्चे खेलते हैं बड़े होने पर उनके मस्तिष्क में इनकी छाप बनी रहती है और अपने साथी को उन खिलौनों की तरह होने की उम्मीद करते हैं.

इस लिस्ट में से कोई एक चीज़ चुनिए और पता लगाइए कि ये कैसे आपके लिए एक दबाव की वजह बन सकती है.

आलोचकों ने तर्क दिए कि अगर बचपन में लड़कियों को सिर्फ़ घरेलू काम करने वाले खिलौने या फ़ैशन आदि से जुड़े खेल ही खिलवाए जाएंगे तो वह बड़ी होने तक भी खुद को किसी वैज्ञानिक, बिजनेसवुमेन या किसी नेता के रोल में सोच ही नहीं पाएगी.

कुछ कंपनियों ने इस ओर ध्यान देना शुरू किया है और अब वे अलग-अलग तरह के खिलौने बनाने लगे हैं. जैसे, ट्रांसजेंडर गुड़िया या फिर कोई शारीरिक अक्षमता वाली गुड़िया या अलग-अलग बॉडीशेप वाली गुड़िया.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे