पोलर वोर्टेक्स से अमरीका में भीषण ठंड, 21 की मौत

  • 1 फरवरी 2019
न्यूयॉर्क में ठंड इमेज कॉपीरइट Getty Images

अमरीका में पिछले कई दशकों की सबसे भीषण ठंड पड़ रही है. उत्तरी ध्रुव की ओर से चल रहे बर्फ़ीले चक्रवात की वजह से अमरीका के मध्य-पश्चिम राज्यों में बर्फ़ की चादर बिछ गई है. इसे पोलर वोर्टेक्स कहा जा रहा है.

पोलर वोर्टेक्स की वजह से अभी तक अमरीका में कम से कम 21 लोगों की मौत हो चुकी है.

इसकी वजह से यहां के 9 करोड़ से अधिक लोग शून्य से -17 डिग्री तापमान में रहने को मजबूर हैं.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
पोलर वोर्टेक्सः ऐसी ठंड देखी है कभी?

स्कूल, व्यापारिक प्रतिष्ठान और सरकारी दफ़्तर बंद हैं. समूचे मध्य-पूर्व राज्यों में सैकड़ों की संख्या में फ़्लाइट्स रद्द हो गई हैं.

अस्पतालों में शीतलहर की चपेट में आने वाले लोगों का इलाज चल रहा है. इस मौसम का सबसे बुरा असर बेघर लोगों पर पड़ रहा है.

इमेज कॉपीरइट EPA

ओहियो में खाली घर से एक 60 वर्षीय महिला का शव बरामद हुआ है, इसके अलावा भी कुछ और शव मिले हैं.

अधिकारियों ने बताया है कि मशिगन में एक व्यक्ति का शव उसके घर के पास मिला, उस व्यक्ति ने मौसम के अनुसार कपड़े नहीं पहने थे.

इसी तरह एक 18 वर्षीय छात्र अपने हॉस्टल से कुछ दूरी पर बेहोश हालत में मिला. वहां पर -46 डिग्री की ठंडी हवाएं चल रही थीं. बाद में उस छात्र की अस्पताल में मौत हो गई.

शिकागो शहर में पारा शून्य से तीस डिग्री सेल्सियस नीचे हैं. शहर के मेयर ने लोगों से बाहर न निकलने की अपील की है. शिकागो नदी जम गई है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption शिकागो नदी जम चुकी है

मध्य-पश्चिम राज्यों विस्कॉन्सिन, मिशिगन और इलिनॉय के साथ ही आमतौर पर गर्म रहने वाले दक्षिणी राज्यों अलबामा और मिसीसिपी में आपातकाल घोषित कर दिया गया है.

विस्कॉन्सिन में एक व्यक्ति की अपने गैराज में मौत हो गई. स्वाथ्य अधिकारी के अनुसार वह व्यक्ति गैराज में जमा हुई बर्फ़ हटाने गए थे, लेकिन ठंड के कारण जीवित नहीं बच सके.

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption मिनिसोटा में तापमान -37 डिग्री तक जा पहुंचा है

मौसम का पूर्वानुमान लगाने वालों का अनुमान है कि देश के सबसे व्यस्त शहरों में से एक शिकागो में आने वाले दिनों में अंटार्कटिका से भी अधिक ठंड पड़ सकती है.

सड़कों पर बर्फ़ की मोटी चादर बिछी हुई है. बहुत सी मौतों के पीछे सड़क दुर्घटनाएं भी बताई जा रही हैं. शिकागो में एक शख्स का शव मिला है जिनकी मौत सड़क पर जमी बर्फ़ में फंसने की वजह से हुई थी.

इसी तरह एक युवा जोड़े का शव का मिला है, उनकी गाड़ी बर्फ़ीली सड़क पर फिसल गई थी.

10 राज्यों इलिनॉय, आयोवा, मिनिसोटा, नॉर्थ डैकोटा, साउथ डैकोटा, विसकॉन्सिन, कैनसस, मिज़ौरी और मोंटाना में जमकर बर्फ़बारी हो रही है.

इमेज कॉपीरइट AFP

मौसम विभाग का अनुमान?

मौनम विभाग का अनुमान है कि आने वाले दिनों में बर्फीली ठंड से थोड़ी राहत मिल सकती है.

शिकागो में सप्ताह के अंत तक तापमान बढ़कर 10 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचने का अनुमान है.

अमरीका में राष्ट्रीय मौसम सेवा के एक फॉरकास्टर ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स को बताया कि शिकागो के तापमान करीब 60 डिग्री तक का अंतर आ सकता है.

इमेज कॉपीरइट EPA

ठंड की वजह से स्थानीय लोगों का जीवन बहुत हद तक प्रभावित हुआ है. रियान कोकूरेक शिकागो में ही रहते हैं.

वहां के हालात के बारे में बीबीसी को बताते हुए उन्होंने कहा, "ये अविश्वसनीय है. मैंने जैसे ही घर के बाहर क़दम रखा ठंडी हवा का ऐसा थपेड़ा पड़ा कि सांस लेना मुश्किल हो गया. ये ऐसा है जैसे हवा में ऑक्सीजन ही न रही हो, दम घुट रहा हो, और अगर आपकी नाक बह रही है तो ये और भी ख़तरनाक है क्योंकि अचानक ही आपकी नाक जम जाती है. ये मेरे जीवन का सबसे अजीब अनुभव है."

पोलर वोर्टेक्स कहे जाने वाले ध्रुवीय चक्रवात की वजह से अमरीका के कई हिस्सों में जानलेवा ठंड पड़ रही है. कॉटन, मिन्नेसोटा में अमरीका के दो सबसे ठंडे इलाके रहे.

यहां गुरुवार को -48 डिग्री सेल्सियस तापमान रिकॉर्ड किया गया.

इमेज कॉपीरइट AFP

पोलर वोर्टेक्स की वजह से मौसम विभाग ने तापमान के शून्य से -40 से -70 डिग्री सेल्सियस तक नीचे जाने की चेतावनी जारी की थी.

इमेज कॉपीरइट EPA

बताया गया था शिकागो में तापमान अंटार्कटिका से भी कम रहेगा.

इमेज कॉपीरइट EPA

इसकी वजह से कम से कम साढ़े पांच करोड़ लोगों को जमानेवाले ठंड के अनुभव होने का अनुमान लगाया जा रहा है.

इमेज कॉपीरइट EPA

इलिनॉय प्रांत के गवर्नर ने आपातकाल लगा दिया है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

आईओवा प्रांत के लोगों को गहरी सांसें न लेने और कम बातचीत करने की सलाह दी गई है.

इमेज कॉपीरइट AFP

दक्षिणी प्रांतों अलबामा और जॉर्जिया में भी बर्फ़बारी हो सकती है. ये ध्रुवीय चक्रवात उत्तरी ध्रुव से दक्षिण की ओर बढ़ रहा है.

इमेज कॉपीरइट SHAFAQ FAROOQ/BBC
Image caption कश्मीर

इधर भारत में लगातार पड़ती जबरदस्त सर्दी का कारण भी पोलर वोर्टेक्स को बताया जा रहा है.

इमेज कॉपीरइट SHAFAQ FAROOQ/BBC
Image caption कश्मीर

मौसम विभाग उत्तर भारत में पड़ती कड़ाके की ठंड में जबरदस्त सर्दी आर्कटिक से आने वाली सर्द हवाओं के कारण हो सकती है.

इमेज कॉपीरइट SHAFAQ FAROOQ/BBC
Image caption कश्मीर

मौसम विभाग के अनुसार पोलर वोर्टेक्स (ध्रुवीय चक्रवात) से हवाओं में उतार-चढ़ाव के कारण पिछले साल दिसंबर से लेकर अब तक ठंड का असर उत्तर भारत में बढ़ता दिखा है.

ये भी देखें:

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार