अफ़ग़ानिस्तान : सरकारी इमारत पर हमला, 28 की मौत

  • 25 दिसंबर 2018
काबुल में तैनात एक सैनिक इमेज कॉपीरइट EPA

अफ़ग़ानिस्तान की राजधानी काबुल के एक सरकारी परिसर में हुए आत्मघाती हमले में कम से कम 28 लोगों की मौत हो गई.

अधिकारियों के मुताबिक मरने वालों में पुलिस अधिकारी भी शामिल हैं. जवाबी कार्रवाई में तीन हमलावरों की भी मौत हो गई.

अधिकारियों ने जानकारी दी है कि लोक निर्माण (पब्लिक वर्क्स) मंत्रालय की इमारत की नाकेबंदी के दौरान कम से कम 20 अन्य लोग घायल भी हुए हैं.

हमले के वक़्त इमारत में सैंकड़ों कर्मचारी मौजूद थे जो अंदर फंस गए. रिपोर्टों के मुताबिक इनमें से कुछ कर्मचारी सुरक्षित बच निकलने के लिए इमारत के बाहर कूद गए.

अभी तक ये जानकारी नहीं हुई है कि हमला किस संगठन ने किया. अतीत में इस्लामिक स्टेट और तालिबान ऐसे हमलों को अंजाम दे चुके हैं.

पहले से कहीं अधिक ख़तरनाक क्यों हो गया है अफ़ग़ानिस्तान

अफ़ग़ानिस्तान में महिलाएं क्यों कर रही हैं आत्महत्या

इमेज कॉपीरइट EPA

कार बम से धमाका

रिपोर्टों के मुताबिक मंत्रालय की इमारत के प्रवेश द्वार के करीब आत्मघाती हमलावर ने कार बम से धमाका किया. इसके बाद बंदूकधारी हमलावर इमारत में दाखिल हो गए.

एक प्रत्यक्षदर्शी ने समाचार एजेंसी रायटर्स को बताया कि आसपास की इमारतों में मौजूद लोगों ने खुद को अंदर बंद कर लिया.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
अफगानिस्तान: नशे में डूबता बचपन

गृह मंत्रालय के प्रवक्ता नाजिब दानिश ने बताया कि लोक निर्माण कार्यालय में फंसे 350 से ज़्यादा लोगों को बाहर निकाल लिया गया है. उन्होंने बताया कि हमले में मारे गए लोगों और घायलों की संख्या में बदलाव हो सकता है. उन्होंने ये जानकारी भी दी कि मरने वालों में पुलिस अधिकारी भी शामिल हैं.

जवाबी कार्रवाई में तीन हमलावरों की भी मौत हो गई.

ये हमला होने के कुछ दिन पहले इस तरह की रिपोर्ट आईं थीं कि अमरीका अफ़ग़ानिस्तान में अपने सैनिकों की संख्या में भारी कटौती की योजना बना रहा है.

अफगानिस्तान-पाकिस्तान का झगड़ा क्या है

ट्रंप सोचें, अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान पहले से अधिक मज़बूत क्यों: इमरान ख़ान

क्रिकेट के जुनून में डूबा है अफ़ग़ानिस्तान

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार