अमरीकी बाज़ार को झटका, 10 साल की सबसे बड़ी गिरावट

  • 22 दिसंबर 2018
इमेज कॉपीरइट Getty Images

चीन के साथ बढ़ते व्यापारिक तनाव के बीच अमरीकी शेयर बाज़ार को बीते एक दशक में सबसे तगड़ा झटका लगा है.

अमरीकी बाज़ार के तीनों सूचकांकों में गिरावट दर्ज की गई है. सबसे ज़्यादा गिरावट तकनीकी कंपनियों पर केंद्रित नैसडेक सूचकांक में आई है जो अपने शीर्ष स्तर से बीस प्रतिशत नीचे गिर गया है.

वहीं डाओ जोंस में 2008 के बाद से एक सप्ताह के भीतर की सबसे बड़ी गिरावट दर्ज की गई है.

एस एंड पी 500 सूचकांक में भी बीते सप्ताह 07 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है.

ये अगस्त 2011 के बाद से सबसे बड़ी साप्ताहिक गिरावट है वहीं नैसडेक में आई 8.36 प्रतिशत की गिरावट नवंबर 2008 के बाद से सबसे बड़ी गिरावट है.

इसी सप्ताह डाऊ जोंस 6.8 प्रतिशत तक नीचे गिर गया है.

अमरीकी बाज़ार और अर्थव्यवस्था की सेहत नापने वाले इन तीनों सूचकांकों में आई इस भारी गिरावट की वजह चीन के साथ व्यापारिक तनाव के अलावा अमरीकी सरकार के शटडाउन और क़र्ज़ पर बढ़ती ब्याज दरों को भी माना जा रहा है.

ये भी पढ़ें-

अमरीका को क्यों है चीन के जासूसों की तलाश

वो तकनीक जिसके लिए रेस में हैं चीन और अमरीका

चीन की इस कंपनी से क्यों डर रहा है अमरीका

कई साल के फ़ायदों के बाद अब अमरीकी निवेशक कम होते कार्पोरेट फ़ायदे और घरेलू और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर धीमी होती आर्थिक प्रगति की वजह से स्टाक बेच रहे हैं.

बाज़ार में अस्थिरता

इसी सप्ताह अमरीका की फ़ेडरल रिज़र्व ने ब्याज़ दर बढ़ा दी थी और संकेत दिए थे कि ये अगले साल भी धीमी गति से बढ़ेगी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सीएमसी मार्केट के मुख्य बाज़ार विश्लेषक मिशेल कहते हैं, "यूरोज़ोन धीमा पड़ रहा है और चीन भी ठंडा हो रहा है और अमरीका के कुछ आर्थिक सूचक भी हाल के दिन में हल्के ही रहे हैं और बावजूद इसके फ़ेडरल रिज़र्व ने ब्याज़ दरें बढ़ा दी हैं और कहा है कि 2019 में भी ये बढ़ती रहेंगी."

वहीं वेस्टपेक की अर्थशास्त्री इलियट क्लार्क कहती हैं, "वाशिंगटन में राजनीतिक अस्थिरता बाज़ार में और अनिश्चितता पैदा कर रही है."

इसी बीच राष्ट्रपति ट्रंप के आर्थिक सलाहकार पीटार नावारो ने निकेई अख़बार से कहा है कि चीन और अमरीका के बीच जारी तनाव ख़त्म कने के लिए दोनों देशों के बीच दीर्घकालिक व्यापार समझौते तक पहुंचना मुश्किल होगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार