सीरिया में लड़ रहे भाड़े के रूसी सैनिकों की कहानी

  • 29 नवंबर 2018
रूस इमेज कॉपीरइट GETTY IMAGES

सीरिया में सैन्य अभियान की शुरुआत से ही मॉस्को के अधिकारियों ने रूसी सुरक्षा कंपनियों के सैनिकों की युद्ध में मौत के मामलों को कभी स्वीकार नहीं किया.

यहां तक कि इन कंपनियों के अस्तित्व को भी कभी स्वीकार नहीं किया गया.

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के प्रेस सचिव दिमित्री पेस्कोव ने कुछ दिन पहले कहा, "हमारे यहां ऐसी संस्थाएं नहीं हैं."

बीबीसी रूसी सेवा ने इस साल सीरिया की यात्रा करने वाले एक व्यक्ति से बात की तो उसने बताया कि 'पीएमसी वाग्नेर' (निजी सैन्य कंपनी) के भाड़े के रूसी सैनिकों ने सीरिया और पूर्वी यूक्रेन में साल 2018 की शुरुआत से अभियानों में भाग लिया है.

फिर वो सूडान और मध्य अफ़्रीकी गणराज्य गए और वे अब जल्द ही लीबिया का रुख़ करेंगे.

निकोलाई अफ्रिन (बदला हुआ नाम) ने कहा, "उन्हीं में से लगभग 80 लोग सूडान में मौजूद हैं और हाल ही में उन्हें लीबिया जाने के लिए इकट्ठा किया गया है."

इमेज कॉपीरइट GETTY IMAGES

भर्ती की प्रक्रिया

वाग्नेर पीएमसी में शामिल होने से पहले, अफ्रिन ने सहस्राब्दि की शुरुआत में चेचन्या में एक भाड़े के सैनिक के रूप में काम किया है.

निकोलाई अफ्रिन कहते हैं, "वाग्नेर पीएमसी के लिए काम करना आय का एक बहुत अच्छा ज़रिया है."

उन्होंने ये भी बताया कि सीरिया में युद्ध की शुरुआत में यात्रा की अवधि 6 महीने तक हुआ करती थी, लेकिन अब सभी यात्राएं तीन महीने से अधिक की नहीं होती हैं.

कंपनी में शामिल होने के संबंध में उन्होंने बताया कि 'स्वयंसेवक' को सबसे पहले मोल्किनो स्थित ट्रेनिंग अड्डे पर जाकर रोज़गार से जुड़ा दस्तावेज़ जमा करना पड़ता है.

उन्होंने कहा कि फ़ॉर्म भरने के बाद नए 'स्वयंसेवक' को परीक्षण के कई चरणों से गुज़रना पड़ता है, जिसमें प्रारंभिक रूप से शारीरिक फिटनेस परीक्षा भी शामिल है.

उसके बाद उसका मेडिकल टेस्ट और फिर डोप टेस्ट होता है. नामंजूरी के ज़्यादातर मामले हेपेटाइटिस के कारण होते हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

सैनिक या 'स्वयंसेवक'

फिर 'स्वयंसेवक' अपने परिवार, दोस्तों और रिश्तेदारों के सभी विवरण लिख कर देते हैं.

इसी तरह उनका भी विवरण देना पड़ता है, जिन्हें काम के दौरान मौत होने पर मुआवज़ा दिया जाना है.

'स्वयंसेवक' को अपने सभी सोशल नेटवर्किंग अकाउंट्स के पासवर्ड कंपनी को मुहैया करने के लिए भी कहा जाता है.

इसके बाद एक सुरक्षा विशेषज्ञ अधिकारी के साथ मीटिंग होती है.

निकोलाई अफ्रिन ने कहा कि इन सभी चरणों से पास होने के बाद 'स्वयंसेवक' को कंपनी में शामिल कर लिया जाता है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

भाड़े के सैनिक का वेतन 3 लाख रूबल

निकोलाई अफ्रिन बताते हैं, "और फिर अपना व्यक्तिगत नंबर प्राप्त करने के बाद 'स्वयंसेवक' अपना वेतन प्राप्त करने लगता है."

इस प्रक्रिया के बाद वाग्नेर के लिए काम करने वाला भाड़े का सैनिक 80,000 रूबल के मासिक वेतन के साथ एक साल के अनुबंध पर हस्ताक्षर करता है.

इस अनुबंध के तहत चोट लगने के मामले में 300,000 रूबल का मुआवजा और मृत्यु के मामले में पारिवारिक मुआवजे के रूप में दो मिलियन रूबल शामिल हैं.

बाद में मृत्यु के लिए मुआवजे को बढ़ा कर पांच मिलियन रूबल कर दिया गया है.

रूस में एक रिज़ॉर्ट के पास 'सीरिया में वाग्नेर के पीड़ितों' की याद में एक चर्च स्थापित किया गया है जो मोल्किनो में उनके प्रशिक्षण कैंप के पास स्थित है.

इमेज कॉपीरइट MIKHAIL METZEL/TASS
Image caption पुतिन के रसोइये के तौर पर मशहूर रूसी व्यापारी येवगेनी ब्रिगोज़िन

पुतिन का रसोइया

कई मीडिया रिपोर्टों ने सीरिया, पूर्वी यूक्रेन और विभिन्न अफ्रीकी देशों में वाग्नेर के सैनिकों के मौजूद होने का संकेत दिया है.

पिछली 30 जुलाई को रूसी पत्रकारों ओरहान जमाल, केरील राडचेन्को और अलेक्जेंडर रास्तोरोव को तब जान गंवानी पड़ गई, जब वे मध्य अफ्रीकी गणराज्य में रूसी भाड़े के सैनिकों की गतिविधियों के बारे में एक फ़िल्म शूट कर थे.

ये बात कही जाती है कि पुतिन के रसोइये के तौर पर मशहूर रूसी व्यापारी येवगेनी ब्रिगोज़िन वाग्नेर के संस्थापक हैं, लेकिन उन्होंने इसे मानने से इनकार कर दिया है.

रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने ब्रिगोज़िन के बारे में पूछे जाने पर कहा कि वह उन्हें जानते हैं लेकिन वे उनके मित्र नहीं हैं.

पूर्वी यूक्रेन में अलगाववादियों के साथ संबंधों के कारण ब्रिगोज़िन का नाम अमरीकी प्रतिबंध सूची में दर्ज है.

सीरिया में रूस का दखल

यूएस ट्रेजरी विभाग ने दिसंबर, 2016 में कहा था कि ब्रिगोज़िन का रूसी रक्षा मंत्रालय के साथ 'भारी व्यापारिक लेनदेन' है और वो यूक्रेन के पास एक नए सैनिक अड्डे के निर्माण से जुड़े हुए हैं.

'वॉशिंगटन पोस्ट' अख़बार ने ख़ुफ़िया सूत्रों का हवाला देते हुए लिखा है कि ब्रिगोज़िन 7 फरवरी, 2018 को तेल के उत्पादन करने वाले इलाक़े देइर अल-ज़ोर में सीरियाई लोकतांत्रिक बलों के सैन्य अड्डे पर हमले से पहले क्रेमलिन के साथ निकट संपर्क में थे.

रिपोर्ट के अनुसार, निगरानी करने पर पता चला है कि हमले शुरू होने से पहले ब्रिगोज़िन ने सीरियाई अधिकारियों के साथ कार्रवाई की योजना में भी भाग लिया था.

क्रेमलिन ने इस कार्रवाई को अंज़ाम देने लिए किसी भी रूसी सैन्य बलों को तैनात किए जाने से इनकार किया है.

लेकिन इसके बारे में अधिक जानकारी दिए बिना, स्वीकार किया कि दर्ज़नों रूसी मारे गए हैं और दर्ज़नों घायल हुए हैं.

इमेज कॉपीरइट EPA

गैस और तेल

रूसी विपक्षी नेता अलेक्सी नावलनी का कहना है कि ब्रिगोज़िन की कंपनियां रूसी रक्षा मंत्रालय के सभी अनुबंधों पर काबिज़ हो चुकी हैं.

कंपनी ने अपनी वेबसाइट में कहा कि उसने हाल ही में अपनी गतिविधियों के क्षेत्रों की सूची में खनन के साथ साथ गैस और तेल उत्पादन को जोड़ा है, और सीरिया की राजधानी दमिश्क में एक कार्यालय भी खोला है.

ब्रिगोज़िन पुतिन के रसोइये के रूप में भी जाने जाते हैं जो क्रेमलिन में आयोजित पार्टियों के लिए भोजन की आपूर्ति करते हैं.

फिर उनके बिज़नेस का दायरा धीरे-धीरे लग्जरी रेस्त्रां से रूसी सशस्त्र बलों की सेवा तक बढ़ गया.

बीबीसी रूसी सेवा की पड़ताल से ये बात सामने आई है कि 'पीएमसी वाग्नेर' अपनी स्थापना से ही मुखौटे के रूप में अन्य कंपनियों का उपयोग करती रही है और खुद को सीधे तौर पर ब्रिगोज़िन के कारोबार से नहीं जोड़ती है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption सांकेतिक तस्वीर

कंपनी की कहानी

इन कंपनियों में एक दवाओं की कंपनी भी है, जिसका नाम 'कंटूर' है. ये सेंट पीटर्सबर्ग में साल 2014 में 10 हज़ार रूबल पूँजी और 4 कर्मचारियों के विवरण के साथ पंजीकृत हुई.

साल 2014 में इसकी पूँजी बढ़ कर 300 मिलियन रूबल तक पहुंच गई और 2017 में 1.9 बिलियन रूबल हो गई.

कंपनी के महानिदेशक एंड्री काचेंको बीबीसी की रूसी सेवा के साथ बातचीत पर सहमत हुए और फिर माफी मांग कर यात्रा पर चले गए.

साल 2014 में 'क्यूएमएस' नाम की एक दूसरी कंपनी क़ानूनी संस्था के रूप में शुरू हुई और दो साल तक चलती रही, उसके बाद इस कंपनी का पंजीकरण नहीं हुआ.

बीबीसी रूसी सेवा ने पाया कि इस कंपनी का मुख्यालय पुलिस स्टेशन के पास स्थित इमारत के एक कमरे में था.

Image caption डेनिस प्रीबिलोव

अमरीकी प्रतिबंध

'एसएमके' नाम की एक दूसरी कंपनी के प्रबंधक डेनिस प्रीबिलोव ने बीबीसी को बताया, "मैंने एक विज्ञापन देखा, जिसमें एक प्रबंधक की मांग की गई थी. मैंने आवेदन दिया और 12 हज़ार रूबल वेतन पर मेरा चयन हो गया. उस कंपनी में मेरे साथ मेरी पत्नी भी शामिल हो गईं, लेकिन हमने जल्द ही वह कंपनी छोड़ दी."

जब प्रीबिलोव को बीबीसी से पता चला कि वो तीन साल पहले कागज़ पर एक विशेष सैन्य दल के सेनापति थे तो उन्होंने कोई आपत्ति नहीं जताई और कहा कि "मैंने टेलीविज़न पर वाग्नेर के संबंध में कुछ सुना था."

उन्होंने बताया कि "मैंने पूर्वी यूक्रेन में अपने बचपन का दोस्त खो दिया जो वहां लड़ रहा था."

अमरीकी वित्त मंत्रालय ने जून 2017 में वाग्नेर को यूक्रेन विवाद में अपनी भागीदारी के कारण प्रतिबंध के अधीन व्यक्तियों और संस्थाओं की सूची में दर्ज किया है.

अमरीका ने कहा है कि वाग्नेर ने पूर्वी यूक्रेन में अलगावादियों के साथ लड़ने के लिए सैन्य दल भेजे थे.

ये भी पढ़ें:

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार