मैक्सिको दीवार के लिए ट्रंप ने की फ़ंड की मांग

  • 9 जनवरी 2019
डोनल्ड ट्रंप इमेज कॉपीरइट Getty Images

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने मैक्सिको से लगने वाली सीमा पर दीवार बनाए जाने के लिए फ़ंड की मांग की है.

उन्होंने कहा है कि यह दीवार "बढ़ते मानवीय और सुरक्षा संकट" को रोकने के लिए ज़रूरी है.

टीवी पर अपने पहले संबोधन में ट्रंप ने राष्ट्रीय आपातकाल की घोषणा नहीं की. उन्होंने पहले यह धमकी दी थी कि ससंद दीवार पर सहमति नहीं जताएगा तो वो देश में आपातकाल लागू कर देंगे.

डेमोक्रेट सांसद इस दीवार का विरोध कर रहे हैं. उन्होंने देश के सरकारी बजट से इस दीवार के निर्माण के लिए पांच अरब डॉलर ख़र्च करने की मंज़रूी देने से इनकार कर दिया था.

ट्रंप के इस क़दम को, सरकार को दीवार बनाने के लिए ज़रूरी धन जारी करने के लिए विपक्ष पर दबाव बनाने की रणनीति के रूप में देखा जा रहा है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ट्रंप ने ये भी कहा था कि सरकार का आंशिक कामकाज बंद करने के लिए वह तैयार हैं- अमरीका में कामबंदी का दौर तीसरे हफ्ते में प्रवेश कर गया है.

संघीय सरकार के लगभग आठ लाख कर्मचारी 22 दिसंबर से बिना वेतन के काम कर रहे हैं.

मंगलवार की रात टीवी पर आठ मिनट के अपने लाइव संबोधन में राष्ट्रपति ट्रंप ने सरकारी कामबंदी के लिए डेमोक्रेट्स को ज़िम्मेदार ठहराया.

उन्होंने सीमा पर स्थिति के बारे मे कहा, "यह एक मानवीय संकट है, दिल और आत्मा का संकट."

राष्ट्रपति ने कहा कि अमरीका में बेचे जाने वाले 90 फ़ीसदी हिरोइन मैक्सिको से आते हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

कामबंदी की वजह

कांग्रेस से बजट को वक़्त रहते मंज़ूरी नहीं मिली, क्योंकि राष्ट्रपति ट्रंप ने इस पर हस्ताक्षर करने से इनकार कर दिया था.

बजट पास ना होने की वजह से अमरीका आंशिक कामबंदी से जूझ रहा है.

22 दिंसबर से कामबंदी चल रही है. जिसकी वजह से एक चौथाई सरकार काम नहीं कर पा रही है. क़रीब आठ लाख कर्मचारी ऐसे हैं जो या तो छुट्टी पर हैं या बिना तनख्वाह के काम कर रहे हैं.

इन हालातों से निपटने के लिए सीनेट ने द्विदलीय समझौता करने की बात की, लेकिन ट्रंप ने दीवार की मांग ना माने जाने की वजह से बजट का समर्थन करने से फिर इनकार कर दिया.

रिपब्लिकन सांसदों के बहुमत वाले सदन में तो दीवार की फ़ंड से जुड़ा बिल पारित कर दिया गया, लेकिन 100 सीटों वाली सीनेट में उन्हें ज़रूरी 60 वोट नहीं मिले.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार