दुनिया की राजनीति में अहम मुकाम बनाने वाला 'प्ले बॉय'

  • 10 फरवरी 2019
पोर्फिरियो रुबिरोस इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption रूबिरोसा ने कुल पांच शादियां की. इनमें से एक शादी उन्होंने अमरीकी अरबपति महिला डॉरिस ड्यूक से की.

कुछ लोग उन्हें 'द लास्ट बॉय' कहते हैं तो कुछ लोग उन्हें 'जिगोलो' कहते हैं.

लेकिन 20वीं सदी में शायद ही कोई हो जो डोमिनिकन के पोर्फिरियो रूबिरोस को ना जानते हों. वो एक राजनयिक, पोलो प्लेयर, कार रेसर पायलट और जिगोलो भी थे.

वह जानते थे कि 1940 और 1950 के दशक में सत्ता के लोगों से कंधे से कंधा कैसे मिलाना है. वो दर्जनों महिलाओं के साथ प्रेम-संबंध में रहे. उन्होंने पांच महिलाओं से शादी की, जिनमें से दो करोड़पति थीं.

लेकिन ये दिलचस्प है कि कैसे एक मध्यम-वर्ग का डोमिनिकन शख्स वैश्विक राजनीति के एक प्रमुख स्थान पर काबिज़ हो गया.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कौन थे रूबिरोस?

पोर्फिरियो रूबिरोस का जन्म 1909 में डोमिनिकन गणराज्य में हुआ था. उन्होंने अपने जीवन के 56 साल दुनिया के कई देशों में बिताए.

रूबिरोस की बॉयोग्राफी ''द लास्ट प्ले बॉयः द हाई लाइफ़ ऑफ़ पोर्फिरियो रूबिरोस'' के लेखक स्वान लेवी का कहना है कि 'वो दुनिया के सबसे रोचक इंसान' थे.

अमीरों- शक्तिशाली लोगों से दोस्ती करने का उनमें ज़बरदस्त हुनर था, खासतौर पर अमीर महिलाओं से दोस्ताना रिश्ते कायम करने में उन्हें बेहद कम वक्त लगता.

उनका बचपन पेरिस में बीता, जब वो पेरिस से वापस आए तो सेना में शामिल हो गए. इस दौरान वो डोमिनिकन के तत्कालीन राष्ट्रपति राफ़ेल लियोनिडास तुरजिलो की नज़रों में आए.

उनकी बेटी फ्लोर ऑफ़ गोल्ड से रूबिरोस ने शादी की.

लेवी कहते हैं, ''तुरजिलो, रूबिरोस में एक बेहद महत्वकांक्षी व्यक्ति देखते थे. एक व्यक्ति जो किसी से भी मिलता तो उसे अपनी ओर आकर्षित कर लेता.''

रूबिरोस अपने चार्म का इस्तेमाल अमीरों को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए करते थे. उन्हें एक '' बेहतरीन प्रेमी" की तरह भी जाना जाता था.

लेवी कहती हैं, "वह हर तरह से संपन्न थे और ऐसे में अमीर महिलाएं उनके साथ होना चाहती थीं."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

एक 'जिगोलो'

रूबिरोस ने कुल पांच शादियां की. इनमें से एक शादी उन्होंने अमरीकी अरबपति महिला डॉरिस ड्यूक से की. ड्यूक एक तंबाकू कंपनी की मालिक थीं.

दोनों की दोस्त रहीं हेलेन रोकास ने कहा था, ''ड्यूक खिलौनों की शौकीन थीं लेकिन रूबी खिलौना नहीं थे.''

उन्होंने बारबरा हटन से भी शादी की थी. जो न्यूयॉर्क की एक व्यवसायिक परिवार से ताल्लुक रखती थीं.

संयोग था कि ड्यूक और हटन दोस्त थीं लेकिन वक्त के साथ उनकी दोस्ती प्रतिस्पर्धा में बदल गई.

हटन से रूबिरोस की शादी दो महीनों तक ही चली लेकिन रूबिरोस ने इस शादी से 11 मिलियन डॉलर हासिल किए.

लेवी कहते हैं, ''वो जिगोलो थे, वो पैसे के बदले प्यार बेचा करते थे.''

रूबिरोस किसी धनी परिवार से नहीं आते थे लेकिन उन्होंने आर्थिक रूप से काफी अच्छी ज़िंदगी जी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

क्या वो जासूस थे?

रूबिरोस के बारे में कहा जाता है कि वो 1930-1961 के बीच जब सेना में काम करते थे तो उस दौरान वे डोमिनिकन के राष्ट्रपति तुरजिलो के लिए जासूसी किया करते थे.

जब रूबिरोस डोमिनिकन के राजदूत थे तो इस दौरान वे बर्लिन, पेरिस, विंसी. ब्रूनो एरिस, रेम, ब्रूसेल्स और हवाना में रहे.

लेवी कहते हैं, ''वे एक राजनयिक थे और मुझे लगता है कि राजनयिक कुछ मामलों में जासूस हैं, "लेकिन वह जेम्स बॉन्ड नहीं थे, उसके पास जासूस होने के उपकरण तो नहीं थे."

''वो ऐसे शख़्स थे जो कि किसी राजा से हाथ मिलाते तो रानी के साथ सेक्स संबंध भी बना सकते थे.''

साल 1946 में उन पर एक हमला भी हुआ था. ये हमला उस वक्त उनकी पत्नी अभिनेत्री डेनियल डेरिक्स पर किया गया था. उस वक्त अपनी पत्नी का बचाव करते हुए उन्हें तीन गोलियां लगी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

एक दुखद अंत

1965 में 56 साल की उम्र में पोर्फिरियो रुबिरोस की एक दुर्घटना में मृत्यु हो गई. कहा जाता है कि नशे में धुत रुबिरोस की गाड़ी पेरिस में एक पेड़ से जा टकराई थी.

कई लोगों का तो ये भी कहना है कि रूबिरोस की हत्या की गई या फिर उन्होंने आत्महत्या कर ली. हालांकि लेवी इन दावों को कारिज करते हैं.

वो कहते हैं, "उनके पास कुछ नहीं था, वो किसी के लिए ख़तरा भी नहीं थे."

लेखक कहते हैं, "कई लोगों को लग सकता है कि रूबी जैसे इंसान को दुनिया में होना ही नहीं चाहिए. लेकिन मैं उनकी तारीफ करता हूं. वो एक ऐसे शख्स थे जिनके पास लोगों को खुश रखने की कला था. उन्होंने अपना जीवन शान से व्यतीत किया. कुछ बेहद सफल और अमीर लोगों के बीच उन्होंने खुद को फ़िट कर लिया."

लेवी मज़ाक में कहते हैं, "मुझे नहीं लगता कि वो एक बुरे आदमी थे, लेकिन मुझे खुशी है कि वो मेरी बेटी से नहीं मिले."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार