अमरीका में सबसे ज़्यादा पढ़े-लिखे कौन? हिन्दू!

  • 8 जनवरी 2019
हिन्दू इमेज कॉपीरइट Getty Images

अमरीका में चार साल की कॉलेज डिग्री को आर्थिक तरक़्क़ी के लिए अहम माना जाता है. लेकिन धर्म के हिसाब से देखें तो कॉलेज की पढ़ाई पूरी करने को लेकर अलग-अलग धर्म के लोगों की तादाद अलग-अलग है.

कुछ धर्म ऐसे हैं, जिन्हें मानने वाले दूसरों की तुलना में कॉलेज की पढ़ाई पूरी करने को लेकर बाज़ी मार ले जाते हैं.

दिग्गज शोध कंपनी प्यू रिसर्च के मुताबिक़ कॉलेज डिग्री हासिल करने के मामले में हिन्दू (77%) सबसे आगे हैं, जिनके बाद यूनिटरियन यूनिवर्सलिस्ट (67%) आते हैं. यूनिटरियन यूनिवर्सलिस्ट लिबरल हैं, जो सत्य और अर्थ के लिए मुक्त और ज़िम्मेदार तलाश मे यक़ीन रखते हैं.

इन दो समुदाय के बाद यहूदी (59%), एंजलिकन चर्च (59%) और एपिस्कोपल चर्च (56%) को मानने वाले आते हैं.

इमेज कॉपीरइट Pew Research

ये नतीजे साल 2014 की रिलिजियस लैंडस्कैप स्टडी के हैं, जिसमें शैक्षणिक योग्यता के आधार पर अमरीका के 30 धार्मिक समुदायों को आंका गया है. इसमें अमरीका के 35 हज़ार कॉलेज ग्रेजुएट को शामिल किया गया था.

क्योंकि शिक्षा और आर्थिक तरक़्क़ी के मामले में अमरीका में हिन्दू और यहूदी आगे हैं, इसी वजह से अमरीका में पारिवारिक कमाई के मामले में भी यही दो समुदाय सबसे आगे हैं.

इस्लाम और देश छोड़ने वाली सऊदी युवती को नहीं भेजा जाएगा वापस

ट्रंप ने कहा, मैक्सिको दीवार के मामले में कोई समझौता नहीं करूंगा

साल 2014 की स्टडी के मुताबिक़ 44% यहूदी और 36% हिन्दू परिवार ऐसे हैं, जिनकी पारिवारिक कमाई कम से कम 1 लाख डॉलर से ज़्यादा है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

दूसरे धार्मिक समूह भी ऐसे हैं, जिनके पास औसत 27% से ज़्यादा डिग्री हासिल लोग हैं. इनमें बौद्ध, प्रेस्बाइटेरियन चर्च (अमरीका) - दोनों 47% और ऑर्थोडॉक्स ईसाई (40%), मुसलमान (39%) और मोरमोंस (33%) शामिल हैं.

क्योंकि कैथोलिक हर पांच में से एक वयस्क है, इसलिए कॉलेज डिग्री के साथ उनके सदस्यों की तादाद भी आम लोगों से मिलती-जुलती है, यानी 26 फ़ीसदी.

नेशनल बापटिस्ट कनवेंशन के पास 19%, अफ़्रीकन मेथडिस्ट एपिस्कोपल चर्च के पास 21% और साउदर्न बापटिस्ट कनवेंशन के पास 19% लोग कॉलेज डिग्री के साथ है.

जिन्नों से बिजली पैदा करने का नुस्ख़ा

बांग्लादेश: विपक्षी पार्टी को वोट देने पर किया गैंगरेप

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे