बांग्लादेश के वनडे कप्तान और तेज़ गेंदबाज़ मशरफ़े मुर्तज़ा बने सांसद

  • 31 दिसंबर 2018
मशरफ़े मुर्तज़ा इमेज कॉपीरइट Getty Images

बांग्लादेश में प्रधानमंत्री शेख़ हसीना की पार्टी आवामी लीग ने आम चुनावों में एकतरफ़ा जीत दर्ज की है. इसके साथ ही बांग्लादेश क्रिकेट टीम के स्टार और वनडे टीम के कप्तान मशरफ़े मुर्तज़ा ने भी भारी जीत दर्ज की है.

तेंज़ गेंदबाज़ मुर्तज़ा ने चुनावी मैदान में अपने उम्मीदवार को क्लीन बोल्ड किया है. आवामी लीग के उम्मीदवार मुर्तज़ा ने अपने प्रतिद्वंद्वी को ढाई लाख से भी अधिक वोटों से हराया है.

नारायल-2 सीट के उम्मीदवार मुर्तज़ा को 2 लाख 71 हज़ार से अधिक वोट मिले जबकि जातीय ओइक्यो फ़्रंट गठबंधन के फ़रीदुज़्ज़मां फ़रहाद को 7,883 वोट मिले.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

वर्ल्ड कप तक क्रिकेट खेलेंगे

नौ दिसंबर को वेस्ट इंडीज़ के ख़िलाफ़ शुरू हुई तीन मैचों की वनडे सीरीज़ से पहले मुर्तज़ा ने कहा था कि वह चुनाव लड़ेंगे. साथ ही उन्होंने यह भी संकेत दिया था कि वह 2019 विश्व कप के बाद क्रिकेट से संन्यास ले लेंगे.

नवंबर में उन्होंने फ़ेसबुक पर लिखा था कि उनमें हमेशा राजनीति की इच्छा रही है और देश का विकास बिना राजनीति के संभव नहीं है और अब उन्हें देश के लिए कुछ करने का मौक़ा मिल रहा है.

मुर्तज़ा ने फ़ेसबुक की उस पोस्ट में इसके संकेत दिए थे कि वह 2019 विश्व कप के बाद क्या करेंगे, इसका उन्हें पता नहीं है इसलिए उन्होंने इस ओर ध्यान दिया.

उन्होंने कहा था कि उनकी प्राथमिकता देश के लिए विश्व कप खेलने की है और उन्हें प्रधानमंत्री शेख़ हसीना ने लोगों की सेवा का विकल्प दिया है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सांसद बनने वाले दूसरे कप्तान

35 वर्षीय मुर्तज़ा अब केवल एकदिवसीय मैच खेल रहे हैं क्योंकि उन्होंने चोटों के कारण 2009 में टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले लिया था.

उन्होंने 36 टेस्ट में 78 विकेट लिए हैं. इसके अलावा उन्होंने 2017 में क्रिकेट के सबसे छोटे फ़ॉर्मेट टी-20 से भी संन्यास ले लिया था.

मुर्तज़ा ने 54 अंतर्राष्ट्रीय टी-20 मैचों में 42 विकेट लिए हैं जबकि वह 202 अंतर्राष्ट्रीय एकदिवसीय मैच खेल चुके हैं और इसमें उन्होंने 258 विकेट लिए हैं.

ऐसा नहीं है कि मुर्तज़ा ऐसे पहले शख़्स हैं जो राष्ट्रीय क्रिकेट टीम के कप्तान रहे हों और सांसद बने हों. उनसे पहले नईमुर रहमान दुरजॉय पहली बार सांसद बने थे.

ये भी पढ़ें:

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार